The Miraculous Benefits of 8 Mukhi Rudraksh

  • Home
  • Blog
  • The Miraculous Benefits of 8 Mukhi Rudraksh

The Miraculous Benefits of 8 Mukhi Rudraksh

8 Mukhi Rudraksh: आठ मुखी रुद्राक्ष के चमत्कारिक लाभ

मुखी रुद्राक्ष आठ पर्वत शिखरों के समान होती है और इन पर्वत शिखरों की शक्ति को इसमें समाहित करती है। जब कोई व्यक्ति इस रुद्राक्ष को उचित दीक्षा और मंत्रों के साथ पहनता है, तो यह दिन को आठ भागों में विभाजित करती है और धारक को सर्वांगीण समृद्धि प्रदान करती है।

The 8 Mukhi Rudraksh is akin to eight mountain peaks and holds the power of these peaks within it. When a person wears this Rudraksh after proper consecration and charging with mantras, it divides the day into eight segments, granting the wearer all-round prosperity.

यह रुद्राक्ष सभी रुद्राक्षों में सर्वोच्च मानी जाती है, सुमेरु पर्वत के समान है। इस रुद्राक्ष को धारण करने वाले व्यक्ति सभी प्रयासों में सफलता प्राप्त करते हैं। यदि इसे दो पारद (बुद्ध) मोतियों के साथ मिलाया जाए, तो यह बुद्धि को बढ़ाता है, धन के लिए नए अवसर खोलता है और सामग्री समृद्धि के लिए अवसर प्रदान करता है।

This bead is considered the pinnacle among all the Rudrakshas, equivalent to Mount Sumeru. Those who wear this Rudraksh achieve success in all their endeavors. If combined with two Parad (Mercury) beads, it enhances intelligence, opens new opportunities for wealth, and material abundance.

मुखी (आठ मुखी) रुद्राक्ष शक्तिशाली ग्रह राहु के अधीन होती है, जिसके कारण यह किसी भी व्यक्ति के जन्मकुंडली में अशुभ राहु के लिए लाभकारी होती है। यह चरित्र और मानसिक शक्ति को बढ़ाती है, सुख, प्रसिद्धि, अच्छी सेहत और आत्मविश्वास में वृद्धि करती है।

8 Mukhi (Eight-faced) Rudraksh is ruled by the powerful planet Rahu, making it beneficial for malefic Rahu in a person’s birth chart. It boosts character and mental strength, promoting happiness, fame, good health, and increased self-confidence.

The Advantages of 8 Mukhi Rudraksh (८ मुखी रुद्राक्ष के लाभ)

मुखी रुद्राक्ष माना जाता है कि यह भगवान गणेश को प्रतिष्ठित करता है, जो भगवान शिव और पार्वती के पुत्र हैं। इस रुद्राक्ष को धारण करने से धन, समृद्धि और जीवन में आने वाली बाधाएं कम होती हैं।

The 8 Mukhi Rudraksh is believed to represent Lord Ganesha, the son of Lord Shiva and Parvati. Wearing this bead brings prosperity and reduces obstacles in life.

इस रुद्राक्ष को धारण करने वाले व्यक्ति को दीर्घायु लाभ मिलता है और वे सत्यनिष्ठ बनते हैं। उन्हें रोगों से मुक्ति मिलती है, अत्यधिक बुद्धिमान बनते हैं, अध्ययन में उत्कृष्टता प्राप्त करते हैं और पापाचार से दूर रहते हैं।

Individuals who wear this Rudraksh are blessed with longevity and become truthful beings. They remain free from diseases, possess exceptional intelligence, and excel in their studies. Moreover, they stay away from sinful acts.

यह रुद्राक्ष मानसिक एकाग्रता को बढ़ाता है, इसलिए व्यापारी समुदाय के लिए विशेष रूप से उपयुक्त है। इससे दांपत्य या सट्टेबाजी, घोड़े की रेस और लाटरी के मामलों में मदद मिलती है।

This bead enhances mental concentration, making it particularly useful for the business community. It also aids in matters of speculation, horse racing, and lottery.

