14 Mukhi Rudraksha

  • Home
  • Blog
  • 14 Mukhi Rudraksha

14 Mukhi Rudraksha

१४ मुखी रुद्राक्ष पहनने के फायदे: Benefits of wearing 14 Mukhi Rudraksha

हनुमान जी की कृपा से व्यक्ति सभी संकटों का निर्भीक होकर सामना करते है।

By the grace of Lord Hanuman, the wearer fearlessly faces all difficulties

मनुष्य के जीवन में मौजूद सभी आपदाएं तकरीबन नष्ट हो जाती हैं और व्यक्ति दिग्विजय रूप धारण कर लेता है।

All the adversities in a person’s life are almost destroyed, and they achieve victory

इससे ह्रदय रोग, नेत्र रोग, अल्सर, मधुमेह और कैंसर आदि रोगों से छुटकारा मिलता है।

It provides relief from heart problems, eye diseases, ulcers, diabetes, and even cancer

१४ मुखी रुद्राक्ष का महत्व: Significance of 14 Mukhi Rudraksha

१४ मुखी रुद्राक्ष का पहनना मंगल दोष के निवारण और साढेसाती के प्रभाव को दूर करने के लिए किया जाता है।

Wearing the 14 Mukhi Rudraksha is done to negate the effects of Mars dosha and the influence of Saturn’s Sade Sati.

इस रुद्राक्ष के प्रभाव से व्यक्ति के निर्णय लेने की क्षमता बेहतर होती है और वह साहसी बनता है।

The power of this Rudraksha enhances the ability to make decisions and makes the wearer courageous.

अर्थराइटिस और मोटापे से जुडी परेशानियों को दूर करने में १४ मुखी मदद करता है।

It helps in alleviating arthritis and problems related to obesity

डर और सदमे को दूर करता है एवं नसों से संबंधित विकार भी ठीक होते हैं।

It dispels fear and sorrow and also helps in curing nerve-related disorders.

१४ मुखी रुद्राक्ष बवासीर से राहत प्रदान करता है।

The 14 Mukhi Rudraksha provides relief from piles (hemorrhoids).

१४ मुखी रुद्राक्ष धारण करने की विधि: Method of wearing 14 Mukhi Rudraksha

मंगलवार की सुबह स्नान कर घर के पूजन स्थल में बैठ जाएं। तांबे की थाली लें और उस पर 9 पीपल के पत्ते रखें। अब चौदह मुखी रुद्राक्ष को गंगाजल से साफ कर उसे थाली में रखें और इसके ऊपर चंदन का तिलक लगाएं। इसके बाद फूल अर्पित करें और घी का दीपक जलाएं।

On Tuesday morning, after taking a bath, sit in the place of worship in your home. Take a copper plate and place 9 leaves of the Peepal tree on it. Now, cleanse the 14 Mukhi Rudraksha with Ganga water and put it on the plate. Apply a sandalwood tilak on it. Then, offer flowers and light a ghee lamp.

अब ऊं नम:, ऊं नम: शिवाय का १०८ बार जाप करें और फिर १४ मुखी रुद्राक्ष को लाल रेशम के धागे या सोने या चांदी की चेन में धारण कर लें। आप इसे ब्रेसलेट में भी पहन सकते हैं।

Now, chant “Om Namah” and “Om Namah Shivaya” 108 times each and then wear the 14 Mukhi Rudraksha in a red silk thread or in gold or silver chain. You can also wear it as a bracelet.

The 14 Mukhi Rudraksha is considered the most precious divine gem among all Rudraksha beads. It awakens the sixth sense of the wearer, enabling them to have premonitions of future events. Those who wear it are seldom unsuccessful in their decisions. It provides liberation from all adversities, troubles, and worries. Wearing it grants protection, security, wealth, and self-power to the wearer. It is highly effective in alleviating the sufferings caused by Saturn and can work miracles in curing various illnesses. It is advised to wear it on the chest, forehead, or right hand.

14 मुखी रुद्राक्ष को सभी रुद्राक्ष मालाओं में सबसे कीमती दिव्य रत्न माना जाता है। यह पहनने वाले की छठी इंद्रिय को जागृत करता है, जिससे उन्हें भविष्य में होने वाली घटनाओं का पूर्वाभास हो जाता है। इसे धारण करने वाले लोग अपने निर्णयों में कम ही असफल होते हैं। यह सभी विपत्तियों, परेशानियों और चिंताओं से मुक्ति प्रदान करता है। इसे धारण करने से धारक को सुरक्षा, सुरक्षा, धन और आत्मबल की प्राप्ति होती है। यह शनि के कारण होने वाली पीड़ा को कम करने में अत्यधिक प्रभावी है और विभिन्न बीमारियों को ठीक करने में चमत्कार कर सकता है। इसे छाती, माथे या दाहिने हाथ पर पहनने की सलाह दी जाती है।

The 14 Mukhi Rudraksha holds great significance in Hindu mythology and spirituality. It is believed to represent Lord Hanuman, the divine monkey god known for his loyalty, strength, and devotion to Lord Rama. This rare and powerful bead is highly sought after by those seeking protection, spiritual growth, and success in life.

