11 Mukhi Rudraksh

  • Home
  • Blog
  • 11 Mukhi Rudraksh

11 Mukhi Rudraksh

एकादशमुखी रुद्राक्ष का महत्व: Importance of Eleven Mukhi Rudraksha (11 Mukhi Rudraksh)

एकादशमुखी रुद्राक्ष के बारे में स्कंदपुराण में भगवान शिव ने वर्णन करते हुए कहा कि इसका संबंध भगवान के रूद्र स्वरुप से है। जो भी जातक इसे धारण करते हैं उसे हज़ार अश्वमेध यज्ञ करने, सौ बाजपेय यज्ञ करने और चंद्रग्रहण में दान करने के बराबर फल प्राप्त होता है। इसमें भगवान शिव के सर्वश्रेष्ठ 11 अवतारों की शक्तियां समाहित हैं।

The significance of the 11 Mukhi Rudraksha is described in the Skanda Purana, where Lord Shiva mentioned its connection to his Rudra form. Whoever wears this Rudraksha receives the rewards equivalent to performing a thousand Ashwamedha Yajnas, a hundred Bajpeya Yajnas, and donating during a lunar eclipse. It embodies the energies of Lord Shiva’s eleven greatest avatars.

धारण मंत्र–’ॐ ह्रीं ह्रुं नम:’ Mantra for wearing 11 Mukhi Rudraksha: “Om Hreem Hrum Namah”

एकादशमुखी रुद्राक्ष पहनने के फायदे: Benefits of wearing 11 Mukhi Rudraksha

एकादशमुखी रुद्राक्ष धारण करने से भाग्योदय होता है। धन वृद्धि होती है साथ ही व्यक्ति पर भगवान शिव की कृपा सदैव बनी रहती है।

Bestows prosperity and wealth, and the blessings of Lord Shiva always remain with the wearer

यह रुद्राक्ष अत्यंत दुर्लभ श्रेणी का है, मान्यता है कि इस प्रकार का रुद्राक्ष बहुत भाग्यवान लोगों को ही प्राप्त होता है।

This Rudraksha belongs to a highly rare category, and it is believed that it is obtained only by extremely fortunate individuals.

इसे प्रयोग में लाने वाला व्यक्ति जन्म-मृत्यु के चक्र से मुक्त हो सकता है।

Wearing it can free the wearer from the cycle of birth and death

एकादशमुखी रुद्राक्ष कई गंभीर और लाइलाज बिमारियों जैसे कैंसर, पित्ताश्मरी, अपस्मार आदि रोगों का शमन करता है।

It is known to alleviate serious and incurable diseases like cancer, jaundice, epilepsy, etc.

ग्यारह मुखी रुद्राक्ष वेदिक धरोहर में महत्वपूर्ण माना जाता है और यह माना जाता है कि इसमें दिव्य शक्तियाँ होती हैं। यह ग्यारह रुद्र रूप भगवान शिव के संबंधित माना जाता हैं। रुद्राक्ष के हर मुख में एक रुद्र को प्रतिस्थापित किया जाता है।

The Eleven Mukhi Rudraksha is a significant bead in Hindu mythology and is believed to possess divine powers. It is associated with the eleven Rudras, which are manifestations of Lord Shiva. Each face of the Rudraksha represents one of the eleven Rudras.

ग्यारह मुखी रुद्राक्ष धारण के फायदे: Benefits of wearing the 11 Mukhi Rudraksha:

आध्यात्मिक विकास: ग्यारह मुखी रुद्राक्ष माला आध्यात्मिक जागरूकता को बढ़ावा देने में मदद करती है और आध्यात्मिक विकास को बढ़ाती है। इससे ध्यान और आंतरिक अन्वेषण में सहायता मिलती है।

Spiritual Growth: The 11 Mukhi Rudraksha is believed to enhance spiritual awareness and promote spiritual growth. It is said to aid in meditation and inner exploration.

