Ganesha Chaturthi 2023

  • Home
  • Blog
  • Ganesha Chaturthi 2023

Ganesha Chaturthi 2023

Ganesha Chaturthi 2023

As the legend goes,  Lord Ganesha was beheaded by Lord Shiva when he was on duty under the command of Devi Parvati. The vehement protest and anger by Devi Parvati was the cause of resurrection of Lord Ganesha but with the head of an elephant. One of the first animation films made in India “Bal Ganesha” has made the deity popular among the children also and the children also know the Beej Mantra “Om Gung Ganapathaye Namah”.

Ganesha Chaturthi on Tuesday, September 19, 2023

Madhyahna Ganesha Puja Muhurat – 11:01 AM to 01:28 PM

Duration – 02 Hours 27 Mins

Ganesha Visarjan on Thursday, September 28, 2023

On previous day time to avoid Moon sighting – 12:39 PM to 08:10 PM, Sep 18

Duration – 07 Hours 32 Mins

Time to avoid Moon sighting – 09:45 AM to 08:43 PM

Duration – 10 Hours 59 Mins

Chaturthi Tithi Begins – 12:39 PM on Sep 18, 2023

Chaturthi Tithi Ends – 01:43 PM on Sep 19, 2023

Hariyali Teej

The Elephant headed God, the son of Lod Shiva and Devi Parvati was awarded the first right of worship after his resurrection with the head of an elephant. Therefore, Lord Ganesha has a presence in the “Panchayatan Puja” which consists of the five deities Lod Bramha, Lord Vishnu, Lord Mahesh, Devi Durga and Lord Ganesha. Therefore, every Hindu begins his work in the name of Lord Ganesha by chanting “Om Sri Ganeshaya Namah”. Lord Ganesha is worshiped by Hindus as a supreme god of wisdom, prosperity and good fortune.

He is considered a terminator of evils. He is known by various names some examples are Dhoomraketu, Ekadantha, Gajakarnaka, Lambodara, Vignaraja, Gajanana, Vinayaka, Vakratunda, Siddhivinayaka, Surpakarna, Heramba, Skandapurvaja, Kapila, Vigneshwara etc. He rides on Musak (mouse) which represents ego.

Special Significance of Ganesha Chaturthi Puja and Time of Puja

Lord Ganesha is worshiped everyday and for starting every new work. But, there is a special significance of doing his Puja on the Ganesha Chaturthi day. This year Ganesha Chaturthi falls on Tuesday, September 19, 2023.

and the auspicious time for starting his Puja Muhurat – 11:01 AM to 01:28 PM.

The Ganesha Chaturthi day is considered the birthday of the Lord. It is believed that the Lord remains on this earth on this particular day to bestow his presence for all his devotees. This particular day is called Vinayaka Chaturthi or Vinayaka Chavithi in Sanskrit, Kannada, Tamil and Telugu. It is called Chavath in Konkani.

This Puja is celebrated as a big community festival in Maharastra, Goa, Karnataka, Andhara Pradesh, parts of Tamil Nadu, Gujarat and western Madhya Pradesh. It is the most important festival of the Konkan belt in India.

The Puja begins on Ganesha Chaturthi day and extends for about 10 days up to Anant Chaturdasi. This festival is observed in the lunar month of Bhadrapada Shukla Paksha Chathurthi as per the Hindu Calendar. The corresponding months as per English Calendar may be August or September.

The immersion of the idol generally takes place after 10 days which becomes the most important community event in the states named above.

Benefit of doing the Puja apart from doing the daily Puja:

The daily Puja of the lord is performed in every household in the Hindu family which is done as a matter of devotion and routine. The presence of Ganesha is solicited on the occasion of marriages and the invitation cards are generally printed with the following Ganesha Mantra.

बेहद चमत्कारी है काली गुंजा | जो चाहोगे वो पाओगे | चमत्कारी गुंजा के अदभुत टोटके

Vakratund Mahakaya, Suryakoti Samaprabhah Nirvighnam Kuru Me Deva, Sarvakaryeshu Sarvada

But, the worship of Ganesha becomes a community event during the Ganesha Chaturthi celebrations. The worship of Ganesha was started as a non-community event by Chatrapati Shivaji Maharaj who was the great Maratha ruler. Shivaji Maharaj was always in conflict with Mughal emperors and he wanted to unite the Hindus with the help of Ganesha Puja to promote culture and nationalism. Therefore, Ganesha Puja became important in the Peshwa Empire ruled by Marathas.

The Puja transformed into a community event due to the efforts of Lokmanya Tilak (a freedom fighter). Tilak was conscious of the fact that Lord Ganesha had a universal appeal among the Hindus. Lord Ganesha was recognized as a God for everybody. He popularized Lord Ganesha Chaturthi Puja as a Community Puja. His objective was also promotion of nationalistic feelings in masses. This festival was also used as a tool to bridge the gap between Brahmins and Non Brahmins.

Tilak wanted to spread the message of freedom struggle through organizations of Ganesha Chaturthi festivals. Another objective was to defy the British rulers who had banned public assemblies. The occasion of Puja was utilized for public assemblies and mass communications and gave Indians a feeling of unity and revived their patriotic spirit and faith.

