Rudraksha As per Lagan-Rashi-Nakshtra

  • Home
  • Blog
  • Rudraksha As per Lagan-Rashi-Nakshtra

Rudraksha As per Lagan-Rashi-Nakshtra

Rudraksha As per Lagan-Rashi-Nakshtra: जन्म लग्न के अनुसार रुद्राक्ष धारण

भारतीय ज्योतिष शास्त्र के अनुसार रत्न धारण करने के लिए जन्म लग्न का उपयोग सर्वाधिक प्रचलित है। रत्न प्रकृति का एक अनुपम उपहार है, जो आदि काल से ग्रह दोषों और अन्य समस्याओं से मुक्ति हेतु धारण किया जाता रहा है। आपकी कुंडली के अनुरूप सही और दोषमुक्त रत्न धारण करना फलदायी होता है। अन्यथा उपयोग करने पर यह नुकसानदेह भी हो सकता है। वर्तमान समय में शुद्ध एवं दोषमुक्त रत्न बहुत कीमती हो गए हैं, जिससे वे जनसाधारण की पहुंच के बाहर हो गए हैं। अतः विकल्प के रूप में रुद्राक्ष धारण एक सरल एवं सस्ता उपाय है। रुद्राक्ष धारण से कोई नुकसान भी नहीं है, बल्कि यह किसी न किसी रूप में जातक को लाभ ही प्रदान करता है। क्योंकि रुद्राक्ष पर ग्रहों के साथ साथ देवताओं का वास माना जाता है।

According to Indian astrology, wearing gemstones based on one’s birth ascendant (Janma Lagna) is the most prevalent practice. Gemstones are considered a unique gift of nature and have been worn since ancient times to counteract planetary doshas and other problems. Wearing the right gemstone according to your birth chart can be beneficial and help mitigate doshas. On the other hand, using the wrong gemstone can have adverse effects.

Currently, pure and dosha-free gemstones have become quite expensive, making them beyond the reach of the general public. As an alternative, wearing Rudraksha beads is a simple and affordable solution. There are no harmful effects of wearing Rudraksha beads; in fact, they are believed to bring positive changes to the wearer’s life. Rudraksha beads are considered to be associated not only with planets but also with various deities.

कुंडली में त्रिकोण अर्थात लग्न, पंचम एवं नवम भाव सर्वाधिक बलशाली माना गया है। लग्न अर्थात जीवन, आयुष्य एवं आरोग्य, पंचम अर्थात बल, बुद्धि, विद्या एवं प्रसिद्धि, नवम अर्थात भाग्य एवं धर्म। अतः लग्न के अनुसार कुंडली के त्रिकोण भाव के स्वामी ग्रह कभी अशुभ फल नहीं देते, अशुभ स्थान पर रहने पर भी मदद ही करते हैं। इसलिए इनके रुद्राक्ष धारण करना सर्वाधिक शुभ है। इस संदर्भ में एक संक्षिप्त विवरण यहां तालिका में प्रस्तुत है। हमने कई बार देखा है कि कुंडली में शुभ-योग मौजूद होने के बावजूद उन योगों से संबंधित ग्रहों के रत्न धारण करना लग्नानुसार अशुभ होता है। उदाहरण के रूप में मकर लग्न में सूर्य अष्टमेश हो, तो अशुभ और चंद्र सप्तमेश हो, तो मारक होता है। मंगल चतुर्थेष-एकादशेष होने पर भी लग्नेष शनि का शत्रु होने के कारण अशुभ नहीं होता। गुरु तृतीयेश-व्ययेश होने के कारण अत्यंत अशुभ होता है। ऐसे में मकर लग्न के जातकों के लिए माणिक्य, मोती, मूंगा और पुखराज धारण करना अशुभ है।

According to the principles of Indian astrology, the triangular houses, namely the first (Lagna), fifth (Pancham), and ninth (Navam) houses, are considered the most powerful. The Lagna represents life, longevity, and health; the Pancham signifies strength, intelligence, knowledge, and fame; and the Navam denotes luck and righteousness. Therefore, the lords of these houses, based on the Lagna, never give unfavorable results and even when placed in malefic positions, they still offer some assistance. Hence, wearing Rudraksha beads related to these planets is considered highly auspicious.