सुरक्षा: इससे नकारात्मक ऊर्जाओं, शैतानी आत्माओं और काला जादू से सुरक्षा मिलती है। धारक को भयानक शक्तियों से बचाने में मदद कर सकती है।

Protection: It provides protection from negative energies, evil spirits, and black magic. The wearer may feel shielded from malevolent forces.

भय से मुक्ति: ग्यारह मुखी रुद्राक्ष से व्यक्ति भयों, चिंताओं और फोबियाओं को पार करने में मदद मिलती है। यह साहस और निडरता को बढ़ावा करती है।

Overcoming Fears: This Rudraksha is believed to help in overcoming fears, anxieties, and phobias. It promotes courage and fearlessness.

स्वास्थ्य लाभ: ग्यारह मुखी रुद्राक्ष को अच्छे स्वास्थ्य और चिकित्सा से जोड़ा जाता है। इससे विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं और बीमारियों का इलाज हो सकता है।

Health Benefits: The Eleven Mukhi Rudraksha is associated with good health and healing. It may help in curing various health issues and ailments.

समृद्धि और सफलता: इसके धारण से धन और समृद्धि की प्राप्ति होती है। यह अवसरों को बढ़ाता है और वित्तीय विकास लाता है।

Prosperity and Success: It is said to attract prosperity and success in the wearer’s life. It may enhance opportunities and bring financial growth.

बाधाओं का निवारण: ग्यारह मुखी रुद्राक्ष धारक के मार्ग में आने वाली बाधाओं को हटा देती है। इससे जीवन में सुगम प्रगति होती है।

Removing Obstacles: This Rudraksha is believed to remove obstacles and hindrances from the wearer’s path, allowing for smoother progress in life.

भावनात्मक संतुलन: इससे आत्मिक संतुलन और समरसता मिलती है। यह तनाव को कम करने और संबंधों में समानता को प्रोत्साहित करने में मदद करती है।

Emotional Balance: The Eleven Mukhi Rudraksha is thought to bring emotional stability and balance. It may help in reducing stress and promoting harmony in relationships

अन्तर्ज्ञान का समृद्धिकरण: इसे अन्तर्ज्ञान और आंतरिक ज्ञान को बढ़ावा मिलता है, जिससे धारक जीवन में बेहतर निर्णय ले सकता है।

Strengthening Intuition: It is believed to amplify intuition and inner wisdom, helping the wearer make better decisions in life.

सकारात्मक आभा: ग्यारह मुखी रुद्राक्ष धारक के चारों ओर सकारात्मक आभा का प्रचार होता है, जो सकारात्मकता और शुभ भाग्य को आकर्षित करता है।

Positive Aura: Wearing the Eleven Mukhi Rudraksha is said to radiate a positive aura around the wearer, attracting positivity and good fortune.

ग्यारह मुखी रुद्राक्ष को धारण करने की विधि: Procedure for wearing the Eleven Mukhi Rudraksha

ग्यारह मुखी रुद्राक्ष को लाल सूत्र या धातु की माला के रूप में धारण किया जा सकता है।

The Eleven Mukhi Rudraksha can be worn as a pendant or as a bracelet.

धारण से पहले, रुद्राक्ष को गंगा जल या दूध के साथ रात भर के लिए भिगो दें।

Before wearing, the Rudraksha should be purified by soaking it in water mixed with Ganges water or milk overnight.

चुनी हुई तिथि पर (विशेषकर सोमवार) नहाने के बाद, शांत और ध्यान में बैठें।

On the chosen day (preferably Monday), after bathing, sit in a calm and meditative state.

रुद्राक्ष को हाथ में लेकर “ॐ ह्रीं हुं नमः” मंत्र का १०८ बार या ११ बार जाप करें।

Hold the Rudraksha in your hand and chant the mantra “Om Hreem Hum Namah” 108 times or 11 times.

फिर रुद्राक्ष को चाँदी, सोने या तांबे के तारे या लाल सूत्र में बांध लें।

You can then wear the Rudraksha close to your skin, either with a thread or metal chain.

One thought on “11 Mukhi Rudraksh

  1. Very nice

Leave a Reply

Categories