India is free today. But, it is a country of great diversities. Unity is absolutely necessary in this environment of diversity. The country must learn to behave unitedly at the time of strains and stresses. It is necessary to safeguard our freedom. The objective of Lokmanya Tilak is still relevant. In addition Lord Ganesha remains present amongst us on Ganesha Chaturthi day. Therefore, the worship of Ganesha on this particular day is very significant.

Ganesh Chaturthi Vrat Katha – Part 1

Once upon a time, Lord Shiva and Goddess Parvati were sitting by the banks of the Narmada River. Parvati suggested playing a game of dice to pass the time. Shiva agreed and prepared to play. However, the question arose as to who would decide the winner and loser of the game.

Contemplating this question, Lord Shiva collected a few dice and made a doll out of them, infusing life into it. He then asked the doll, “We wish to play dice, but there is no one to determine the winner or loser. So, tell us, who among us lost and who won?”

With the game of dice commencing, Parvati emerged as the winner three times in a row due to fortunate circumstances. At the end of the game, the doll was consulted to decide the outcome. The doll declared that Lord Shiva was the winner. Upon hearing this, Parvati became furious and cursed the doll to be lame and stuck in the mud. The doll pleaded for forgiveness, explaining that it was due to ignorance and not out of any malice. On receiving the doll’s apology, Parvati said, “In the future, during the Ganesh puja, young maidens will come. Follow their instructions and observe the Ganesh Vrat. By doing so, you will attain my blessings.” Having said this, Parvati departed for Mount Kailash along with Lord Shiva.

A year later, the young maidens arrived at the same place. Curious about the observance of the Ganesh Vrat, the doll diligently observed the fast for Lord Ganesh for twenty-one consecutive days. Pleased with the doll’s devotion, Lord Ganesh granted it a boon. The doll requested the power to walk with its own feet and accompany its parents to Mount Kailash, so that they could witness its presence and be pleased.

Granting the doll’s wish, Lord Ganesh disappeared. Subsequently, the doll reached Mount Kailash and narrated its journey to Lord Mahadev. From that day onward, Parvati turned away from Lord Shiva. Infuriated, Lord Shiva observed the Ganesh Vrat as instructed by the doll for twenty-one days. As a result, Parvati’s anger towards Lord Shiva ceased.

Lord Shiva explained the procedure of the Vrat to Goddess Parvati. Inspired by this, Parvati also desired to meet her son Kartikeya. She too observed the Ganesh Vrat for twenty-one days, performing the worship of Lord Ganesh with blades of grass, flowers, and laddoos. On the twenty-first day, Kartikeya himself came to meet Parvati. Since then, the Ganesh Chaturthi Vrat has been considered a fast that fulfills desires.

Ganesh Chaturthi Katha – Part 2

According to the Shiva Purana, Goddess Parvati once created a young boy from her dirt before taking a bath. She installed him as her gatekeeper. When Lord Shiva attempted to enter, the boy stopped him. In response, Shiva’s attendants engaged in a fierce battle with the boy, but they couldn’t defeat him. Enraged, Lord Shiva severed the boy’s head with his trident. This angered Goddess Parvati, and she decided to bring about destruction. Worried, the gods sought the advice of sage Narada and praised Jagadamba (the Universal Mother) to calm her down. Following Lord Shiva’s instructions, Lord Vishnu brought the head of the first living being he encountered in the northern direction, which happened to be an elephant. Lord Rudra, also known as Mritunjaya, placed the elephant’s head on the boy’s body, thus reviving him. Delighted, Goddess Parvati embraced the boy with her heart and blessed him to be the leader among all gods. Brahma, Vishnu, and Mahesh declared him the supreme deity and worthy of worship. Lord Shiva said, “Girijanandan! Your name will be foremost in the removal of obstacles. You shall become the revered deity of all and preside over my ganas (attendants). Ganesha! You were born on the Chaturthi (fourth day) of the dark fortnight of the Bhadrapada month, during the moon’s rise. On this day, those who observe a fast will have all obstacles removed and attain success. During the night of the Chaturthi, after performing your worship at the time of moonrise, offer arghya (water offering) to the moon and give sweets to a Brahmin. Then, partake in a sweet meal yourself. Those who observe the Ganesh Chaturthi fast will have their desires fulfilled throughout the year.”

Ganesh Chaturthi Vrat Katha – Part 3

According to the story, once Lord Shiva and Goddess Parvati were sitting near the banks of the Narmada River. Goddess Parvati suggested playing a game of dice to pass the time. Lord Shiva agreed to play, but they needed someone to decide the winner.

To address this, Lord Shiva gathered some sticks and created a doll. He then breathed life into the doll and said, “Son, we want to play dice, but we need someone to decide the winner. Tell us who won and who lost.”

With that, the game of dice began. They played three rounds, and by chance, Goddess Parvati won all three times. At the end of the game, they asked the doll to decide the winner. The doll declared Lord Shiva as the winner. Hearing this, Goddess Parvati became angry and cursed the doll to become lame and stay in the mud.

The doll apologized to the Goddess, saying that it was due to ignorance and not out of any ill intent. Seeking forgiveness, the doll asked the Goddess what it could do to make amends. Goddess Parvati then revealed that on Ganesh Chaturthi, young maidens (Nag Kanyas) would come for worship, and by observing the fast of Lord Ganesha, the doll would attain her blessings. The Goddess instructed the doll that by doing so, it would gain her favor.