In this context, a brief description is presented in the table below. We have observed many times that despite having favorable Yogas in the birth chart, wearing gemstones related to the planets involved in those Yogas can be inauspicious based on the Lagna. For example, if the Sun is the lord of the eighth house for Capricorn Ascendant, it becomes malefic, and if the Moon is the lord of the seventh house, it becomes a Maraka (death-inflicting) planet. Even when Mars is the lord of the fourth and eleventh houses, it does not become inauspicious due to its enmity with the Lagna lord. Jupiter, if the lord of the third or twelfth house, is highly inauspicious. Consequently, for individuals with Capricorn Ascendant, wearing gemstones like Ruby, Pearl, Red Coral, and Yellow Sapphire can be inauspicious.

लग्न त्रिकोणाधिपति ग्रह लाभकारी रुद्राक्ष,

मेष मंगल-सूर्य-गुरु ३ मुखी + 1 या १२ मुखी + ५ मुखी,

वृषश् शुक्र-बुध-शनि या १३ मुखी + ४ मुखी + या १४ मुखी,

मिथुन बुध-शुक्र-शनि ४ मुखी + या १३ मुखी + या १४ मुखी,

कर्क चंद्र-मंगल-गुरु २ मुखी + ३ मुखी + ५ मुखी,

सिंह सूर्य-गुरु-मंगल 1 या १२ मुखी + ५ मुखी + ६ मुखी,

कन्या बुध-शनि-षुक्र ४ मुखी + या १४ मुखी + या १३ मुखी,

तुला शुक्र-शनि-बुध या १३ मुखी + या १४ मुखी + ४ मुखी,

वृष्चिक मंगल-गुरु-चंद्र ३ मुखी + ५ मुखी + २ मुखी,

धनु गुरु-मंगल-सिंह ५ मुखी + ३ मुखी + 1 या १२ मुखी,

मकर शनि-षुक्र-बुध या १४ मुखी + या १३ मुखी + ४ मुखी,

कुंभ शनि-बुध-षुक्र या १४ मुखी + ४ मुखी + या १३ मुखी,

मीन गुरु-चंद्र-मंगल ५ मुखी + २ मुखी + ३ मुखी,

here is the list of auspicious Rudraksha beads based on the Lagna (Ascendant)

Aries (Mesha) – Beneficial Rudraksha: Mars-Sun-Jupiter combination (3 mukhi + 1 or 12 mukhi + 5 mukhi)

Taurus (Vrishabha) – Beneficial Rudraksha: Venus-Mercury-Saturn combination (6 or 13 mukhi + 4 mukhi + 7 or 14 mukhi)

Gemini (Mithuna) – Beneficial Rudraksha: Mercury-Venus-Saturn combination (4 mukhi + 6 or 13 mukhi + 7 or 14 mukhi)

Cancer (Karka) – Beneficial Rudraksha: Moon-Mars-Jupiter combination (2 mukhi + 3 mukhi + 5 mukhi)

Leo (Simha) – Beneficial Rudraksha: Sun-Jupiter-Mars combination (1 or 12 mukhi + 5 mukhi + 6 mukhi)

Virgo (Kanya) – Beneficial Rudraksha: Mercury-Saturn-Venus combination (4 mukhi + 7 or 14 mukhi + 6 or 13 mukhi)

Libra (Tula) – Beneficial Rudraksha: Venus-Saturn-Mercury combination (6 or 13 mukhi + 7 or 14 mukhi + 4 mukhi)

Scorpio (Vrishchika) – Beneficial Rudraksha: Mars-Jupiter-Moon combination (3 mukhi + 5 mukhi + 2 mukhi)

Sagittarius (Dhanu) – Beneficial Rudraksha: Jupiter-Mars-Sun combination (5 mukhi + 3 mukhi + 1 or 12 mukhi)

Capricorn (Makar) – Beneficial Rudraksha: Saturn-Venus-Mercury combination (7 or 14 mukhi + 6 or 13 mukhi + 4 mukhi)

Aquarius (Kumbha) – Beneficial Rudraksha: Saturn-Mercury-Venus combination (7 or 14 mukhi + 4 mukhi + 6 or 13 mukhi)

Pisces (Meen) – Beneficial Rudraksha: Jupiter-Moon-Mars combination (5 mukhi + 2 mukhi + 3 mukhi)

here is the list of Rudraksha beads along with their respective mantras in English:

