The Ultimate Guide to Chhath Puja-2023

  • Home
  • Blog
  • The Ultimate Guide to Chhath Puja-2023

The Ultimate Guide to Chhath Puja-2023

The Ultimate Guide to Chhath Puja: Dates, Rituals, and Significance (छठ पूजा: तिथियाँ, रीति-रिवाज और महत्व )

Introduction (परिचय )

Welcome to Chhath Puja, one of the most sacred and important festivals celebrated in India. In this article, we will discuss in detail about Chhath Puja, including its dates, rituals, and significance. Join us on this spiritual journey where we explore the religious traditions associated with this holy festival. Chhath Puja is a significant and prominent Hindu festival according to the Hindi calendar. It is celebrated with great enthusiasm in Uttar Pradesh, Bihar, Jharkhand, Odisha, and West Bengal. The schedule and important dates for Chhath Puja 2023 are provided here to give you detailed information about this festival..

छठ पूजा में आपका स्वागत है, जो भारत में मनाए जाने वाले सबसे पवित्र और महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है। इस लेख में, हम छठ पूजा की विस्तृत जानकारी के बारे में चर्चा करेंगे, जिसमें इसकी तिथियाँ, रीति-रिवाज और महत्व शामिल हैं। हमारे साथ इस आध्यात्मिक यात्रा में शामिल हों, जहां हम इस पवित्र त्योहार के साथ जुड़े धार्मिक परंपराओं की खोज करेंगे। छठ पूजा हिन्दी कैलेंडर के अनुसार एक महत्वपूर्ण और प्रमुख हिन्दू त्योहार है। यह पूजा उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, ओडिशा, और पश्चिम बंगाल में विशेष रूप से मनाया जाता है। छठ पूजा 2023 का आयोजन और महत्वपूर्ण तिथियाँ यहां दी गई हैं, जो आपको इस उत्सव के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान करेंगी।

What is Chhath Puja? (छठ पूजा क्या है?)

Chhath Puja is an ancient Hindu festival dedicated to Lord Surya, also known as the Sun God. This festival is celebrated with great enthusiasm and devotion, primarily in the northern regions of India, particularly Bihar, Jharkhand, and Uttar Pradesh states. Chhath Puja is a four-day festival that usually falls in the month of October or November, following six days after Diwali, the festival of lights. It is a significant worship of Lord Surya, also known as Chhathi Mata. During this puja, devotees worship and seek blessings from Mother Chhathi. Chhath Puja involves various religious rituals performed during the sunrise and sunset. This puja is organized near bodies of clean water and is associated with naturalistic observances, particularly in proximity to water bodies during the holy bathing rituals

छठ पूजा एक प्राचीन हिंदू त्योहार है जो सूर्य देव को समर्पित है, जिसे सुर्य देव के नाम से भी जाना जाता है। इस त्योहार को बहुत उत्साह और भक्ति के साथ मनाया जाता है, और इसे मुख्य रूप से भारत के उत्तरी क्षेत्रों, विशेष रूप से बिहार, झारखंड और उत्तर प्रदेश राज्यों में मनाया जाता है। छठ पूजा एक चार दिवसीय त्योहार है जो अक्टूबर या नवंबर के महीने में आता है, आमतौर पर दीवाली, प्रकाश का त्योहार, के छः दिन बाद होता है।छठ पूजा एक महत्वपूर्ण सूर्य देवता की पूजा है, जिसे छठी माता के नाम से भी जाना जाता है। इस पूजा के दौरान, मां छठी की आराधना की जाती है और उनके आशीर्वाद की प्रार्थना की जाती है। छठ पूजा में सूर्योदय और सूर्यास्त के समय अनेक धार्मिक अनुष्ठान होते हैं। यह पूजा प्राकृतिक आधार पर आयोजित की जाती है और इसे साफ जल के नजदीक के जलमग्न ग्रहण स्थलों पर मनाया जाता है।

छठ पूजा 2023 की तिथियाँ

17 नवम्बर 2023 – शुक्रवार: नहाय-खाय

18 नवम्बर 2023 – शनिवार: खरानी/ लोहंडी

19 नवम्बर 2023 – रविवार डूबते सूर्य को अर्घ्य

20 नवम्बर 2023 – सोमवार:  Usha Argh अर्घ/Paran: उगते सूर्य को अर्घ्य

Significance of Chhath Puja (छठ  पूजा का महत्व )

Chhath Puja holds immense spiritual significance and is believed to bring prosperity, good health, and happiness to the devotees and their families. It is also considered as a way to express gratitude to the Sun God for sustaining life on earth and providing energy for various life processes. The festival is deeply rooted in the culture and traditions of the people of Bihar and plays a crucial role in strengthening community bonds.