The Significance of 8 Mukhi Rudraksh (८ मुखी रुद्राक्ष का महत्व)

मुखी रुद्राक्ष को अशुभ ग्रह राहु से जोड़ा जाता है, और इसका उपयोग किया जाने पर कहा जाता है कि यह राहु के अशुभ प्रभाव को नष्ट करता है। इसे धारण करने वाले व्यक्ति को राहु के अशुभ प्रभाव से राहत मिलती है।

8 Mukhi Rudraksh is associated with the malefic planet Rahu, and its usage is said to nullify the malefic effects of Rahu. Those who wear it experience relief from the malefic influence of Rahu.

इस रुद्राक्ष का एक अहम फायदा यह है कि यह बाधाएं दूर करने में मदद करता है, जिससे जीवन के विभिन्न पहलुओं में सफलता होती है। इससे धारण करने वाले को दिव्य सुरक्षा का अनुभव होता है और विरोध के खिलाफ रक्षा करता है।

One of the most important effects of this Rudraksh is that it helps dispel obstacles, leading to success in various aspects of life. It bestows the wearer with divine protection and shields against opposition.

यह रुद्राक्ष भगवान कार्तिकेय से जुड़ा हुआ है, जो भगवान गणेश के वृद्ध भाई और भगवान शिव के प्रथम पुत्र हैं।

This bead is linked to Lord Kartikeya, the elder brother of Lord Ganesha and the eldest son of Lord Shiva.

https://kntiwari.com/ganesha-chaturthi-2009/

The Spiritual Significance of 8 Mukhi Rudraksh (८ मुखी रुद्राक्ष का आध्यात्मिक महत्व)

आठ मुखी रुद्राक्ष के उपाय राहू के बुरे प्रभावों से बचने के लिए इस रुद्राक्ष को पहनने की सलाह दी जाती है। अगर कोई व्यक्ति इसे पहनता है तो उस पर राहू की कुदृष्टि का कोई प्रभाव नहीं पड़ता है।अकाल मृत्यु और कई तरह के भय से भी मुक्ति मिलती है।

Wearing 8 Mukhi Rudraksh is recommended for countering the malefic effects of Rahu and seeking the blessings of Lord Ganesha. It ensures success in all endeavors with the divine support of Lord Ganesha.

माना जाता है कि जो भी व्यक्ति आठ मुखी रुद्राक्ष को धारण करता है उसे मृत्यु के उपरांत भगवान शिव का साथ मिलता है।ज्ञान, सम्मान और शक्ति पाने के लिए भी इसे पहन सकते हैं।आठ मुखी रुद्राक्ष अपने पहनने वाले के जीवन से सभी प्रकार की बाधाओं को दूर करने में मदद करता है।यह समग्र सफलता सुनिश्चित करता है और पहनने वाला कभी भी अपने विरोधियों से हार का सामना नहीं करता है।

This Rudraksh is believed to provide protection against untimely death and various fears. It is said that those who wear it receive the presence of Lord Shiva after death.

The Method of Wearing 8 Mukhi Rudraksh (८ मुखी रुद्राक्ष को धारण करने का तरीका)

मुखी रुद्राक्ष को सोमवार को, पूर्णिमा या अमावस्या के दिनों को धारण किया जाना चाहिए। इसे धारण करने से पहले, “हुं नमः” मंत्र का १०८ बार जाप करें।

8 Mukhi Rudraksh should be worn on a Monday, during Purnima (full moon), or Amavasya (new moon) days. Before wearing it, chant the mantra “Om Hum Namah” 108 times.

Health Benefits of 8 Mukhi Rudraksh (८ मुखी रुद्राक्ष के स्वास्थ्य लाभ)