  • 1 Mukhi – Shiva – Om Namah Shivaya. Om Hreem Namah.
  • 2 Mukhi – Ardhanarishwar – Om Namah.
  • 3 Mukhi – Agnidev – Om Kleem Namah.
  • 5 Mukhi – Kalagni (Rudra) – Om Hreem Namah.
  • 6 Mukhi – Kartikeya – Indra, Indrani – Om Hreem Hum Namah.
  • 7 Mukhi – Nagaraj Anant, Saptarishi, Saptamatrikas – Om Hum Namah.
  • 8 Mukhi – Bhairav, Ashtavinayak – Om Hum Namah.
  • 9 Mukhi – Maa Durga – Om Hreem Dum Durgayai Namah, Om Hreem Hum Namah.
  • 10 Mukhi – Vishnu – 1 – Om Namo Bhavate Vasudevaya, 2 – Om Hreem Namah.
  • 11 Mukhi – Ekadash Rudra – Om Tatpurushaya Vidmahe Mahadevay Dhimahi Tanno Rudrah Prachodayat.
  • 12 Mukhi – Surya – Om Hreem Ghreen Surya Aditya Shreem, Om Kraum Kshraum Raum Namah.
  • 13 Mukhi – Kartikeya, Indra – Aim Hum Kshum Kleem Kumaraay Namah, Aim Hum Kshum Kleem Kumaraay Namah, Om Hreem Namah.
  • 14 Mukhi – Shiva, Hanuman, Agya Chakra – Om Namah.
  • 15 Mukhi – Pashupati – Om Pashupatyai Namah.
  • 16 Mukhi – Mahamrityunjay, Mahakal – Om Hraum Joom Sah Tryambakam Yajamahe Sugandhim Pushti Vardhanam Urvarukamiva Bandhanan Mrityor Mukshiya Maamritat, Sah Joom Hraum Om.
  • 17 Mukhi – Vishwakarma, Maa Katyayani – Om Vishwakarmane Namah.
  • 18 Mukhi – Maa Parvati – Om Namo Bhagavate Narayanaya.
  • 19 Mukhi – Narayan – Om Namo Bhavate Vasudevaya.
  • 20 Mukhi – Brahma – Om Satchid Ekam Brahm.
  • 21 Mukhi – Kubera – Om Yakshaay Kuberaay Vaishravanaay Dhanadhaanyaadhipataye Dhanadhaanya Samriddhim Me Dehi Dapaya Svaha.

१ मुखी-शिव- ॐ नमः शिवाय । ॐ ह्रीं नमः

२ मुखी – अर्धनारीश्वर -ॐ नमः

३ मुखी – अग्निदेव-ॐ क्लीं नमः

४ मुखी ब्रह्मा,सरस्वती ॐ ह्रीं नमः

५ मुखी – कालाग्नि -रुद्र ॐ ह्रीं नमः

६ मुखी – कार्तिकेय- इन्द्र, इंद्राणी ॐ ह्रीं हुं नमः

७ मुखी – नागराज अनंत-सप्तर्षि,सप्तमातृकाएँ ॐ हुं नमः

८ मुखी – भैरव-अष्ट विनायक ॐ हुं नमः

९ मुखी – माँ दुर्गा-ॐ ह्रीं दुं दुर्गायै नमः/|ॐ ह्रीं हुं नमः

१० मुखी – विष्णु -१-ॐ नमो भवाते वासुदेवाय २-ॐ ह्रीं नमः

११ मुखी – एकादश रुद्र- ॐ तत्पुरुषाय विदमहे महादेवय धीमही तन्नो रुद्रः प्रचोदयात

१२ मुखी – सूर्य-ॐ ह्रीम् घृणिः सूर्यआदित्यः श्रीं|ॐ क्रौं क्ष्रौं रौं नमः

१३ मुखी – कार्तिकेय, इंद्र-ऐं हुं क्षुं क्लीं कुमाराय नमः ऐं हुं क्षुं क्लीं कुमाराय नमः|ॐ ह्रीं नमः

१४ मुखी – शिव,हनुमान,आज्ञा चक्र ॐ नमः

१५ मुखी – पशुपति ॐ पशुपत्यै नमः

१६ मुखी – महामृत्युंजय, महाकाल ॐ ह्रौं जूं सः त्र्यंबकम् यजमहे सुगंधिम् पुष्टिवर्धनम उर्वारुकमिव बंधनान्मृत्योर्मुक्षीय सः जूं ह्रौं ॐ               

