15 Mukhi Rudraksha

  • Home
  • Blog
  • 15 Mukhi Rudraksha

15 Mukhi Rudraksha

पंचदशमुखी रुद्राक्ष का महत्व ( importance of 15 mukhi rudraksha )

यह rudraksha पशुपतिनाथ का स्वरुप माना गया है। भगवान पशुपतिनाथ आर्थिक मनोकामनाओं को पूरा करते है। यह अत्यंत दुर्लभ श्रेणी में आता है।

धारण मंत्र-‘श्रीं मनोवांछितं ह्रीं नमः’

पंचदशमुखी रुद्राक्ष का धारण मंत्र: ‘श्रीं मनोवांछितं ह्रीं नमः’

The 15 Mukhi Rudraksha holds immense significance. It is considered to be the embodiment of Lord Pashupatinath, who fulfills all material desires. This Rudraksha is extremely rare and falls into a highly precious category.

पंचदशमुखी रुद्राक्ष एक अत्यंत महत्वपूर्ण धार्मिक रत्न है जो पाँच मुखों वाला होता है। यह रुद्राक्ष भगवान शिव के पांच मुखों को प्रतिनिधित्व करता है और इसका धारण करने से व्यक्ति को धार्मिक, आध्यात्मिक और भौतिक उन्नति की प्राप्ति होती है।

Benefits of wearing the 15 Mukhi Rudraksha: पंचदशमुखी रुद्राक्ष के धारण के फायदे

Benefits of wearing the 15 Mukhi Rudraksha are diverse. It bestows the wearer with intellect, wisdom, and knowledge. It is highly beneficial for gaining education, power, and prosperity.

पंचदशमुखी रुद्राक्ष के धारण के फायदे विभिन्न प्रकार के होते हैं। यह धारण करने वाले को बुद्धि, विवेक और ज्ञान की प्राप्ति होती है। विद्या, शक्ति, और समृद्धि के प्राप्ति के लिए यह रत्न अत्यंत लाभकारी होता है।

By wearing the 15 Mukhi Rudraksha, one can find relief from eye-related ailments. It provides protection to the eyes and maintains their brightness. It is also suitable for enhancing the functioning of the brain and improving memory.

पंचदशमुखी रुद्राक्ष के धारण से व्यक्ति को नेत्र रोगों से राहत मिलती है। इसका धारण करने से आंखों की संरक्षा होती है और आँखों की रौशनी बनी रहती है। यह रुद्राक्ष मस्तिष्क के लिए भी उपयुक्त होता है और धारण करने वाले की बुद्धि और स्मृति में सुधार होता है।

This Rudraksha grants freedom from fear and worries. It dispels negative energies and enhances positive energies. Wearing it brings mental peace and allows the wearer to feel full of positive energy.

इस रत्न का धारण करने से व्यक्ति को भय और चिंता से मुक्ति मिलती है। यह रुद्राक्ष नकारात्मक ऊर्जा को नष्ट करता है और पॉजिटिव ऊर्जा को वृद्धि करता है। इससे धारण करने वाले को मानसिक शांति मिलती है और वह स्वयं को सकारात्मक ऊर्जा से परिपूर्ण महसूस करता है।

Wearing the 15 Mukhi Rudraksha helps in maintaining a balance in both physical and mental aspects. It accumulates energy in the body, and the wearer feels refreshed. This leads to success and prosperity in life.

पंचदशमुखी रुद्राक्ष का धारण करने से शारीरिक और मानसिक रूप से संतुलन बना रहता है। इससे व्यक्ति के शरीर में ऊर्जा का संचय होता है और उसे ताजगी महसूस होती है। इससे व्यक्ति के जीवन में सफलता और समृद्धि की प्राप्ति होती है।

To keep the 15 Mukhi Rudraksha clean and pure, it should be regularly washed with Ganga water or milk. Before wearing it, it should be consecrated with sacred sandalwood paste and purified with water. Seeking advice from a knowledgeable priest or religious scholar before wearing this Rudraksha is highly recommended.

पंचदशमुखी रुद्राक्ष को स्वच्छ और शुद्ध रखने के लिए नियमित रूप से गंगा जल या दूध से धोना चाहिए। इसका धारण करने से पहले इसे पवित्र गंध और दीप जलाकर पूजन करना चाहिए। यह रत्न धारण करने से पहले सावधानीपूर्वक पंडित या धार्मिक विद्वान से परामर्श लेना अधिक उचित रहेगा।

Many times, it is observed that people become jealous upon seeing our success, and they go to any extent to harm us. Sometimes, people intentionally use negative practices like black magic, curses, cold practices, and ghostly disturbances to cause harm. Such situations can affect us mentally, physically, socially, economically, and even within our family, leaving us confused about which direction to take and what to do. If someone is facing such difficulties, they should definitely wear a consecrated 15 Mukhi Rudraksha.

