18 Mukhi Rudraksha

  • Home
  • Blog
  • 18 Mukhi Rudraksha

18 Mukhi Rudraksha

अष्टदशीमुखी रुद्राक्ष का महत्व ( Importance of 18 Mukhi Rudraksha)

18 Mukhi Rudraksha, 18  मुखों वाले रुद्राक्ष का संबंध पृथ्वी से है जिस कारण इसे धारण करने वाला व्यक्ति शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ तथा बुद्धिमान होता है। शिशु के रोगों से निवारण के लिए इस प्रकार के rudraksha का प्रयोग किया जाता है।

The 18 Mukhi Rudraksha is associated with the element of Earth, which is why the wearer becomes physically and mentally healthy and intelligent. This type of Rudraksha is used to prevent ailments in children

18 मुखी रुद्राक्ष देवी पृथ्वी या भूमि देवी या पृथ्वी की प्रतिनिधि है, जो भगवान विष्णु की दिव्य पत्नी हैं। भूमि देवी की कृपा और प्रेम उनके भक्त या 18 मुखी रुद्राक्ष धारी के साथ अद्भुत है। ग्रंथों और हिंदू लेखों के अनुसार, भगवान की यह पत्नी पवित्र स्वरूप में देवी हैं। कहा जाता है कि यह धारण करने वाले को भूमि देवी भी रक्षा करती है, भूस्खलन और भूकंप से बचाती है, इसलिए इसे ‘भूमि रुद्राक्ष’ भी कहा जाता है।

The 18 faced rudraksha represents Goddess Earth or Goddess Bhumi Devi, who is the divine wife of Lord Vishnu. It is believed that wearing this bead brings incomparable blessings and affection from Goddess Bhumi Devi to the wearer.

प्राकृतिक अठारह मुखी रुद्राक्ष को शनि की ग्रहस्थिति के प्रभावित होने वाले लोगों के नाम से भी जाना जाता है। यह रुद्राक्ष उन लोगों के लिए फायदेमंद होती है जो किसी भी प्रकार के भविष्यवाणीकारी व्यापार में शामिल हैं। यह व्यक्ति को सभी नकारात्मक ऊर्जाओं से मुक्त करती है। मूल अठारह मुखी रुद्राक्ष धारक की पिछली पाप को मिटा देती है और उसे तार्किक निर्णय लेने में मदद करती है।

The natural eighteen mukhi rudraksha is also known as “Maha Shan” as it is believed to be beneficial for those affected by the planetary position of Shani (Saturn). People involved in speculative businesses may find it helpful as it removes negative energies and aids in making logical decisions.

18 मुखी रुद्राक्ष की विशेषताएं और उत्पत्ति: Properties and Origin

18 मुखी रुद्राक्ष समृद्धि के लिए सबसे शक्तिशाली रुद्राक्ष है। यह रुद्राक्ष व्यक्ति को स्थिर, संगठित और व्यवस्थित बनाती है। यह मनुष्य को सभी चुनौतियों का सामना करने की ताक़त देती है और उसे संतुलित और पृथ्वी से जुड़ा हुआ बनाती है।

The 18 Mukhi Rudraksha is the most powerful bead for prosperity. It makes the person stable, organized, and systematic. This bead gives strength to face all challenges and makes the person balanced and connected to the earth.

18 मुखी रुद्राक्ष दो प्रकार से उपलब्ध है, नेपाल और जावा वैरायटी। नेपाल वैरायटी में गहरी मुखी लाइनें होती हैं। वहीं, जावा बीड्स में चिकनी लाइनें होती हैं। नेपाल वैरायटी की 18 मुखी रुद्राक्ष का उच्च चिकित्सा फ़्रीक्वेंसी होती है, और जावा बीड्स को कुछ कम समय में परिणाम दिखाने में होता है। लेकिन जब लंबे समय के फ़ायदे की बात आती है, तो दोनों वैरायटी उचित परिणाम दिखाते हैं।

The 18 mukhi rudraksha is considered the most powerful for prosperity. It makes the wearer stable, organized, and systematic, enabling them to face challenges with strength. There are two varieties available, Nepal and Java, with slight differences in appearance, but both offer relevant long-term benefits.

18 मुखी रुद्राक्ष के लाभ: Benefits of 18 Mukhi Rudraksha

अठारह मुखी रुद्राक्ष धारक को मां भूमि की कृपा से स्वास्थ्य, बुद्धि और समृद्धि प्राप्त होती है। अठारह मुखी रुद्राक्ष बीड्स पहनने के कई अन्य लाभ हैं

The wearer of the 18 Mukhi Rudraksha receives blessings from Mother Earth, leading to good health, intelligence, and prosperity. There are many other benefits of wearing the 18 Mukhi Rudraksha beads

सामान्य लाभ: Normal Benefits :

धारक में संतुलन, जड़ी-बूटी और ताक़त का गुण प्रदान करती है।

भूमि तत्व के विकृति को शांत करती है और धारक को तप, धैर्य, स्थामित्व, और सहनशीलता की ऊर्जा प्रदान करती है।

Brings balance, strength, and grounded nature to face challenges.

Pacifies the imbalance of the earth element and grants qualities of penance, patience, stamina, and tolerance..

