Fasting

Fasting

उपवास, शरीर की पुनर्जीवन

उपवास हमारे संस्कृति और देवताओं से जुड़ी शब्दावली है, इस प्राचीन प्रथा का पालन किया जाता है, लेकिन इसके गहरे अर्थ की समझ संपूर्ण परिप्रेक्ष्य को बदल सकती है। उपवास को खाली पेट के साथ जोड़ा जाता है क्योंकि ‘बिना भोजन’ करने वाला पेट, पेट को पचाने के लिए कुछ नहीं प्रदान करता है ताकि शरीर अपने पूरे पोषण संभावना के साथ ध्यान कर सके।

एक विशेष दिन पर किया जाने वाला उपवास या तो उस दिन के देवता की शक्ति को मजबूत करने के लिए होता है या उसका प्रभाव कम करने के लिए होता है, जब हम देवता की शक्ति को बढ़ाते हैं, तो हम उनके पसंदीदा भोजन को असीमित रूप से लेते हैं और उसका प्रभाव कम करने के लिए हम उसे किसी पुजारी को या किसी मंदिर में अर्पित करते हैं।

सप्ताह के सात दिन

रविवार को उपवास सूर्य देवता के लिए होता है, सोमवार पर चंद्रमा के लिए हम उपवास करते हैं, मंगलवार को मंगल को खुश करने के लिए किया जाता है।अब सबसे महत्वपूर्ण दिन गुरुवार होता है, जिसका ईश्वर गुरु होता है। इस दिन हमारे जन्म से लेकर मृत्यु तक, सभी हार्मोन फिर से विकसित होते हैं, गुरु हार्मोनल संतुलन का नियंत्रण करते हैं, अगर हार्मोन्स अधिक हों तो उन्हें विश्राम मिलता है लेकिन यदि उन्हें पुनर्निर्माण की आवश्यकता होती है तो वे अधिक शक्ति प्राप्त करते हैं। शुक्रवार शुक्र के साथ जुड़ा हुआ है जबकि शनिवार शनि का दिन है।

खाद्य सेवन

अनुपवासी दिनों को सतर्कता से बिताना चाहिए, हमारे शरीर में खाद्य की प्रकृति पर असर पड़ता है, जो भोजन की सभी गुणधर्मों को पोषण देने वाले कोशिकाओं के पास स्थानांतरित करती है। अन्नभक्षी आहार चिंता, क्रोध बढ़ाता है और उपभोक्ता वही गुणधर्म अपनाएगा जो खाए गए जानवर के समान होता है, यह हमारे मानसिकता को प्रभावित करता है, पौधे और पेड़ सरल होते हैं, वे प्रतिक्रिया नहीं करते हैं लेकिन जानवर करते हैं, ऐसा खाद्य हमें ध्यान की पूरी क्षमता को महसूस नहीं करने देगा।

कोणार्क ज्योतिष परिवार में, हम शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए उपवास की बदलती शक्ति में विश्वास रखते हैं। इस लेख में, हम उपवास के रोमांचकारी मनोवैज्ञानिक लाभों की जांच करेंगे और यह देखेंगे कि यह आपकी मानसिक स्पष्टता और भावनात्मक संतुलन को कैसे बढ़ा सकता है। हम स्वास्थ्य और आरोग्य के प्रमुख प्राधिकरण के रूप में, आपको व्यापक दृष्टिकोण और क्रियान्वयन योग्य जानकारी प्रदान करने का उद्देश्य रखते हैं।

मन-शरीर संबंध

मन और शरीर गहराई से जुड़े हुए हैं और उपवास का गहरा प्रभाव दोनों पर प्रभाव डालता है। जबकि उपवास आमतौर पर शारीरिक स्वास्थ्य के लाभों से जुड़ा होता है, उसका मानसिक कल्याण पर भी यथार्थ प्रभाव होता है। आइए उपवास के मानसिक लाभों पर विचार करें और देखें कि यह आपकी मानसिक स्थिति पर सकारात्मक प्रभाव कैसे डाल सकता है।

बढ़ी हुई मानसिक क्षमता

उपवास के अत्यधिक मानसिक लाभों में से एक मानसिक क्षमता के विकास की बढ़ोतरी है। जब आपका शरीर उपवास अवस्था में आता है, तो इससे जैविक परिवर्तन होते हैं जो कि केटों के उत्पादन को बढ़ावा देते हैं। ये केटों मस्तिष्क के लिए एक वैकल्पिक ऊर्जा स्रोत प्रदान करते हैं, जिससे मानसिक प्रदर्शन, मानसिक स्पष्टता और ध्यान में सुधार होता है।