कई बार देखा जाता है कि लोग हमारी सफलता को देखकर ईर्ष्या करने लगते हैं और हमें नुकसान पहुंचाने के लिए वे किसी भी हद तक जा सकते हैं। कभी-कभी लोग अभिशाप, काला जादू, बर्फीले अभियोग, भूत प्रेत के विकारों जैसी नकारात्मक प्रथाओं का इस्तेमाल अपनी हीत के लिए करते हैं। ऐसे स्थितियों में हमारे मानसिक, शारीरिक, सामाजिक, आर्थिक और पारिवारिक रूप से प्रभावित होने का सामना करना पड़ता है, जिससे हम यह समझ नहीं पाते कि किस दिशा में जाएं और क्या करें। अगर कोई व्यक्ति ऐसी परेशानी का सामना कर रहा है तो उसे अवश्य एक पवित्र रूद्राक्ष 15 मुखी का धारण करना चाहिए।

This powerful Rudraksha provides complete protection against unexpected events and unforeseen troubles in life. It shields the wearer from all directions and clears obstacles that surround them, providing a different path when faced with roadblocks. It helps them find a way when there seems to be none.

यह शक्तिशाली रूद्राक्ष जीवन में आकस्मिक घटनाओं और अप्रत्याशित परेशानियों से पूरी तरह से सुरक्षा प्रदान करता है। यह धारक को सभी दिशाओं से बचाता है और उसे घेरे हुए बाधाओं को दूर करके नई दिशा प्रदान करता है। यह उसे उन परेशानियों से निकालने में मदद करता है जब विपदा के समय रास्ता नजर नहीं आता।

The 15 Mukhi Rudraksha protects the wearer from external negative energies, like the evil eye, black magic, curses, and any form of harmful intentions. It bestows the divine protection of Lord Pashupatinath, making the individual feel secure and connected to divine experiences. It reduces the impact of sudden accidents and mishaps in different areas of life.

15 मुखी रूद्राक्ष धारक को बाह्य नकारात्मक ऊर्जाओं से, जैसे कि नजर दोष, काला जादू, अभिशाप और किसी भी नुकसानदायक इरादे से बचाता है। यह भगवान पशुपतिनाथ की दिव्य संरक्षणा देता है, जिससे व्यक्ति को आत्मनिर्भर और दिव्य अनुभवों का आनंद मिलता है। यह विभिन्न क्षेत्रों में होने वाले असावधानियों के प्रभाव को कम करता है।

This Rudraksha can also be used in astrology to improve the position of Mars (Mangal Grah). While coral (Moonga) is used to strengthen Mars in astrology, the 15 Mukhi Rudraksha can also be used to protect the wearer from Mars’ negative effects.

यह रूद्राक्ष ज्योतिष में भी उपयोग किया जा सकता है ताकि मंगल ग्रह (मंगल ग्रह) की स्थिति को सुधारा जा सके। ज्योतिष में मंगल को मजबूत करने के लिए मूंगा का उपयोग किया जाता है, लेकिन 15 मुखी रूद्राक्ष धारक को मंगल के नकारात्मक प्रभाव से भी सुरक्षा मिलती है।

It strengthens the position of Mars and makes the person resilient, removing any malefic influences caused by Mars. It shields them from unexpected adversities caused by Mars and grants mental protection.

यह मंगल की स्थिति को मजबूत बनाता है और व्यक्ति को दृढ़ता देता है, मंगल द्वारा उत्पन्न होने वाले नकारात्मक प्रभावों को दूर करता है और मानसिक सुरक्षा प्रदान करता है।

In marital life, it removes any troubles and resolves conflicts arising from various situations. It proves highly effective in attaining unexpected support and love from life partners.

वैवाहिक जीवन में, यह किसी भी परेशानी को दूर करता है और विभिन्न स्थितियों से उत्पन्न संघर्षों को सुलझाता है। यह जीवन साथी से अप्रत्याशित सहयोग और प्रेम प्राप्त करने में बहुत प्रभावी साबित होता है।

Therefore, wearing the 15 Mukhi Rudraksha brings numerous benefits and safeguards the wearer from various negative influences and situations in life.

इसलिए, 15 मुखी रूद्राक्ष धारण करने से व्यक्ति को अनेक लाभ होते हैं और उसे विभिन्न नकारात्मक प्रभावों और स्थितियों से सुरक्षा मिलती है।

One thought on “15 Mukhi Rudraksha

  1. 👌👌👌👌 very nice sir ji

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Categories

Open chat
💬 Need help?
Namaste🙏
How i can help you?