१७ मुखी – विश्वकर्मा ,माँ कात्यायनी ॐ विश्वकर्मणे नमः

१८ मुखी – माँ पार्वती ॐ नमो भगवाते नारायणाय

१९ मुखी – नारायण ॐ नमो भवाते वासुदेवाय

२० मुखी – ब्रह्मा ॐ सच्चिदेकं ब्रह्म

२१ मुखी – कुबेर ॐ यक्षाय कुबेराय वैश्रवणाय धनधान्याधिपतये धनधान्य समृद्धिं मे देहि दापय स्वाहा

आपकी ग्रह–राशि–नक्षत्र के अनुसार रुद्राक्ष धारण करें

here is the list of Rudraksha beads associated with each planet and zodiac sign along with the number of faces (mukhi):

Mars (Mangal) – Aries (Mesh) – Mrigashirsha, Chitra, Dhanishta – 3 Mukhi

Venus (Shukra) – Taurus (Vrishabh) – Bharani, Purva Phalguni, Purva Ashadha – 6 Mukhi, 13 Mukhi, 15 Mukhi

Mercury (Budh) – Gemini (Mithun) – Ashlesha, Jyeshtha, Revati – 4 Mukhi

Moon (Chandra) – Cancer (Kark) – Rohini, Hast, Shravan – 2 Mukhi, Gauri-Shankar Rudraksha

Sun (Surya) – Leo (Simha) – Krittika, Uttara Phalguni, Uttara Ashadha – 1 Mukhi, 12 Mukhi

Mercury (Budh) – Virgo (Kanya) – Ashlesha, Jyeshtha, Revati – 4 Mukhi

Venus (Shukra) – Libra (Tula) – Bharani, Purva Phalguni, Purva Ashadha – 6 Mukhi, 13 Mukhi, 15 Mukhi

Mars (Mangal) – Scorpio (Vrishchik) – Mrigashirsha, Chitra, Dhanishta – 3 Mukhi

Jupiter (Guru) – Sagittarius-Pisces (Dhanu-Meen) – Punarvasu, Vishakha, Purva Bhadrapada – 5 Mukhi

Saturn (Shani) – Capricorn-Aquarius (Makar-Kumbh) – Pushya, Anuradha, Uttara Bhadrapada – 7 Mukhi, 14 Mukhi

Saturn (Shani) – Capricorn-Aquarius (Makar-Kumbh) – Pushya, Anuradha, Uttara Bhadrapada – 7 Mukhi, 14 Mukhi

Jupiter (Guru) – Sagittarius-Pisces (Dhanu-Meen) – Punarvasu, Vishakha, Purva Bhadrapada – 5 Mukhi

Rahu – Gemini-Virgo (Ardra-Swati-Shatabhisha) – 8 Mukhi, 18 Mukhi

Ketu – Aries-Leo (Ashwini-Magha-Moola) – 9 Mukhi, 17 Mukhi

यहां ग्रहों, राशियों, और नक्षत्रों के साथ लाभकारी रुद्राक्ष की सूची है:

