Ten Mukhi Rudraksha

  • Home
  • Blog
  • Ten Mukhi Rudraksha

Ten Mukhi Rudraksha

दसमुखी रुद्राक्ष का महत्व: The importance of the Ten Mukhi Rudraksha

दसमुखी रुद्राक्ष भगवान विष्णु यानी जनार्दन का प्रतिनिधित्व करता है, जो पूरे ब्रह्मांड के संचालक है।

The Ten Mukhi Rudraksha represents Lord Vishnu, also known as Janardana, who is the controller of the entire universe.

दसमुखी रुद्राक्ष के धारण के फायदे: Benefits of wearing the Ten Mukhi Rudraksha

दसमुखी रुद्राक्ष माला को धारण करने वाला व्यक्ति और उसका परिवार सदैव भगवान विष्णु की छत्रछाया में रहता है और विष्णुजी एक सरंक्षक के तौर पर उनकी रक्षा करते हैं।

The wearer and their family remain under the protection of Lord Vishnu’s divine aura, and Vishnu acts as their guardian.

इस रुद्राक्ष पर यमराज की भी कृपा दृष्टि बनी हुई है, इसके प्रयोग से व्यक्ति अकाल मृत्यु के भय से मुक्त हो सकता है।

It is believed that Yamaraja, the god of death, bestows his blessings upon the wearer, providing protection from untimely death.

प्रसव काल (प्रसव का अर्थ होता है जनन या बच्चे को जन्म देना से ठीक पहले) यदि इस दसमुखी रुद्राक्ष माला को स्त्री की कमर में बांध दिया जाए तो इससे प्रसव क्रिया कम कष्ट पूरी होती है।

For pregnant women, wearing the Ten Mukhi Rudraksha mala around the waist during childbirth can ease the delivery process.

मिर्गी, हकलाना, सूखा रोग जैसी बिमारियों से व्यक्ति को छुटकारा मिलता है।

The Rudraksha is known to alleviate conditions like epilepsy, stammering, and dry diseases

दस मुखी रुद्राक्ष काला जादू, भूत-प्रेत और अकेलेपन आदि के भय से छुटकारा दिलाता है।

It provides protection from black magic, ghosts, and loneliness.

तनाव और अनिद्रा की शिकायत रखने वालों के लिए यह लाभकारी है।

People suffering from stress and insomnia find relief by wearing this Rudraksha.

नवग्रह की शांति और वास्तु दोषों को समाप्त करने में मुख्य भूमिका निभाता है।

It plays a significant role in calming the effects of malefic planets and rectifying vastu doshas.

किसी भी प्रकार की कानूनी समस्या से निपटने के लिए और व्यापार में हो रही समस्याओं से निजात दिलाता है।

Wearing it is believed to help in resolving legal issues and overcoming business-related problems.

सम्मान शांति और सौंदर्य मिलता है। It brings harmony, peace, and enhances one’s beauty and dignity.

कान और हृदय की बीमारियों में राहत मिलती हैं The Ten Mukhi Rudraksha is known to alleviate ear and heart-related ailments.

विवाह में परेशानी और बृहस्पति ग्रह से सम्बन्ध रखने वालों को दसमुखी रुद्राक्ष धारण करना चाहिए।

Individuals facing marriage-related challenges and those affected by the planet Jupiter should wear the Ten Mukhi Rudraksha.

दसमुखी रुद्राक्ष की पहचान: Identification of the Ten Mukhi Rudraksha

दसमुखी रुद्राक्ष दस मुखी रुद्राक्ष कहलाती है। रुद्राक्ष के पेड़ मुख्यतः इंडोनेशिया और नेपाल में होते हैं।

The Ten Mukhi Rudraksha is known for its ten facets or segments. Rudraksha trees are primarily found in Indonesia and Nepal

इंडोनेशिया के 10 मुखी रुद्राक्ष के पेड़ के दाने 4 से 15 मिलीमीटर व्यास वाले होते हैं।

In Indonesia, the seeds of the Ten Mukhi Rudraksha have a diameter of 4 to 15 millimeters.

नेपाल के 10 मुखी रुद्राक्ष के पेड़ के दाने 10 से 33 मिलीमीटर व्यास वाले होते हैं।

In Nepal, the seeds of the Ten Mukhi Rudraksha have a diameter of 10 to 33 millimeters.

दसमुखी रुद्राक्ष धारण की विधि: Method of wearing the Ten Mukhi Rudraksha

पहले दसमुखी रुद्राक्ष को गंगाजल में स्नान करवाएं।

First, the Ten Mukhi Rudraksha should be washed with Gangajal (water from the river Ganges).

इसके बाद दसमुखी रुद्राक्ष को चंदन लगाएं, धूप दिखाएं और सफेद फूल चढ़ाएं।

Then, apply sandalwood paste on the Rudraksha, offer it incense, and place white flowers near it.

इसके बाद दसमुखी रुद्राक्ष को शिवजी की मूर्ति या शिवलिंग से स्पर्श करवाएं।

After that, touch the Ten Mukhi Rudraksha to a Shiva idol or a Shiva linga.

Dharan Mantra धारण मंत्र

 धारण मंत्र- ‘ॐ नम: शिवाय’ का 11 बार जाप करें।

Finally, chant the mantra “Om Namah Shivaya” eleven times while wearing the Rudraksha.

One thought on “Ten Mukhi Rudraksha

  1. Very nice guru ji

Leave a Reply

Categories