Afterward, the Nag Kanyas arrived at the designated spot after a year. The doll, having learned the rituals of Lord Ganesha’s fast from the Nag Kanyas, observed the fast for 21 consecutive days. Pleased with the doll’s devotion, Lord Ganesha granted a boon to the doll. The doll asked for the power to travel with its feet to reach Kailash Parvat with its parents and for Lord Shiva and Goddess Parvati to be pleased by witnessing this.

Granting the wish, Lord Ganesha disappeared. The doll then reached Kailash Parvat and narrated its story to Lord Shiva. From that day forward, Goddess Parvati’s anger dissipated, and the displeasure she held toward Lord Shiva also vanished.

Lord Shiva, following the doll’s guidance, observed the fast of Lord Ganesha for 21 days. As a result, Goddess Parvati’s displeasure towards Lord Shiva was resolved.

Lord Shiva explained the procedure of this fast to Goddess Parvati. Upon hearing it, Goddess Parvati also desired to meet her son Kartikeya. She observed the fast of Lord Ganesha for 21 days, performed the worship of Lord Ganesha with Durva grass, flowers, and sweets. On the 21st day of the fast, Kartikeya himself arrived to meet Goddess Parvati. Since then, the fast of Ganesh Chaturthi has been known as a fast that fulfills desires.

जैसा कि पौराणिक कथा कहती है, देवी पार्वती के आदेशानुसार कार्य करते समय भगवान शिव द्वारा भगवान गणेश के सिर को काट दिया गया था। देवी पार्वती की उत्कट प्रतिरोध और क्रोध के कारण भगवान गणेश की पुनरुत्थान की वजह से उनकी सिर पर हाथी का सिर रख गया था|  भारत में बनी पहली एनिमेशन फिल्मों में से एक “बाल गणेश” ने देवता को बच्चों के बीच मशहूर बना दिया है और बच्चों को बीज मंत्र “ॐ गुं गणपतये नमः” भी पता होता है।

हाथी के सिर वाले भगवान, भगवान शिव और देवी पार्वती के पुत्र को पहले पूजन का अधिकार प्राप्त हुआ था। इसलिए, भगवान गणेश पंचायतन पूजा में मौजूद हैं, जिसमें पांच देवताओं – ब्रह्मा, विष्णु, महेश, देवी दुर्गा और भगवान गणेश के रूप में लोग पूजा करते हैं। इसलिए, हर हिन्दू अपने कार्य की शुरुआत भगवान गणेश के नाम से “ॐ श्री गणेशाय नमः” का जाप करके करता है। हिन्दू धर्म में भगवान गणेश को बुद्धि, समृद्धि और शुभ भाग्य के सर्वोच्च देवता के रूप में पूजा किया जाता है।

उन्हें बुराइयों का नाश करने वाला माना जाता है। उनके विभिन्न नामों से पहचाना जाता है, कुछ उदाहरण हैं धूम्रकेतु, एकदंथ, गजकर्णक, लंबोदर, विघ्नराज, गजानन, विनायक, वक्रतुंड, सिद्धिविनायक, सुर्पकर्ण, हेरम्बा, स्कंदपूर्वज, कपिल, विघ्नेश्वर आदि। वे मूषक (चूहे) पर सवार होते हैं, जो अहंकार को प्रतिष्ठित करता है।

गणेश चतुर्थी पूजा और पूजा का समय का विशेष महत्व:

गणेश चतुर्थी शनिवार, 19 सितंबर 2023 को है।

मध्याह्न गणेश पूजा मुहूर्त – सुबह 11:01 बजे से दोपहर 1:28 बजे तक।

अवधि – 02 घंटे 27 मिनट।

गणेश विसर्जन गुरुवार, 28 सितंबर 2023 को होगा।

पिछले दिन चांद देखने से बचने का समय – दोपहर 12:39 बजे से शाम 8:10 बजे तक, 18 सितंबर

अवधि – 07 घंटे 32 मिनट।

चांद देखने से बचने का समय – सुबह 9:45 बजे से रात 8:43 बजे तक।

अवधि – 10 घंटे 59 मिनट।

चतुर्थी तिथि शुरू होगी – दोपहर 12:39 बजे, 18 सितंबर 2023 को।

चतुर्थी तिथि समाप्त होगी – दोपहर 1:43 बजे, 19 सितंबर 2023 को।

भगवान गणेश की पूजा रोज़ाना और हर नए कार्य की शुरुआत के लिए की जाती है। लेकिन, गणेश चतुर्थी के दिन उनकी पूजा करने का एक विशेष महत्व होता है। इस वर्ष गणेश चतुर्थी 23 अगस्त 2009 को पड़ रही है और उनकी पूजा के लिए शुभ समय सुबह 10:00 बजे के बाद होता है।

गणेश चतुर्थी को भगवान का जन्मदिन माना जाता है। माना जाता है कि भगवान इस विशेष दिन के लिए पृथ्वी पर रहते हैं ताकि वे अपने सभी भक्तों के लिए उपस्थिति दें। यह विशेष दिन संस्कृत, कन्नड़, तमिल और तेलुगू में विनायक चतुर्थी या विनायक चविती कहलाता है। कोंकणी में इसे चावथ कहा जाता है।