आध्यात्मिक लाभ: Spiritual Benefits :  

मंगल ग्रह के अशुभ प्रभाव को नियंत्रित करती है।

इस रुद्राक्ष को पहनते समय गायत्री मंत्र का जाप करने से अधिकतम लाभ मिलता है।

आध्यात्मिक साधना को प्रदान करती है।

Controls malefic effects of planet Mars.

Chanting the Gayatri Mantra while wearing it enhances its benefits.

Offers spiritual growth and attainment

स्वास्थ्य लाभ Health Benefits :

जीर्णाशोथ, पाचन तंत्र को सुधारती है।

बच्चों के स्वास्थ्य के लिए शिल्ड की तरह काम करती है।

शिशुओं को प्राक्तन प्रसव से बचाती है।

मोटापा, बवासीर, घुटने दर्द, और पैरों के दर्द से सम्बंधित बीमारियों से मुक्त रहने के लिए अच्छी है।

The 18 Mukhi Rudraksha improves digestion and aids in relieving gastric issues. It acts as a shield for children’s health and protects them from ailments. It is beneficial for pregnant women, preventing premature deliveries. Moreover, it is good for dealing with obesity, piles, knee pain, and leg pain-related issues.

18 मुखी रुद्राक्ष धारण करने की विधि: Procedure to Wear 18 Mukhi Rudraksha

हमेशा सिफारिश की जाती है कि बीड्स को पहनने से पहले उन्हें पहले प्राणित किया जाए। इसे सिफारिश किया जाता है कि इन बीड्स को सोमवार को ही पहनें। इस रुद्राक्ष को पहनते समय “ॐ नमः शिवाय” मंत्र का कम से कम 108 बार जाप करें।

Before wearing the bead, it is recommended to energize it and wear it on a Monday. While wearing it, chanting the mantra “Om Namaha Shivaya” at least 108  times is beneficial.

धारण मंत्र–‘ह्रीं हूं एकत्व रूपे हूं ह्रीं ॐ’

Mantra for wearing the 18 Mukhi Rudraksha – “Om Hreem Hoom Ekatva Roopay Hoom Hreem Om”

एक मूल 18 मुखी रुद्राक्ष को पहनते समय कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी है:

अठारह मुखी रुद्राक्ष को धारण करने से पहले उसे एक दिन के लिए गंगा जल में रखें। सुबह स्नान करें और पूर्व दिशा की ओर बैठें।

इसे आप ऊन या रेशमी धागे में पहन सकते हैं या इसे चांदी या सोने में कैप करवा सकते हैं।

Keep the bead in Ganga Jal (holy water) for a day before wearing it.

You can wear it in wool or silk thread or get it capped in silver or gold.

Wear it around your neck as a necklace or on your hand as a bracelet, closer to your skin for maximum effects.

इसके अलावा, कुछ महत्वपूर्ण बातों का ध्यान रखना भी जरूरी है: Precautions while wearing

इसे आप अपने गले में एक माला के रूप में धारण कर सकते हैं या इसे हाथ में ब्रेसलेट के रूप में पहन सकते हैं। 54+1 या 108+1 बीड्स की 18 मुखी के माला और ब्रेसलेट धारण करने से धारक को शक्ति से भरी सहायता मिलती है।

You can wear the 18 Mukhi Rudraksha either as a necklace or as a bracelet on your hand. Wearing a mala or bracelet with 54+1 or 108+1 beads of 18 Mukhi Rudraksha provides the wearer with powerful support and benefits.

बीड्स को पूरी तरह से धारक की त्वचा के पास ही धारण किया जाना चाहिए ताकि पूरे प्रभाव को दिखाया जा सके। धारक इसे सोने से पहले बेड से निकाल सकते हैं।

The beads should be worn closer to the wearer’s skin to show their full effect. The wearer can remove them before sleeping or before going to bed.

अपने बीड्स किसी को न दें।इसे पहनते समय नॉन-वेज भोजन न करें। रुद्राक्ष पहनने के बाद शराब का सेवन न करें।

Avoid giving your beads to anyone and refrain from consuming non-veg food and alcohol after wearing it.

कौन 18 मुखी रुद्राक्ष पहन सकते हैं? Who can wear 18 Mukhi Rudraksha?

वास्तविक 18 मुखी रुद्राक्ष बीड्स उन लोगों के लिए आदर्श हैं जो रियल एस्टेट और भूमि संबंधित लेन-देन करते हैं। इसलिए, इस रुद्राक्ष का उपयोग निर्माता, सिविल इंजीनियर, भूमि के मालिक, रियल एस्टेट डीलर और व्यापारियों के लिए उपयुक्त है। इसके साथ ही, पत्थरों, लोहे के खनिजों, रत्नों, हीरे के व्यापारियों, कृषि विज्ञानियों और किसानों के लिए माँ भूमि से संबंधित किसी भी व्यापार या काम के लिए यह रुद्राक्ष फायदेमंद हो सकती है।

The pure eighteen-faced rudraksha is ideal for those involved in real estate, land dealings, or businesses related to Mother Earth like stone dealers, iron ore traders, gem and diamond merchants, agriculturists, and farmers. It bestows blessings and benefits to these professions.

One thought on “18 Mukhi Rudraksha

  1. Dhanyawad guru ji 🙏🙏🙏🙏

Leave a Reply

Categories