ब्रेन-डिवाइड न्यूरोट्रॉफिक फैक्टर (बीडीएनएफ) का बढ़ाना

उपवास के द्वारा ब्रेन-डिवाइड न्यूरोट्रॉफिक फैक्टर (बीडीएनएफ) का उत्पादन बढ़ता है। बीडीएनएफ न्यूरोनल विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और नए न्यूरॉन्स के विकास को बढ़ावा देता है, जो सीखने, स्मृति और समग्र मानसिक क्षमता को बढ़ाता है। यह न्यूरोट्रोफिक फैक्टर आयु संबंधी मानसिक पतन और न्यूरोडेजनरेटिव रोगों से बचाने में भी मदद करता है।

उच्च स्थायित्व भावनात्मक सुरक्षा

उपवास भावनात्मक स्वास्थ्य पर गहरा प्रभाव डालकर भावनात्मक सुरक्षा और स्थिरता को बढ़ा सकता है। निर्देशित समय तक भोजन से वंचित रहने से आपके शरीर में भौतिकीय परिवर्तन होते हैं जो आपकी भावनात्मक स्थिति पर सकारात्मक प्रभाव डाल सकते हैं। उपवास से एंडोर्फिन्स की उत्पत्ति होती है, जो आमतौर पर “अच्छा महसूस करने” वाले हार्मोन के रूप में जाने जाते हैं, जो आपके मनोभाव, तनाव को कम कर सकते हैं और आपको सुख का एहसास कराने में मदद कर सकते हैं।

न्यूरोट्रांसमीटर्स का नियंत्रण

सरोटोनिन और डोपामीन जैसे कुछ न्यूरोट्रांसमीटर्स मनोभाव और भावनाओं को नियंत्रित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। उपवास के माध्यम से इन न्यूरोट्रांसमीटर्स के स्तरों को संरेखित किया जाना मिला है, जो मानसिक संतुलन में सुधार और डिप्रेशन और चिंता के लक्षणों में कमी को कम करते हैं। इन रासायनिक मेसेंजर्स को नियंत्रित करके, उपवास मानसिक शांति, संतुष्टि और मानसिक स्थिरता को बढ़ा सकता है।

ध्यान और आत्म-अवलोकन

उपवास एक मानसिक स्थिरता और ध्यान की अवस्था तक पहुंचने में मदद कर सकता है। जब आप उपवास करते हैं, आप अपने खाने-पीने पर नियंत्रण रखने के लिए अपने मन को संकेत करते हैं और इस प्रक्रिया में ध्यान और आत्म-अवलोकन का एक नियमित अभ्यास होता है। यह आपके मन को शांत, स्थिर और एकाग्र करता है, जो मानसिक चुस्ती और शारीरिक स्वास्थ्य को प्रोत्साहित करता है।

उपवास का मानसिक स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव हो सकता है, लेकिन ध्यान देने योग्य है कि यह व्यक्ति के सामाजिक और शारीरिक स्थितियों पर प्रभाव डाल सकता है। आपके लिए उपवास करने का सबसे अच्छा तरीका अपने व्यक्तिगत स्वास्थ्य की देखभाल करते हुए अपने चिकित्सक या पेशेवर सलाहकार से संपर्क करना होगा।

1. उपवास क्या होता है?

उपवास एक आध्यात्मिक और धार्मिक प्रथा है, जिसमें व्यक्ति भोजन और पान का निषेध करता है।

2. उपवास कितने प्रकार के हो सकते हैं?

उपवास कई प्रकार के हो सकते हैं, जैसे निर्जल उपवास, निराहार उपवास, फलाहार उपवास, आदि।

3. उपवास के पीछे क्या आध्यात्मिक और धार्मिक मतलब हैं?

उपवास के पीछे आध्यात्मिक और धार्मिक मतलब हैं आत्मसंयम, साधना, शुद्धता, त्याग, और ईश्वर के प्रति भक्ति का प्रदर्शन।

4. उपवास क्यों किया जाता है?

उपवास कई कारणों से किया जाता है, जैसे स्वास्थ्य सुधार, धार्मिक विधियों का पालन, आध्यात्मिक साधना, और अन्य धार्मिक कार्यों के लिए।

5. क्या सभी लोग उपवास कर सकते हैं?