यह पूजा गणेश चतुर्थी के दिन शुरू होती है और आठारह दिन तक अनंत चतुर्दशी तक चलती है। यह त्योहार हिन्दू पंचांग के अनुसार भाद्रपद शुक्ल पक्ष चतुर्थी के मास में मनाया जाता है। इंग्लिश कैलेंडर के अनुसार इसके माह अगस्त या सितंबर हो सकते हैं।

मूर्ति का विसर्जन आमतौर पर 10 दिनों के बाद होता है, जो उपरोक्त राज्यों में सबसे महत्वपूर्ण सामुदायिक घटना बन जाता है।

रोज़ाना पूजा करने के अलावा पूजा करने के लाभ:

हिन्दू परिवार में प्रतिदिन भगवान की पूजा प्रत्येक घर में भक्ति और दिनचर्या के रूप में की जाती है। शादी के अवसर पर गणेश की मौजूदगी मांगी जाती है और आमतौर पर निमंत्रण पत्रों में निम्नलिखित गणेश मंत्र प्रिंट किए जाते हैं।

“वक्रतुंड महाकाय, सूर्यकोटि समप्रभा निर्विघ्नं कुरु मे देव, सर्वकार्येषु सर्वदा”

लेकिन, गणेश चतुर्थी की धूमधाम से मनाई जाने वाली पूजा एक सामुदायिक घटना बन जाती है। गणेश की पूजा एक सामुदायिक घटना के रूप में चत्रपति शिवाजी महाराज द्वारा शुरू की गई थी, जो महान मराठा शासक थे। शिवाजी महाराज हमेशा मुग़ल सम्राटों के साथ विवाद में थे और उन्होंने संस्कृति और राष्ट्रवाद को बढ़ावा देने के लिए गणेश पूजा की मदद से हिन्दुओं को एकता करना चाहा। इसलिए, मराठों द्वारा शासित पेशवा साम्राज्य में गणेश पूजा महत्वपूर्ण हो गई।

पूजा एक सामुदायिक घटना के रूप में बदल गई थी लोकमान्य तिलक (एक स्वतंत्रता सेनानी) के प्रयासों के कारण। तिलक जागरूक थे कि भगवान गणेश का हिन्दू लोगों के बीच एक सार्वभौमिक आकर्षण था। भगवान गणेश को सबके लिए भगवान माना जाता था। उन्होंने गणेश चतुर्थी पूजा को सामुदायिक पूजा के रूप में प्रचलित किया। उनका उद्देश्य भी जनवादी भावनाओं को जनता में प्रचारित करना था। यह त्योहार ब्राह्मणों और गैर ब्राह्मणों के बीच की दूरी को भी मिटाने के लिए एक उपकरण के रूप में उपयोग किया गया।

तिलक ने गणेश चतुर्थी महोत्सवों के संगठन के माध्यम से स्वतंत्रता संग्राम का संदेश फैलाने की इच्छा रखी थी। एक उद्देश्य यह भी था कि ब्रिटिश शासकों का मुखानिर्देशित सार्वजनिक सभाओं को उल्लंघन करना था। पूजा के अवसर का उपयोग जनता सभाओं और जनसंचार के लिए किया गया और भारतीयों को एकता का एहसास दिया और उनकी देशभक्ति और आस्था को पुनः जागृत किया।

भारत आज़ाद है। लेकिन, यह एक महानताओं का देश है। विविधताओं के इस वातावरण में एकता बिलकुल आवश्यक है। देश को तनाव और दबाव के समय में एकजुट व्यवहार करना आवश्यक है। हमें अपनी स्वतंत्रता की सुरक्षा करनी होगी। लोकमान्य तिलक का उद्देश्य अभी भी महत्वपूर्ण है। इसके अलावा भगवान गणेश गणेश चतुर्थी के दिन हमारे बीच मौजूद रहते हैं। इसलिए, इस विशेष दिन पर गणेश की पूजा बहुत महत्वपूर्ण है।

गणेश चतुर्थी व्रत कथा ( Ganesh Chaturthi Vrat Katha)-1 

एक समय की बात है, भगवान शंकर और माता पार्वती नर्मदा नदी के किनारे बैठे थे। वहां पार्वती ने शिवजी से समय बिताने के लिए चौपड़ खेलने की बात की। शिवजी चौपड़ खेलने के लिए तैयार हो गए। परंतु खेल में हार-जीत का फैसला कौन करेगा?

इस प्रश्न पर विचार करते हुए, भोलेनाथ ने कुछ तिनके इकट्ठा करके उसका पुतला बनाया और उस पुतले में प्राण प्रतिष्ठा की। फिर उन्होंने पुतले से कहा कि हम चौपड़ खेलना चाहते हैं, परंतु हमारी हार-जीत का फैसला करने वाला कोई नहीं है। इसलिए तुम बताओ कि हम में से कौन हारा और कौन जीता।

इसके बाद चौपड़ का खेल शुरू हो गया। तीन बार खेला गया, और संयोग से तीनों बार पार्वती जी जीत गईं। खेल के समाप्त होने पर पुतले से हार-जीत का फैसला करने के लिए कहा गया, तो पुतले ने महादेव को विजयी बताया। यह सुनकर पार्वती जी क्रोधित हो गईं और उन्होंने क्रोध में आकर पुतले को लंगड़ा और कीचड़ में पड़े रहने का श्राप दिया। पुतले ने माता से माफी मांगी और कहा कि मुझसे अज्ञानता के कारण ऐसा हुआ, मैंने किसी द्वेष में ऐसा नहीं किया। पुतले की क्षमा मांगने पर माता ने कहा कि यहां गणेश पूजन के लिए नाग कन्याएं आएंगी, उनके कहने पर तुम गणेश व्रत करो, ऐसा करने से तुम मुझे प्राप्त करोगे। यह कहकर माता पार्वती, भगवान शिव के साथ कैलाश पर्वत पर चली गईं।