मंगल – मेष – मृगषिरा, चित्रा, धनिष्ठा – ३ मुखी

शुक्र – वृषभ – भरणी, पूर्वाफाल्गुनी, पूर्वाषाढ़ा – ६ मुखी, १३ मुखी, १५ मुखी

बुध – मिथुन – आष्लेषा, ज्येष्ठा, रेवती – ४ मुखी

चन्द्र – कर्क – रोहिणी, हस्त, श्रवण – २ मुखी, गौरी-शंकर रुद्राक्ष

सूर्य – सिंह – कृत्तिका, उत्तराफाल्गुनी, उत्तराषाढ़ा – १ मुखी, १२ मुखी

बुध – कन्या – आष्लेषा, ज्येष्ठा, रेवती – ४ मुखी

शुक्र – तुला – भरणी, पूर्वाफाल्गुनी, पूर्वाषाढ़ा – ६ मुखी, १३ मुखी, १५ मुखी

मंगल – वृष्चिक – मृगषिरा, चित्रा, धनिष्ठा – ३ मुखी

गुरु – धनु-मीन – पुनर्वसु, विषाखा, पूर्वाभाद्रपद – ५ मुखी

शनि – मकर-कुंभ – पुष्य, अनुराधा, उत्तराभाद्रपद – ७ मुखी, १४ मुखी

शनि – मकर-कुंभ – पुष्य, अनुराधा, उत्तराभाद्रपद – ७ मुखी, १४ मुखी

गुरु – धनु-मीन – पुनर्वसु, विषाखा, पूर्वाभाद्रपद – ५ मुखी

राहु – आर्द्रा-स्वाति-षतभिषा – ८ मुखी, १८ मुखी

केतु – अष्विनी-मघा-मूल – ९ मुखी, १७ मुखी

नवग्रह दोष निवारणार्थ – १० मुखी, २१ मुखी

अंकषास्त्र के अनुसार रुद्राक्ष-धारण-Rudraksha As per Numerology

जिन जातकों जन्म लग्न, राशि, नक्षत्र नहीं मालूम हैं वे अंक ज्योतिष के अनुसार जातक को अपने मूलांक, भाग्यांक और नामांक के अनुरूप रुद्राक्ष धारण कर सकते हैं।

१ से ९ तक के अंक मूलांक होते हैं। प्रत्येक अंक किसी ग्रह विशेष का प्रतिनिधित्व करता है, जैसे अंक 1 सूर्य, २ चंद्र, ३ गुरु, ४ राहु, ५ बुध, ६ शुक्र, ७ केतु, ८ शनि और ९ मंगल का। अतः जातक को मूलांक, भाग्यांक और नामांक से संबंधित ग्रह के रुद्राक्ष धारण करने चाहिए।

As per Numerology (Ankshastra), Rudraksha wearing is determined based on a person’s root number (moolank), destiny number (bhagyank), and name number (namank) for those individuals whose birth ascendant (janma lagna), zodiac sign (rashi), and birth star (nakshatra) are not known. Each number from 1 to 9 corresponds to a specific planet, such as number 1 represents the Sun, 2 represents the Moon, 3 represents Jupiter, 4 represents Rahu, 5 represents Mercury, 6 represents Venus, 7 represents Ketu, 8 represents Saturn, and 9 represents Mars. Therefore, a person should wear Rudraksha beads related to the planet represented by their root number, destiny number, and name number.

आप अपने कार्य-क्षेत्र के अनुसार भी रुद्राक्ष धारण कर सकते हैं।

कुछ लोगों के पास जन्म कुंडली इत्यादि की जानकारी नहीं होती, वे लोग अपने कार्यक्षेत्र के अनुसार भी रुद्राक्ष का लाभ उठा सकते हैं। कार्य की प्रकृति के अनुरूप रुद्राक्ष-धारण करना कैरियर के सर्वांगीण विकास हेतु शुभ एवं फलदायी होता है। किस कार्य क्षेत्र के लिए कौन सा रुद्राक्ष धारण करना चाहिए, इसका एक संक्षिप्त विवरण यहां प्रस्तुत है।

For those individuals who do not have information about their birth charts or horoscopes, they can still benefit from wearing Rudraksha beads based on their field of work or career. Wearing Rudraksha beads that align with the nature of their work fosters overall development and brings positive outcomes in their career. Below is a brief description of which Rudraksha beads to wear for different fields of work:

१. नेता-मंत्री-विधायक सांसदों के लिए – १ और १४ मुखी।

२. प्रशासनिक अधिकारियों के लिए – १ और १४ मुखी।

३. जज एवं न्यायाधीशों के लिए – २ और १४ मुखी।

४. वकील के लिए – ४, ६ और १३ मुखी।

५. बैंक मैनेजर के लिए – ११ और १३ मुखी।

६. बैंक में कार्यरत कर्मचारियों के लिए – ४ और ११ मुखी।

७. चार्टर्ड एकाउन्टेंट एवं कंपनी सेक्रेटरी के लिए – ४, ६, ८ और १२ मुखी।

८. एकाउन्टेंट एवं खाता-बही का कार्य करने वाले कर्मचारियों के लिए – ४ और १२ मुखी।

९. पुलिस अधिकारी के लिए – ९ और १३ मुखी।

१०. पुलिस/मिलिट्री सेवा में काम करने वालों के लिए – ४ और ९ मुखी।

११. डॉक्टर एवं वैद्य के लिए – १, ७, ८ और ११ मुखी।

१२. फिजीशियन (डॉक्टर) के लिए – १० और ११ मुखी।

१३. सर्जन (डॉक्टर) के लिए – १०, १२ और १४ मुखी।

१४. नर्स-केमिस्ट-कंपाउण्डर के लिए – ३ और ४ मुखी।

१५. दवा-विक्रेता या मेडिकल एजेंट के लिए – १, ७ और १० मुखी।

१६. मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव के लिए – ३ और १० मुखी।

