20 Mukhi Rudraksha

  • Home
  • Blog
  • 20 Mukhi Rudraksha

20 Mukhi Rudraksha

 20 Mukhi Rudrakshaबीसमुखी रुद्राक्ष का महत्व: Importance of 20 Mukhi Rudraksha

यह 20 मुखों वाला रुद्राक्ष भी दुर्लभ श्रेणी में आने वाले रुद्राक्षों में शामिल है। इसके अंतर्गत नवग्रह- सूर्य, सोम, मंगल, बुध, बृहस्पति, शुक्र, शनि, राहु और केतु समेत दिक्पालों तथा त्रिदेव की शक्तियां समाहित होती है।

The 20-mukhi Rudraksha holds significant importance and is considered rare among all the types of Rudrakshas. It represents the nine planets, including the Sun, Moon, Mars, Mercury, Jupiter, Venus, Saturn, Rahu, Ketu, as well as the guardian deities and the powers of the trinity

Spiritual Significance of 20 Faces Rudraksha :

बीस मुखी रुद्राक्ष परम ब्रह्म द्वारा धन्य है, जो वेदों के त्रिवेदों में से एक हैं। त्रिदेवों में भगवान ब्रह्मा, विष्णु और महेश शामिल हैं। यह माना जाता है कि दिव्य शक्तियां, इस मनके में केंद्रित हैं। यह प्रबल होता है और मन को प्रसन्न करता है। ऐसा माना जाता है कि इस मनके में दैवीय शक्तियां केंद्रित हैं। इस मनके को धारण करने से जीवन के सभी क्षेत्रों में नम्रता और ज्ञान की प्राप्ति होती है। यह मनका शक्तियों का एक संयोजन है जो पहनने वाले को भौतिक सफलता को विकसित करने, सीखने, निरीक्षण करने और प्राप्त करने में मदद करता है। यह रुद्राक्ष धन और आध्यात्मिक विकास में मदद करता है और यह धारक को बुद्धिमान निर्णय लेने के लिए प्रेरित करता है। इस रुद्राक्ष के स्वामी ग्रह सभी नौ ग्रह है और वे चंद्रमा के क्रूर प्रभाव से व्यक्ति की रक्षा करते हैं।

The 20-mukhi Rudraksha is believed to be blessed by the Supreme Brahman and is associated with the Trinity of Brahma, Vishnu, and Shiva. It is said to encompass divine powers within it and is considered potent and capable of pleasing the mind. It is believed to be a combination of energies that assist the wearer in achieving material success, learning, introspection, and attaining spiritual growth. This Rudraksha is believed to aid in wealth and spiritual development and inspire the wearer to make wise decisions. The ruling deities of this Rudraksha are the nine planets, and they protect the wearer from the malefic effects of the Moon.

20 मुखी रुद्राक्ष पर भगवान कुबेर की कृपा होती है, जिन्हें धन का रक्षक माना जाता है। इस रुद्राक्ष के स्वामी ग्रह सभी नौ ग्रह हैं और ये व्यक्ति को चंद्रमा के क्रूर प्रभाव से बचाते हैं। वैदिक ज्योतिष में ग्रह लगातार एक राशि से दूसरी राशि में घूमते रहते हैं। प्रत्येक राशि और उनके स्वामी के साथ उनके संबंध प्रत्येक व्यक्ति के जीवन में घटनाओं का आधार बनते हैं। कुछ का सकारात्मक प्रभाव पड़ता है जबकि कुछ का नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। इसलिए प्रत्येक व्यक्ति की कुंडली एक नक्शा है जो किसी के जीवन में ग्रहों की गति और प्रभाव को दर्शाता है। 20 मुखी रुद्राक्ष |

20 मुखी रुद्राक्ष के लाभ: Benefits of the 20-mukhi Rudraksha

यह आध्यात्मिक लाभ प्रदान करता है।

 Provides spiritual benefits.

यह मानसिक शांति प्रदान करता है।

 Brings mental peace and tranquility

यह घुटने और जोड़ों के दर्द को कम करने में भी मदद करता है।

 Helps alleviate knee and joint pain

यह पहनने वाले को हाई हीलिंग एनर्जी स्थानांतरित करता है।

Transmits higher healing energies to the wearer

यह व्यक्ति को अधिक ईमानदार बनने में मदद करता है।

 Assists in becoming more honest and truthful

यह व्यक्ति में आत्म-विश्वास बढ़ाने में मदद करता है।

Increases self-confidence in the wearer

यह आंखों की दृष्टि में सुधार करने में मदद करता है। Improves eyesight

यह पहनने वाले के आस-पास के सभी प्रकार के बुरे मंत्रों को दूर रखता है।

 Acts as a shield against negative energies and influences

यह नाम, प्रसिद्धि और वृद्धि को अनुदान देता है।

Bestows name, fame, and growth.

यह पहनने वाले के आस-पास के सभी प्रकार के बुरे मंत्रों को दूर रखता है। Provides protection from the malefic effects of the Moon

20 मुखी रुद्राक्ष को धारण करने की विधि: Method of wearing the 20-mukhi Rudraksha

पहनने का दिन: सोमवार को 20 मुखी रुद्राक्ष पहनने के लिए शुभ दिन होने की सलाह दी जाती है। सुबह जल्दी उठकर स्नान करें, साफ कपड़े पहनें और फिर पूर्व दिशा की ओर मुख करके “ऊँ ज्ञां ज्ञीं लं अं ऐं श्रीं” मंत्र का जाप करते हुए रुद्राक्ष को धारण करें। आप इसे गले में या ब्रेसलेट के रूप में पहन सकते हैं। आप मनके को चांदी या सोने में जड़कर और लाल धागे में पिरोकर पेंडेंट के रूप में धारण कर सकते हैं।

धारण मंत्र: ‘ह्रीं ह्रीं हूं हूं ब्रह्मणे नमः’

Day to wear: Monday is considered auspicious for wearing the 20-mukhi Rudraksha. Wake up early in the morning, take a bath, wear clean clothes, and then face the east direction while chanting the mantra ‘Om Hreem Hreem Hoom Hoom Brahmane Namah.’ After chanting, wear the Rudraksha as a pendant around your neck or as a bracelet. You can also string the bead in silver or gold and wear it as a pendant with a red thread.

Dharan Mantra: ‘ह्रीं ह्रीं हूं हूं ब्रह्मणे नमः’ (Om Hreem Hreem Hoom Hoom Brahmane Namah)

One thought on “20 Mukhi Rudraksha

  1. Very nice guru ji

Leave a Reply

Categories