एक वर्ष के बाद उसी स्थान पर नाग कन्याएं आईं। नाग कन्याओं से श्री गणेश के व्रत की विधि जानने पर पुतले ने 21 दिन लगातार गणेश जी का व्रत किया। उसकी श्रद्धा देखकर गणेश जी प्रसन्न हो गए और श्री गणेश ने पुतले से मनचाहे फल मांगने के लिए कहा। पुतले ने कहा कि हे विनायक, मुझमें इतनी शक्ति दीजिए कि मैं अपने पैरों से चलकर अपने माता-पिता के साथ कैलाश पर्वत पर पहुंच सकूं और वे यह देखकर प्रसन्न हों।

पुतले को यह वरदान दिया गया और श्री गणेश अद्यापि अनुपस्थित हैं। पुतले के बाद कैलाश पर्वत पर पहुंचने की कथा उसने भगवान महादेव को सुनाई। उस दिन से पार्वती जी शिवजी से विमुख हो गईं। देवी की रुष्ठि होने पर भगवान शंकर ने भी पुतले द्वारा बताए गए रूप में श्री गणेश का व्रत 21 दिनों तक किया। इसके प्रभाव से माता की मनोकामना पूरी हुई और उनकी नाराजगी समाप्त हुई।

यह व्रत विधि भगवान शंकर ने माता पार्वती को बताई। इसको सुनकर पार्वती जी को भी अपने पुत्र कार्तिकेय से मिलने की इच्छा जाग्रत हुई। माता ने भी 21 दिन तक श्री गणेश व्रत किया और दूर्वा, पुष्प, और लड्डूओं से श्री गणेश जी का पूजन किया। व्रत के 21वें दिन कार्तिकेय स्वयं पार्वती जी से मिलने आएंगे। इस दिन से श्री गणेश चतुर्थी का व्रत मनोकामनाएं पूरी करने वाला व्रत माना जाता है।

गणेश चतुर्थी कथा (Ganesh Chaurthi Katha ) -2 

शिवपुराण के अनुसार एक बार माता पार्वती ने स्नान करने से पहले अपनी मैल से एक बालक को जन्म दिया और उसे अपने द्वारपाल के रूप में स्थापित किया। जब शिवजी वहां प्रवेश करना चाहे, तो उस बालक ने उन्हें रोक दिया। इस पर शिवगण ने बालक के साथ भयंकर युद्ध किया, लेकिन उसे कोई पराजित नहीं कर सका। तत्पश्चात्, भगवान शंकर ने क्रोधित होकर अपने त्रिशूल से उस बालक का सिर काट दिया। इससे माता पार्वती रुष्ट हो उठीं और उन्होंने प्रलय करने का निश्चय लिया। भयभीत देवताओं ने देवर्षि नारद की सलाह पर जगदम्बा की स्तुति करके उन्हें शांत किया। शिवजी के निर्देश पर विष्णुजी ने उत्तर दिशा में सबसे पहले मिले जीव (हाथी) का सिर काटकर लाए। मृत्युंजय रुद्र ने उस गज के सिर को बालक के धड़ पर रखकर उसे पुनर्जीवित कर दिया। माता पार्वती ने आनंद से उस गजमुखबालक को अपने हृदय से लगा लिया और देवताओं में अग्रणी होने का आशीर्वाद दिया। ब्रह्मा, विष्णु, महेश ने उस बालक को सर्वाधिकारी घोषित करके उसे पूज्य बनाया। भगवान शंकर ने बालक से कहा, “गिरिजानंदन! विघ्नों का नाश करने में तेरा नाम सर्वोपरि होगा। तू सभी का पूज्य बनकर मेरे सभी गणों का अध्यक्ष बन जा। गणेश्वर! तू भाद्रपद मास के कृष्णपक्ष की चतुर्थी को चंद्रमा के उदय के समय उत्पन्न हुआ है। इस तिथि में व्रत करने वाले के सभी विघ्न नाश हो जाएंगे और उसे सभी सिद्धियाँ प्राप्त होंगी। कृष्णपक्ष की चतुर्थी की रात्रि में चंद्रोदय के समय गणेश तुम्हारी पूजा करने के बाद व्रती चंद्रमा को अर्घ्य दें और ब्राह्मण को मिष्ठान खिलाएं। उसके बाद स्वयं भी मीठा भोजन करें। वर्षभर तक श्री गणेश चतुर्थी का व्रत करने वाले की मनोकामना अवश्य पूर्ण होती है।

गणेश चतुर्थी व्रत कथा ( Ganesh Chaurthi Vrat Katha ) -3

कथा के अनुसार एक बार भगवान शंकर और माता पार्वती नर्मदा नदी के निकट बैठे थे। वहां देवी पार्वती ने भगवान भोलेनाथ से समय व्यतीत करने के लिए चौपड़ खेलने को कहा। भगवान शंकर चौपड़ खेलने के लिए तैयार हो गए, परंतु इस खेल में हार-जीत का फैसला कौन करेगा?