१७. मेकैनिकल इंजीनियर के लिए – १० और ११ मुखी।

१८. सिविल इंजीनियर के लिए – ८ और १४ मुखी।

१९. इलेक्ट्रिकल इंजीनियर के लिए – ७ और ११ मुखी।

२०. कंप्यूटर सॉफ्टवेयर इंजीनियर के लिए – १४ मुखी और गौरी-शंकर।

२१. कंप्यूटर हार्डवेयर इंजीनियर के लिए – ९ और १२ मुखी।

२२. पायलट और वायुसेना अधिकारी के लिए – १० और ११ मुखी।

२३. जलयान चालक के लिए – ८ और १२ मुखी।

२४. रेल-बस-कार चालक के लिए – ७ और १० मुखी।

२५. प्रोफेसर एवं अध्यापक के लिए – ४, ६ और १४ मुखी।

२६. गणितज्ञ या गणित के प्रोफेसर के लिए – ३, ४, ७ और ११ मुखी।

२७. इतिहास के प्रोफेसर के लिए – ४, ११ और ७ या १४ मुखी।

२८. भूगोल के प्रोफेसर के लिए – ३, ४ और ११ मुखी।

२९. क्लर्क, टाइपिस्ट, स्टेनोग्रॉफर के लिए – १, ४, ८ और ११ मुखी।

३०. ठेकेदार के लिए – ११, १३ और १४ मुखी।

३१. प्रॉपर्टी डीलर के लिए – ३, ४, १० और १४ मुखी।

३२. दुकानदार के लिए – १०, १३ और १४ मुखी।

३३. मार्केटिंग एवं फायनांस व्यवसायिओं के लिए – ९, १२ और १४ मुखी।

३४. उद्योगपति के लिए – १२ और १४ मुखी।

३५. संगीतकारों-कवियों के लिए – ९ और १३ मुखी।

३६. लेखक या प्रकाशक के लिए – १, ४, ८ और ११ मुखी।

३७. पुस्तक व्यवसाय से संबंधित एजेंट के लिए – १, ४ और ९ मुखी।

३८. दार्शनिक और विचारक के लिए – ७, ११ और १४ मुखी।

३९. होटल मालिक के लिए – १, १३ और १४ मुखी।

४०. रेस्टोरेंट मालिक के लिए – २, ४, ६ और ११ मुखी।

४१. सिनेमाघर-थियेटर के मालिक या फिल्म-डिस्ट्रीब्यूटर के लिए – १, ४, ६ और ११ मुखी।

४२. सोडा वाटर व्यवसाय के लिए – २, ४ और १२ मुखी।

४३. फैंसी स्टोर, सौन्दर्य-प्रसाधन सामग्री के विक्रेताओं के लिए – ४, ६ और ११ मुखी रुद्राक्ष।