हाँ, सभी लोग उपवास कर सकते हैं, लेकिन यह व्यक्ति के स्वास्थ्य और शारीरिक स्थिति पर आधारित होना चाहिए।

6. उपवास किसी विशेष दिन पर क्यों किया जाता है?

उपवास किसी विशेष दिन पर किया जाता है जैसे एकादशी, पूर्णिमा, नवरात्रि, आदि। इन दिनों पर उपवास करने का विशेष महत्व होता है।

7. क्या उपवास करने के नियम हैं?

उपवास करने के नियम धार्मिक और साम्प्रदायिक अनुसार भिन्न-भिन्न हो सकते हैं। यह खाद्य विषयक मान्यताओं, समय-सीमाओं, और आदतों पर निर्भर करता है।

8. क्या उपवास करने के दौरान पानी पी सकते हैं

कुछ उपवासों में पानी पीने की अनुमति होती है, जबकि कुछ में निर्जल उपवास के दौरान भी पानी पीना निषेधित होता है। यह धर्म और प्रथा पर निर्भर करता है।

9. उपवास करने के क्या लाभ होते हैं?

उपवास करने के लाभ मानसिक और शारीरिक दोनों हो सकते हैं। इससे स्वास्थ्य सुधार होता है, आत्म-विकास होता है, और आध्यात्मिकता में वृद्धि होती है।

10. क्या उपवास करने से मन शांत होता है?

हाँ, उपवास करने से मन शांत होता है क्योंकि यह मानसिक स्थिरता, स्वयं-नियंत्रण, और आध्यात्मिक संयम को बढ़ावा देता है।

11. क्या उपवास स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है?

उपवास कई स्वास्थ्य लाभ प्रदान कर सकता है। यह पाचन तंत्र को आराम देता है, शरीर के आंतरिक विषैले तत्वों को निकालता है, और मानसिक स्वास्थ्य को सुधारता है

12. क्या उपवास करने से शरीर को शुद्धि मिलती है?

उपवास करने से शरीर को शुद्धि मिलती है क्योंकि यह अवश्यकता से अधिक आहार से बचाता है और आंतरिक विषैले तत्वों को निकालता है।

13. क्या उपवास करने से मन में स्थिरता आती है?

जी हाँ, उपवास करने से मन में स्थिरता आती है क्योंकि यह मानसिक चंचलता को कम करके मन को शांति प्रदान करता है।

14. क्या उपवास शरीर को पौष्टिक तत्वों से वंचित कर देता है?

जी नहीं, उपवास सही तरीके से किया जाए तो यह शरीर को पौष्टिक तत्वों से वंचित नहीं करता है। सही आहार और पर्याप्त पानी से यह नुकसान नहीं पहुंचाता।

15. क्या उपवास करने से आत्म-निर्भरता बढ़ती है?

जी हाँ, उपवास करने से आत्म-निर्भरता बढ़ती है क्योंकि यह आपकी संयम क्षमता को परखता है और आपको अपने सामर्थ्य पर भरोसा करने के लिए प्रेरित करता है।

16. क्या उपवास करने से मानसिक शक्ति बढ़ती है?

जी हाँ, उपवास करने से मानसिक शक्ति बढ़ती है क्योंकि यह मन को साधना और आध्यात्मिकता में लगाने का मार्ग प्रदान करता है।

17. क्या उपवास आध्यात्मिक विकास के लिए महत्वपूर्ण है?

हाँ, उपवास आध्यात्मिक विकास के लिए महत्वपूर्ण है क्योंकि यह आपको आत्म-संयम और आध्यात्मिक साधना में सहायता प्रदान करता है।

18. क्या उपवास करने से धार्मिक उत्साह बढ़ता है?

जी हाँ, उपवास करने से धार्मिक उत्साह बढ़ता है क्योंकि यह आपको अपनी आध्यात्मिक साधना के प्रति अधिक संकल्पित करता है।

19. क्या उपवास सामर्थ्य को विकसित करता है?

जी हाँ, उपवास सामर्थ्य को विकसित करता है क्योंकि यह आपको विषयों पर नियंत्रण बनाए रखने और संयमित रहने की क्षमता प्रदान करता है।

20. क्या उपवास करने से मन को शुद्धि मिलती है?

जी हाँ, उपवास करने से मन को शुद्धि मिलती है क्योंकि यह आपके मन को नियंत्रित करके उसे शांति और स्थिरता की अवस्था में ले जाता है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Categories

Open chat
💬 Need help?
Namaste🙏
How i can help you?