इसका प्रश्न उठा, इसके जवाब में भगवान भोलेनाथ ने कुछ तिनके एकत्रित कर उसका पुतला बनाया, उस पुतले की प्राणप्रतिष्ठा कर दी और पुतले से कहा कि बेटा, हम चौपड़ खेलना चाहते हैं, परंतु हमारी हार-जीत का फैसला करने वाला कोई नहीं है। इसलिए तुम बताओ कि हम में से कौन हारा और कौन जीता।

यह कहने के बाद चौपड़ का खेल शुरू हो गया। खेल तीन बार खेला गया, और संयोग से तीनों बार पार्वती जी जीत गईं। खेल के समाप्त होने पर बालक से हार-जीत का फैसला करने के लिए कहा गया, तो बालक ने महादेव को विजयी बताया। यह सुनकर माता पार्वती क्रोधित हो गईं और उन्होंने क्रोध में आकर बालक को लंगड़ा होने और कीचड़ में पड़े रहने का श्राप दे दिया। बालक ने माता से माफी मांगी और कहा कि मुझसे अज्ञानता वश ऐसा हुआ, मैंने किसी द्वेष में ऐसा नहीं किया। बालक के क्षमा मांगने पर माता ने कहा कि यहां गणेश पूजन के लिए नाग कन्याएं आएंगी, उनके कहने अनुसार तुम गणेश व्रत करो, ऐसा करने से तुम मुझे प्राप्त करोगे। यह कहकर माता भगवान शिव के साथ कैलाश पर्वत पर चली गईं।

ठीक एक वर्ष बाद उस स्थान पर नाग कन्याएं आईं। नाग कन्याओं से श्री गणेश के व्रत की विधि मालूम करने पर उस बालक ने 21 दिन लगातार गणेश जी का व्रत किया। उसकी श्रद्धा देखकर गणेश जी प्रसन्न हो गए और श्री गणेश ने बालक से मनोकामना पूरी करने के लिए कहा। बालक ने कहा कि हाँ विनायक, मुझमें इतनी शक्ति दीजिए, कि मैं अपने पैरों से चलकर अपने माता-पिता के साथ कैलाश पर्वत पर पहुंच सकूं और वे यह देखकर प्रसन्न हों।

बालक को यह वरदान दिया गया और श्री गणेश अंतर्धान हो गए। बालक इसके बाद कैलाश पर्वत पर पहुंच गया और अपनी कथा भगवान महादेव को सुनाई। उस दिन से पार्वती जी शिवजी से विमुख हो गईं। देवी की रुष्ठि होने पर भगवान शंकर ने भी बालक के बताए अनुसार श्री गणेश का व्रत 21 दिन तक किया। इसके प्रभाव से माता की मन से भगवान भोलेनाथ के लिए जो नाराजगी थी, वह समाप्त हुई।

यह व्रत विधि भगवान शंकर ने माता पार्वती को बताई। इसे सुनकर माता पार्वती के मन में भी अपने पुत्र कार्तिकेय से मिलने की इच्छा जाग्रत हुई। माता ने भी 21 दिन तक श्री गणेश व्रत किया और दूर्वा, पुष्प और लड्डूओं से श्री गणेश जी की पूजा की। व्रत के 21वें दिन कार्तिकेय स्वयं पार्वती जी से मिलने आएं। उस दिन से श्री गणेश चतुर्थी का व्रत मनोकामना पूरी करने वाला व्रत माना जाता है।

Astrological significance of Ganesha Puja in the year 2022

The Ganesh Chaturthi fasting dates for 2022 are as follows:

On January:

  • Shukla Paksha Vinayak Chaturthi: Thursday, January 6, 2022. From 2:35 PM on January 5 to 12:29 PM on January 6.
  • Krishna Paksha Sankashti Chaturthi: Friday, January 21, 2022. From 8:52 AM on January 21 to 9:14 AM on January 22.

On February:

  • Shukla Paksha Vinayak Chaturthi: Friday, February 4, 2022. From 4:38 AM to 3:47 AM on February 5.
  • Krishna Paksha Sankashti Chaturthi: Saturday, February 20, 2022. From 9:56 PM on February 19 to 9:05 PM on February 20.

On March:

  • Shukla Paksha Vinayak Chaturthi: Sunday, March 6, 2022. From 8:36 PM to 9:12 PM on March 6.
  • Krishna Paksha Sankashti Chaturthi: Monday, March 21, 2022. From 8:20 AM on March 21 to 6:24 AM on March 22.

On April:

  • Shukla Paksha Vinayak Chaturthi: Tuesday, April 5, 2022. From 1:55 PM to 3:45 PM on April 5.
  • Krishna Paksha Sankashti Chaturthi (Angaraki Chaturthi): Wednesday, April 20, 2022. From 4:39 PM on April 19 to 1:53 PM on April 20.

On May:

  • Shukla Paksha Vinayak Chaturthi: Wednesday, May 4, 2022. From 7:33 AM to 10:01 AM on May 5.
  • Krishna Paksha Sankashti Chaturthi: Thursday, May 19, 2022. From 11:37 PM on May 18 to 8:24 PM on May 19.