४४. कपड़ा व्यापारी के लिए – २ और ४ मुखी।

४५. बिजली की दुकान-विक्रेता के लिए – १, ३, ९ और ११ मुखी।

४६. रेडियो दुकान-विक्रेता के लिए – १, ९ और ११ मुखी।

४७. लकडी+ या फर्नीचर विक्रेता के लिए – १, ४, ६ और ११ मुखी।

४८. ज्योतिषी के लिए – १, ४, ११ और १४ मुखी रुद्राक्ष ।

४९. पुरोहित के लिए – १, ९ और ११ मुखी।

५०. ज्योतिष तथा र्धामिक कृत्यों से संबंधित व्यवसाय के लिए – १, ४ और ११ मुखी।

५१. जासूस या डिटेक्टिव एंजेसी के लिए – ३, ४, ९, ११ और १४ मुखी।

५२. जीवन में सफलता के लिए – १, ११ और १४ मुखी।

५३. जीवन में उच्चतम सफलता के लिए – १, ११, १४ और २१ मुखी।

  • a summary of which Rudraksha beads are suitable for individuals based on their respective professions:
  • Political Leaders and Members of Parliament: 1 Mukhi and 14 Mukhi Rudraksha.
  • Administrative Officers: 1 Mukhi and 14 Mukhi Rudraksha.
  • Judges: 2 Mukhi and 14 Mukhi Rudraksha.
  • Lawyers: 4 Mukhi, 6 Mukhi, and 13 Mukhi Rudraksha.
  • Bank Managers: 11 Mukhi and 13 Mukhi Rudraksha.
  • Bank Employees: 4 Mukhi and 11 Mukhi Rudraksha.
  • Chartered Accountants and Company Secretaries: 4 Mukhi, 6 Mukhi, 8 Mukhi, and 12 Mukhi Rudraksha.
  • Accountants and Bookkeepers: 4 Mukhi and 12 Mukhi Rudraksha.
  • Police Officers: 9 Mukhi and 13 Mukhi Rudraksha.
  • Military Personnel: 4 Mukhi and 9 Mukhi Rudraksha.
  • Doctors and Physicians: 1 Mukhi, 7 Mukhi, 8 Mukhi, and 11 Mukhi Rudraksha.
  • Surgeons: 10 Mukhi, 11 Mukhi, and 14 Mukhi Rudraksha.
  • Pharmacists and Chemists: 3 Mukhi and 4 Mukhi Rudraksha.
  • Medical Representatives: 1 Mukhi, 7 Mukhi, and 10 Mukhi Rudraksha.
  • Mechanical Engineers: 10 Mukhi and 11 Mukhi Rudraksha.
  • Civil Engineers: 8 Mukhi and 14 Mukhi Rudraksha.
  • Electrical Engineers: 7 Mukhi and 11 Mukhi Rudraksha.
  • Computer Software Engineers: 14 Mukhi and Gauri Shankar Rudraksha.
  • Computer Hardware Engineers: 9 Mukhi and 12 Mukhi Rudraksha.
  • Pilots and Air Force Officers: 10 Mukhi and 11 Mukhi Rudraksha.
  • Ship Captains: 8 Mukhi and 12 Mukhi Rudraksha.
  • Railway-Bus-Car Drivers: 7 Mukhi and 10 Mukhi Rudraksha.
  • Professors and Teachers: 4 Mukhi, 6 Mukhi, and 14 Mukhi Rudraksha.
  • Mathematicians and Mathematics Professors: 3 Mukhi, 4 Mukhi, 7 Mukhi, and 11 Mukhi Rudraksha.
  • History Professors: 4 Mukhi, 11 Mukhi, and 7 or 14 Mukhi Rudraksha.
  • Geography Professors: 3 Mukhi, 4 Mukhi, and 11 Mukhi Rudraksha.
  • Clerks, Typists, and Stenographers: 1 Mukhi, 4 Mukhi, 8 Mukhi, and 11 Mukhi Rudraksha.
  • Contractors: 11 Mukhi, 13 Mukhi, and 14 Mukhi Rudraksha.
  • Real Estate Agents: 3 Mukhi, 4 Mukhi, 10 Mukhi, and 14 Mukhi Rudraksha.
  • Shopkeepers: 10 Mukhi, 13 Mukhi, and 14 Mukhi Rudraksha.
  • Marketing and Finance Professionals: 9 Mukhi, 12 Mukhi, and 14 Mukhi Rudraksha.
  • Business Owners: 12 Mukhi and 14 Mukhi Rudraksha.
  • Musicians and Poets: 9 Mukhi and 13 Mukhi Rudraksha.
  • Writers and Publishers: 1 Mukhi, 4 Mukhi, 8 Mukhi, and 11 Mukhi Rudraksha.
  • Book Agents: 1 Mukhi, 4 Mukhi, and 9 Mukhi Rudraksha.
  • Philosophers and Thinkers: 7 Mukhi, 11 Mukhi, and 14 Mukhi Rudraksha.
  • Hotel Owners: 1 Mukhi, 13 Mukhi, and 14 Mukhi Rudraksha.
  • Restaurant Owners: 2 Mukhi, 4 Mukhi, 6 Mukhi, and 11 Mukhi Rudraksha.
  • Cinema-Theater Owners or Film Distributors: 1 Mukhi, 4 Mukhi, 6 Mukhi, and 11 Mukhi Rudraksha.
  • Soda Water Business: 2 Mukhi, 4 Mukhi, and 12 Mukhi Rudraksha.
  • Fancy Store Owners or Beauty Product Sellers: 4 Mukhi, 6 Mukhi, and 11 Mukhi Rudraksha.
  • Cloth Merchants: 2 Mukhi and 4 Mukhi Rudraksha.
  • Electrical Appliance Sellers: 1 Mukhi, 3 Mukhi, 9 Mukhi, and 11 Mukhi Rudraksha.
  • Radio Dealers: 1 Mukhi, 9 Mukhi, and 11 Mukhi Rudraksha.
  • Furniture Sellers: 1 Mukhi, 4 Mukhi, 6 Mukhi, and 11 Mukhi Rudraksha.
  • Jyotishis or Astrologers: 1 Mukhi, 4 Mukhi, 11 Mukhi, and 14 Mukhi Rudraksha.
  • Priests: 1 Mukhi, 9 Mukhi, and 11 Mukhi Rudraksha.
  • Professionals in Occult Sciences or Gemology: 1 Mukhi, 4 Mukhi, and 11 Mukhi Rudraksha.
  • Individuals involved in occult practices and spiritual endeavors: 1 Mukhi, 11 Mukhi, and 14 Mukhi Rudraksha.
  • Individuals seeking overall success in life: 1 Mukhi, 11 Mukhi, and 14 Mukhi Rudraksha.
  • Individuals seeking the highest level of success in life: 1 Mukhi, 11 Mukhi, 14 Mukhi, and 21 Mukhi Rudraksha.