  1. Improved Respiratory Health: Wearing the 8 Mukhi Rudraksha is thought to have a positive impact on respiratory health. It may help in alleviating issues related to the respiratory system, such as asthma, bronchitis, and other breathing difficulties.
  2. Stress Relief: This Rudraksha is associated with calming energies that can aid in reducing stress and anxiety. It promotes a sense of tranquility and inner peace, leading to overall emotional well-being.
  3. Enhanced Immunity: It is believed that the 8 Mukhi Rudraksha strengthens the immune system, helping the body to better fight off infections and diseases.
  4. Regulated Blood Pressure: Wearing this Rudraksha may have a stabilizing effect on blood pressure levels, benefitting individuals dealing with hypertension or fluctuating blood pressure.
  5. Alleviation of Skin Problems: The 8 Mukhi Rudraksha is also associated with promoting skin health. It may help in reducing skin issues and improving overall skin texture.
  6. Relief from Body Pains: It is believed to possess properties that can help in alleviating various types of body pains, such as headaches, muscle aches, and joint pains.
  7. Improved Digestion: This Rudraksha is thought to aid in digestion and may help individuals suffering from digestive disorders.
  8. Enhanced Energy and Vitality: Wearing the 8 Mukhi Rudraksha is said to boost energy levels and vitality, promoting an overall sense of well-being.

  1. सुधारित श्वसन स्वास्थ्य: ८ मुखी रुद्राक्ष को पहनने से श्वसन स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव माना जाता है। यह दमा, ब्रोंकाइटिस, और अन्य श्वसन संबंधी समस्याओं को कम करने में मदद कर सकता है।
  2. तनाव कम करना: इस रुद्राक्ष को शांति प्रदान करने वाली ऊर्जा से जोड़ा जाता है, जो तनाव और चिंता को कम करने में मदद कर सकता है। यह आत्मिक शांति को बढ़ावा देता है और सामान्य भावनात्मक कल्याण को प्रोत्साहित करता है।
  3. मजबूत प्रतिरक्षा: ८ मुखी रुद्राक्ष को शरीर की प्रतिरक्षा को मजबूत करने के लिए योग्य माना जाता है, जिससे शरीर इंफेक्शन और बीमारियों से बेहतर रूप से लड़ सकता है।
  4. नियंत्रित रक्तचाप: यह रुद्राक्ष रक्तचाप स्तरों पर स्थिरता प्रदान करने के लिए माना जाता है, जिससे उच्च रक्तचाप या फिरक्तियों के साथ लड़ने वाले व्यक्तियों को लाभ हो सकता है।
  5. त्वचा समस्याओं के उपशमन: ८ मुखी रुद्राक्ष को त्वचा स्वास्थ्य को बढ़ावा देने से जोड़ा जाता है। यह त्वचा की समस्याओं को कम करने और त्वचा की बढ़ती हुई गुणवत्ता को सुधारने में मदद कर सकता है।
  6. शरीर के दर्द से राहत: इसमें से यह धारक को विभिन्न प्रकार के शरीर के दर्द, जैसे सिरदर्द, मांसपेशियों का दर्द और जोड़ों का दर्द कम करने में मदद करने के गुण हो सकते हैं।
  7. सुधारित पाचन: यह रुद्राक्ष पाचन को सुधारने में मदद करने में माना जाता है और पाचन विकार से पीड़ित व्यक्तियों को सहायता कर सकता है।
  8. ऊर्जा और जीवनशक्ति की समृद्धि: ८ मुखी रुद्राक्ष को पहनने से शरीर में ऊर्जा और जीवनशक्ति की वृद्धि होने की कथनी है, जो सामान्य भावनात्मक समृद्धि को प्रोत्साहित करती है।

आठ मुखी रुद्राक्ष फेफड़ों के रोगों को नियंत्रित करने में सहायक है। यह याददाश्त को बढ़ाता है। प्राचीन वैदिक ग्रंथों के अनुसार, एक 8 मुखी रुद्राक्ष नर्वस सिस्टम, प्रोस्ट्रेट, पित्ताशय और फेफड़ों के रोगों, सांपों के डर से बचाता है। मोतियाबिंद, हाइड्रोसिल और श्वसन संबंधी समस्याओं के इलाज के लिए बेहद अनुकूल है।

8 Mukhi Rudraksh is beneficial for controlling diseases related to the lungs. It improves memory and helps with various nervous system, prostate, liver, and lung-related issues. It is also considered helpful in treating ailments like hydrocele and snake phobia.