On June:

  • Shukla Paksha Vinayak Chaturthi: Friday, June 3, 2022. From 12:17 PM to 2:42 PM on June 4.
  • Krishna Paksha Sankashti Chaturthi: Friday, June 17, 2022. From 6:11 AM on June 17 to 2:59 PM on June 18.

On July:

  • Shukla Paksha Vinayak Chaturthi: Sunday, July 3, 2022. From 3:17 AM to 5:07 PM on July 3.
  • Krishna Paksha Sankashti Chaturthi: Sunday, July 17, 2022. From 1:27 AM on July 16 to 10:49 AM on July 17.

On August:

  • Shukla Paksha Vinayak Chaturthi (Nag Chaturthi): Monday, August 1, 2022. From 4:18 AM to 5:13 AM on August 2.
  • Krishna Paksha Sankashti Chaturthi (Sankata Hara Chaturthi, Hamba Sankashti Chaturthi): Monday, August 15, 2022. From 10:36 PM on August 14 to 9:02 PM on August 15.
  • Shukla Paksha Vinayak Chaturthi (Ganesh Chaturthi, Sankashti Chaturthi Paksha): Wednesday, August 31, 2022. From 3:33 AM to 3:23 AM on September 1.

On September:

  • Krishna Paksha Sankashti Chaturthi (Angaraki Chaturthi): Tuesday, September 13, 2022. From 10:37 AM on September 13 to 10:25 AM on September 14.
  • Shukla Paksha Vinayak Chaturthi: Thursday, September 29, 2022. From 1:28 AM to 12:09 AM on September 30.

On October:

  • Krishna Paksha Sankashti Chaturthi: Thursday, October 13, 2022. From 1:59 AM to 3:08 AM on October 14.
  • Shukla Paksha Vinayak Chaturthi: Saturday, October 29, 2022. From 10:34 AM to 8:13 AM on October 30.

On November:

  • Krishna Paksha Sankashti Chaturthi: Saturday, November 12, 2022. From 8:17 PM on November 11 to 10:26 PM on November 12.
  • Shukla Paksha Vinayak Chaturthi: Sunday, November 27, 2022. From 7:28 PM to 4:25 PM on November 28.

On December:

  • Krishna Paksha Sankashti Chaturthi: Monday, December 11, 2022. From 4:15 PM to 6:49 PM on December 12.
  • Shukla Paksha Vinayak Chaturthi: Tuesday, December 27, 2022. From 4:51 AM to 1:38 AM on December 28.

गणेश चतुर्थी व्रत तिथि 2022 इस प्रकार है।

चतुर्थी तिथि जनवरी में

शुक्ल पक्ष विनायक चतुर्थी

6 जनवरी 2022, गुरुवार

05 जनवरी 2022 दोपहर 2:35 बजे – 06 जनवरी 2022 दोपहर 12:29 बजे

कृष्ण पक्ष संकष्टी चतुर्थी

शुक्रवार, 21 जनवरी 2022

21 जनवरी सुबह 8:52 बजे – 22 जनवरी 22 बजे सुबह 9:14 बजे

चतुर्थी तिथि फरवरी में

शुक्ल पक्ष विनायक चतुर्थी

शुक्रवार, 04 फरवरी 2022

04 फरवरी सुबह 4:38 बजे – 05 फरवरी सुबह 3:47 बजे

कृष्ण पक्ष संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 20 फरवरी 2022

19 फरवरी रात 9:56 बजे – 20 फरवरी रात 9:05 बजे

चतुर्थी तिथि मार्च में

शुक्ल पक्ष विनायक चतुर्थी

रविवार, 06 मार्च 2022

05 मार्च रात 8:36 बजे – 06 मार्च रात 9:12 बजे

कृष्ण पक्ष संकष्टी चतुर्थी

सोमवार, 21 मार्च 2022

21 मार्च सुबह 8:20 बजे – 22 मार्च सुबह 6:24 बजे

चतुर्थी तिथि अप्रैल में

शुक्ल पक्ष विनायक चतुर्थी

मंगलवार, 05 अप्रैल 2022

04 अप्रैल दोपहर 1:55 बजे – 05 अप्रैल दोपहर 3:45 बजे

कृष्ण पक्ष संकष्टी चतुर्थी (अंगारकी चतुर्थी)

मंगलवार, 19 अप्रैल 2022

19 अप्रैल शाम 4:39 बजे – 20 अप्रैल दोपहर 1:53 बजे

चतुर्थी तिथि मई में

शुक्ल पक्ष विनायक चतुर्थी

बुधवार, 04 मई 2022

04 मई सुबह 7:33 बजे – 05 मई सुबह 10:01 बजे

कृष्ण पक्ष संकष्टी चतुर्थी

गुरुवार, 19 मई 2022

18 मई रात 11:37 बजे – 19 मई रात 8:24 बजे

चतुर्थी तिथि जून में

शुक्ल पक्ष विनायक चतुर्थी

शुक्रवार, 03 जून 2022

03 जून दोपहर 12:17 बजे – 04 जून दोपहर 2:42 बजे।

कृष्ण पक्ष संकष्टी चतुर्थी

शुक्रवार, 17 जून 2022

17 जून सुबह 6:11 बजे – 18 जून दोपहर 2:59 बजे।

चतुर्थी तिथि जुलाई में

शुक्ल पक्ष विनायक चतुर्थी

रविवार, 03 जुलाई 2022

02 जुलाई दोपहर 3:17 बजे – 03 जुलाई शाम 5:07 बजे।

कृष्ण पक्ष संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 17 जुलाई 2022

16 जुलाई दोपहर 1:27 बजे – 17 जुलाई सुबह 10:49 बजे।

चतुर्थी तिथि अगस्त में

शुक्ल पक्ष विनायक चतुर्थी (नाग चतुर्थी)