14 मुखी रुद्राक्ष हिंदू पौराणिक कथाओं और आध्यात्मिकता में बहुत महत्व रखता है। ऐसा माना जाता है कि यह भगवान हनुमान का प्रतिनिधित्व करता है, जो दिव्य वानर देवता हैं, जो भगवान राम के प्रति अपनी वफादारी, ताकत और भक्ति के लिए जाने जाते हैं। सुरक्षा, आध्यात्मिक विकास और जीवन में सफलता चाहने वाले लोगों द्वारा इस दुर्लभ और शक्तिशाली मनके की अत्यधिक मांग की जाती है।

The sixth sense, awakened by the 14 Mukhi Rudraksha, is said to provide the wearer with heightened intuition and foresight. This intuitive ability allows individuals to make better decisions and navigate through life’s challenges with confidence. By wearing this divine gem, one may receive guidance from within and gain insights into upcoming events and circumstances.

कहा जाता है कि 14 मुखी रुद्राक्ष द्वारा जागृत छठी इंद्रिय, पहनने वाले को उन्नत अंतर्ज्ञान और दूरदर्शिता प्रदान करती है। यह सहज क्षमता व्यक्तियों को बेहतर निर्णय लेने और आत्मविश्वास के साथ जीवन की चुनौतियों से निपटने की अनुमति देती है। इस दिव्य रत्न को धारण करने से व्यक्ति भीतर से मार्गदर्शन प्राप्त कर सकता है और आने वाली घटनाओं और परिस्थितियों के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकता है।

Apart from its intuitive properties, the 14 Mukhi Rudraksha is considered a shield against negative energies and misfortunes. It is believed to create a protective aura around the wearer, guarding them from malevolent forces and attracting positive energies. This protective shield can offer relief from various troubles and obstacles, promoting a smoother and more prosperous life journey.

अपने सहज गुणों के अलावा, 14 मुखी रुद्राक्ष को नकारात्मक ऊर्जाओं और दुर्भाग्य के खिलाफ एक ढाल माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि यह पहनने वाले के चारों ओर एक सुरक्षात्मक आभा बनाता है, उन्हें बुरी ताकतों से बचाता है और सकारात्मक ऊर्जा को आकर्षित करता है। यह सुरक्षा कवच विभिन्न परेशानियों और बाधाओं से राहत प्रदान कर सकता है, एक सहज और अधिक समृद्ध जीवन यात्रा को बढ़ावा दे सकता है।

Furthermore, the bead is associated with healing properties and is believed to have a positive impact on physical and mental well-being. It is thought to be especially effective in alleviating the negative influences of Saturn (Shani), a planet known for its association with hardships and challenges. Thus, wearing this Rudraksha is believed to bring relief from Saturn-related afflictions, such as Sade Sati or Saturn’s transit.

इसके अलावा, मनका उपचार गुणों से जुड़ा हुआ है और माना जाता है कि इसका शारीरिक और मानसिक कल्याण पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। ऐसा माना जाता है कि यह शनि के नकारात्मक प्रभावों को कम करने में विशेष रूप से प्रभावी है, यह ग्रह कठिनाइयों और चुनौतियों से जुड़े रहने के लिए जाना जाता है। इस प्रकार, माना जाता है कि इस रुद्राक्ष को पहनने से शनि संबंधी कष्टों, जैसे साढ़े साती या शनि के गोचर से राहत मिलती है।

The 14 Mukhi Rudraksha is often recommended for those facing health issues, as it is believed to possess miraculous healing abilities. However, it is essential to note that while the bead may provide spiritual and emotional benefits, it should not be a substitute for professional medical treatment.

स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करने वाले लोगों के लिए अक्सर 14 मुखी रुद्राक्ष की सिफारिश की जाती है, क्योंकि ऐसा माना जाता है कि इसमें चमत्कारी उपचार क्षमताएं होती हैं। हालाँकि, यह ध्यान रखना आवश्यक है कि मनका आध्यात्मिक और भावनात्मक लाभ प्रदान कर सकता है, लेकिन इसे पेशेवर चिकित्सा उपचार का विकल्प नहीं होना चाहिए

In terms of wearing the Rudraksha, it is suggested to place it on the chest, forehead, or right hand to maximize its potential effects. As with any sacred item, it is recommended to treat the Rudraksha with respect and perform regular rituals like cleansing it with water or milk to maintain its sanctity.

रुद्राक्ष पहनने के संदर्भ में, इसके संभावित प्रभावों को अधिकतम करने के लिए इसे छाती, माथे या दाहिने हाथ पर रखने का सुझाव दिया जाता है। किसी भी पवित्र वस्तु की तरह, रुद्राक्ष को भी सम्मानपूर्वक मानने और इसकी पवित्रता बनाए रखने के लिए इसे पानी या दूध से साफ करने जैसे नियमित अनुष्ठान करने की सिफारिश की जाती है।

In conclusion, the 14 Mukhi Rudraksha is a rare and highly revered divine gem, carrying immense spiritual significance and potential benefits for the wearer. As with any spiritual practice, it is essential to approach it with faith, respect, and a sincere desire for personal growth and well-being.

14 मुखी रुद्राक्ष एक दुर्लभ और अत्यधिक पूजनीय दिव्य रत्न है, जो पहनने वाले के लिए अत्यधिक आध्यात्मिक महत्व और संभावित लाभ रखता है। किसी भी आध्यात्मिक अभ्यास की तरह, इसे विश्वास, सम्मान और व्यक्तिगत विकास और कल्याण की सच्ची इच्छा के साथ अपनाना आवश्यक है।

One thought on “14 Mukhi Rudraksha

  1. Very nice

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Categories

Open chat
💬 Need help?
Namaste🙏
How i can help you?