८ मुखी रुद्राक्ष के विशेष गुण: (The special qualities of the 8 Mukhi Rudraksha)

राहु के ग्रह प्रभाव इस मनके द्वारा ठीक हो जाते हैं और इसलिए यह रहस्यमय प्रकार के रोगों में सहायक है और प्राचीन वैदिक ग्रंथों के अनुसार बुरी आत्माओं के खिलाफ एक कवच प्रदान करता है। सर्प दंश भी राहु के पुरुष प्रभाव का परिणाम है और यह रुद्राक्ष ऐसे मामलों में भी सहायक है। प्राचीन वैदिक ग्रंथों के अनुसार, यह रुद्राक्ष दु: स्वप्न, त्वचा रोग और फेफड़े, पैर, त्वचा और हाइड्रोसिओल के रोगों को ठीक करने में बहुत मददगार बताया गया है। बार-बार विफल होने के कारण यह पहनने वाले को तनाव और चिंता से बचाता है। यह रुद्राक्ष उन लोगों के लिए भी बहुत अच्छा है, जिनकी कुंडली में “सर्प दोष” (5 वें घर में ग्रह राहु) है। एक आठ मुखी रुद्राक्ष मोटे तौर पर ज्योतिषियों द्वारा उपयोग किया जाता है और जो लोग भोग में रुचि रखते हैं क्योंकि यह उनके लिए बहुत अच्छा है।

It is believed to nullify the malefic effects of the planet Rahu, making it helpful in mysterious ailments and according to ancient Vedic scriptures, it provides a shield against malevolent entities. The influence of Rahu also leads to snakebites, and this Rudraksha is beneficial in such cases as well. As per the ancient Vedic texts, this Rudraksha is highly effective in curing nightmares, skin diseases, respiratory issues, leg ailments, skin problems, and hydrocele. It helps the wearer avoid repeated failures and protects them from stress and anxiety. This Rudraksha is also beneficial for those who have “Sarp Dosha” (Rahu in the 5th house of their birth chart). The 8 Mukhi Rudraksha is widely used by astrologers and is considered very favorable for those inclined towards material pleasures.

Who Should Wear 8 Mukhi Rudraksh? 8 मुखी रुद्राक्ष किसे धारण करनी चाहिए?

The 8 Mukhi Rudraksha represents the eighth form of Lord Ganesha. Wearing it provides the wearer with discernment, intelligence, power, self-control, prosperity, and success. This Rudraksha is particularly suitable for students, businessmen, and individuals aspiring for success in their careers. Its influence brings joy, happiness, and balance to the person, guiding them on the path of progress in life.

8 मुखी रुद्राक्ष भगवान गणेश के अष्टम रूप को प्रतिस्थित करती है। इसे धारण करने से धारक को विवेक, बुद्धि, शक्ति, संयम, समृद्धि और सफलता की प्राप्ति में मदद मिलती है। यह रुद्राक्ष खास रूप से विद्यार्थियों, व्यापारियों, और नौकरी में सफलता प्राप्त करने के इच्छुक व्यक्तियों के लिए उपयुक्त होती है। इसके धारण से व्यक्ति को आनंद, सुख, और संतुलन की अनुभूति होती है और वह अपने जीवन में प्रगति का मार्ग धारण करता है।

8 मुखी रुद्राक्ष एक ऐसा धार्मिक Rudraksh  है जिसे धारण करने से वह लोग जो किसी भी कार्य में सफलता प्राप्त करने में कठिनाइयों का सामना करते हैं और जिनका जीवन बाधाओं और समस्याओं से भरा होता है, उन्हें लाभ मिलता है।

The 8 Mukhi Rudraksha is a sacred bead that brings benefits to those who face challenges in achieving success in any endeavor and have their lives filled with obstacles and problems.

इसे शनि के प्रमुख या मामूली कष्ट के दौर से गुजर रहे व्यक्ति को 7 मुखी रुद्राक्ष के साथ धारण करना चाहिए, ताकि उन्हें मिलने वाले कष्टों से मुक्ति मिल सके। इस से त्वचा रोग, सांप का डर, मोतियाबिंद और हाइड्रोसियोल जैसी परेशानियों से पीड़ित लोगों को बहुत लाभ होता है।

8 Mukhi Rudraksh is recommended for individuals who face difficulties in achieving success and are burdened with life’s obstacles. It is especially beneficial for those undergoing the malefic effects of Saturn or facing significant challenges.

Leave a Reply

Categories