सोमवार, 01 अगस्त 2022

01 अगस्त सुबह 4:18 बजे – 02 अगस्त सुबह 5:13 बजे।

कृष्ण पक्ष संकष्टी चतुर्थी (संकट हारा चतुर्थी, हरम्बा संकष्टी चतुर्थी)

सोमवार, 15 अगस्त 2022

14 अगस्त रात 10:36 बजे – 15 अगस्त रात 9:02 बजे।

शुक्ल पक्ष विनायक चतुर्थी (गणेश चतुर्थी, संवत्सरी चतुर्थी पक्ष)

बुधवार, 31 अगस्त 2022

30 अगस्त दोपहर 3:33 बजे – 31 अगस्त दोपहर 3:23 बजे।

चतुर्थी तिथि सितंबर में

कृष्ण पक्ष संकष्टी चतुर्थी (अंगारकी चतुर्थी)

मंगलवार, 13 सितंबर 2022

13 सितंबर सुबह 10:37 बजे – 14 सितंबर सुबह 10:25 बजे

शुक्ल पक्ष विनायक चतुर्थी

गुरुवार, 29 सितंबर 2022

29 सितंबर पूर्वाह्न 1:28 बजे – 30 सितंबर पूर्वाह्न 12:09 बजे

चतुर्थी तिथि अक्टूबर में

कृष्ण पक्ष संकष्टी चतुर्थी

गुरुवार, 13 अक्टूबर 2022

13 अक्टूबर सुबह 1:59 बजे – 14 अक्टूबर सुबह 3:08 बजे।

शुक्ल पक्ष विनायक चतुर्थी

शनिवार, 29 अक्टूबर 2022

28 अक्टूबर सुबह 10:34 बजे – 29 अक्टूबर सुबह 8:13 बजे।

चतुर्थी तिथि नवंबर में

कृष्ण पक्ष संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 12 नवंबर 2022

11 नवंबर रात 8:17 बजे – 12 नवंबर रात 10:26 बजे

शुक्ल पक्ष विनायक चतुर्थी

रविवार, 27 नवंबर 2022

26 नवंबर शाम 7:28 बजे – 27 नवंबर शाम 4:25 बजे

चतुर्थी तिथि दिसंबर में

कृष्ण पक्ष संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 11 दिसंबर 2022

11 दिसंबर शाम 4:15 बजे – 12 दिसंबर शाम 6:49 बजे

शुक्ल पक्ष विनायक चतुर्थी

मंगलवार, 27 दिसंबर 2022

26 दिसंबर सुबह 4:51 बजे – 27 दिसंबर सुबह 1:38 बजे

Q: What is Ganesh Chaturthi?

A: Ganesh Chaturthi, also known as Vinayaka Chaturthi, is a Hindu festival that celebrates the birth of Lord Ganesha, the elephant-headed deity and remover of obstacles.

Q: When is Ganesh Chaturthi celebrated?

A: Ganesh Chaturthi falls on the fourth day of the Hindu lunar month of Bhadrapada, usually in August or September.

Q: How long does Ganesh Chaturthi last?

A: The festival typically lasts for 10 days, with the grandest celebrations occurring on the last day, known as Anant Chaturdashi.

Q: How is Ganesh Chaturthi celebrated?

A: The celebrations involve installing clay idols of Lord Ganesha in homes and public pandals. Devotees perform prayers, chant hymns, and offer various offerings, including sweets and fruits, to seek blessings from Lord Ganesha.

Q: What is Visarjan, and when does it take place?

A: Visarjan refers to the immersion of the Ganesha idols in water. It takes place on the last day of the festival, Anant Chaturdashi, symbolizing the departure of Lord Ganesha to Mount Kailash.

Q: Are there any eco-friendly alternatives for Ganesh Chaturthi celebrations?

A: Yes, many people are opting for eco-friendly Ganesha idols made from clay, paper, or natural materials to reduce environmental impact during immersion.

Q: Is Ganesh Chaturthi celebrated only in India?

A: No, Ganesh Chaturthi is celebrated not only in India but also by Hindu communities around the world, especially in countries with a significant Indian diaspora.

Q: What is the significance of Ganesh Chaturthi?

A: Ganesh Chaturthi is considered auspicious for new beginnings, prosperity, and removing obstacles. It is also an occasion for fostering unity and social gatherings.

Q: Are there any specific rituals associated with Ganesh Chaturthi?

A: Yes, the festival involves daily prayers, aarti, bhajans (devotional songs), and offerings to Lord Ganesha. Modak, a sweet delicacy, is considered the favorite of Lord Ganesha and is offered to him.

Q: Can people from other religions participate in Ganesh Chaturthi celebrations?

A: Yes, Ganesh Chaturthi is a festival that promotes inclusivity and harmony. People from all religions are welcome to join the festivities and experience the cultural richness of this joyous occasion.

Leave a Reply

Categories