1. रुद्राक्ष क्या है और यह कैसे लाभप्रद होते हैं?

रुद्राक्ष एक प्रकार की प्राकृतिक बीज माला होती है, जिसका धारणा भक्ति और सुख-शांति की प्राप्ति में मदद कर सकता है। यह ग्रहों, राशियों और नक्षत्रों के साथ जुड़े हुए भी लाभकारी होते हैं।

2. ग्रहों और राशियों के साथ कैसे लाभकारी रुद्राक्ष जुड़ते हैं?

ग्रहों और राशियों के साथ लाभकारी रुद्राक्ष का धारणा करने से उन ग्रहों के दोष कम हो सकते हैं और सुख-शांति में सहायक हो सकते हैं।

3. रुद्राक्ष के कितने प्रकार होते हैं और इनका अलग-अलग महत्व क्या होता है?

रुद्राक्ष बीज के आठनवें प्रकार तक के २१ मुखियों तक के होते हैं, और इनका अलग-अलग ग्रहों, राशियों और नक्षत्रों के साथ जुड़ा महत्व होता है।

4. रुद्राक्ष का धारण कैसे किया जाता है?

रुद्राक्ष का धारण विशेष तरीके से किया जाता है। आपको उसे सफेद या पीले रंग के धागे में बांधना होता है और उसे गले में धारण करना होता है।

5. क्या रुद्राक्ष के प्राप्ति के लिए व्रत आदि आवश्यक है?

व्रत और उपासना से रुद्राक्ष के प्राप्ति में आसानी हो सकती है, लेकिन यह अनिवार्य नहीं है। आप सामान्य तरीके से भी रुद्राक्ष प्राप्त कर सकते हैं।

6. क्या रुद्राक्ष का धारण सभी के लिए सुरक्षित होता है?

जी हां, रुद्राक्ष का धारण सभी के लिए सुरक्षित होता है। लेकिन, किसी भी नये उपासक को पहले विशेषज्ञ सलाह लेना उचित होता है।

7. यदि किसी ग्रह का दोष हो तो क्या रुद्राक्ष उसका निवारण कर सकता है?

हां, कुछ रुद्राक्ष ग्रहों के दोष को कम करने और निवारण करने में मदद कर सकते हैं। इसके लिए आपको उचित मुखियों का चयन करना होता है जो उस ग्रह से संबंधित होते हैं।

One thought on “Rudraksha As per Lagan-Rashi-Nakshtra

  1. Very nice guru ji

Leave a Reply

Categories