छठ पूजा में व्रत रखने से श्रद्धा, समर्पण, और पवित्रता की भावना संतुलित होती है। व्रत के द्वारा हम अपने शरीर, मन, और आत्मा को शुद्ध करते हैं और छठी माई की कृपा प्राप्त करते हैं। छठ पूजा व्रत का महत्वपूर्ण हिस्सा है और इसे नियमित रूप से आचरण करने से अनेक लाभ मिलते हैं।छठ पूजा का महत्व अत्यंत आध्यात्मिक है और इसे मान्यता है कि यह भक्तों और उनके परिवारों को समृद्धि, अच्छी सेहत और खुशियां लाता है। इसे धरती पर जीवन को बनाए रखने और विभिन्न जीवन प्रक्रियाओं के लिए ऊर्जा प्रदान करने के लिए सूर्य देव के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने का तरीका माना जाता है। यह त्योहार बिहार की संस्कृति और परंपराओं में गहरी जड़ें रखता है और समुदाय के संबंधों को मजबूत करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

शारीरिक और मानसिक लाभ (Physical and Mental Benefits)

छठ पूजा व्रत रखने से हमारे शारीरिक और मानसिक लाभ होते हैं। इस व्रत के दौरान हम आहार की प्रतिबंधितता के बावजूद एक स्वस्थ आहार लेते हैं, जिससे हमारा शारीर स्वच्छंद और पुनर्जीवित होता है। व्रत रखने से मन की शांति और ध्यान में स्थिरता आती है, जिससे हमारा मानसिक स्वास्थ्य सुधारता है।

Observing the Chhath Puja fast leads to physical and mental benefits. During this fast, despite restricting our diet, we consume a healthy meal, which helps cleanse and rejuvenate our body. Fasting brings peace to the mind and stability in meditation, thereby improving our mental well-being.

कर्मिक और आध्यात्मिक लाभ (Karmic and Spiritual Benefits)

छठ पूजा व्रत के द्वारा हम अपने कर्मिक और आध्यात्मिक लक्ष्यों की प्राप्ति करते हैं। इस व्रत के द्वारा हम सूर्य देव की पूजा और आराधना करते हैं, जो हमें धार्मिक और आध्यात्मिक उन्नति की ओर ले जाता है। हमारे कर्मिक बंधनों का संक्षेपण होता है और हम उच्चतम चेतना की ओर बढ़ते हैं।

Through the Chhath Puja fast, we attain our karmic and spiritual goals. By worshiping and adoring the Sun God during this fast, we are led towards religious and spiritual progress. Our karmic bonds are minimized, and we progress towards higher consciousness.

छठ पूजा के मंत्र (Chhath Puja Mantras)

छठ पूजा के दौरान निम्नलिखित मंत्रों का जाप करना चाहिए:

सूर्य मंत्र: “ॐ घृणिः सूर्याय नमः” (१०८ बार जप करें)

छठी माई मंत्र: “ॐ छठी माई नमः” (१०८ बार जप करें)

Chhath Puja Mantras

During Chhath Puja, it is advisable to chant the following mantras:

Sun Mantra: “Om Ghrihni Suryaya Namah” (Chant 108 times)

Chhathi Mai Mantra: “Om Chhathi Mai Namah” (Chant 108 times)

छठ पूजा में आरती और गाने (Aarti & Songs in Chhath Puja)

छठ पूजा में विभिन्न आरतियाँ और गाने भी गाए जाते हैं, जो इस उत्सव को और भी उत्साहजनक बनाते हैं। यहां छठ पूजा के प्रमुख गानों की कुछ पंक्तियाँ हैं:

मैया छठी मैया छठी होखे गीत बहुत प्यारे,

छठी मैया आवती हो दिन में तारों के प्यारे।

ऊगे सूर्य देव नव घटा, ऊगे लहरिया प्यारी,

छठी मैया आवती हो दिन में तारों के प्यारे।

खर्नी में रखलेनी तैयारी, नहियार में पूजा के संस्कारे,

छठी मैया आवती हो दिन में तारों के प्यारे।

सूर्य देव के आगमन की बातें, पूजा में निभाई सवारे,

छठी मैया आवती हो दिन में तारों के प्यारे।

छठी माई के आरती उठते, भक्तों के दिल में उमंग भरे,

छठी मैया आवती हो दिन में तारों के प्यारे।

Various aartis and songs are sung during Chhath Puja, which further enhance the enthusiasm of this festival. Here are a few lines from some popular Chhath Puja songs:

“Maaiya Chhathi Maaiya Chhathi, Hokhe geet bahut pyaare,

Chhathi Maaiya aavati ho din mein taaron ke pyaare.”

“The sun rises with new light, the waves become lovely,

Chhathi Maaiya aavati ho din mein taaron ke pyaare.”

“In preparation at the ghat, with rituals in the Nahiyar,

Chhathi Maaiya aavati ho din mein taaron ke pyaare.”

“Telling the arrival of the Sun God, fulfilling the puja,

Chhathi Maaiya aavati ho din mein taaron ke pyaare.”

“Aarti of Chhathi Maai rises, filling the hearts of devotees with joy,

Chhathi Maaiya aavati ho din mein taaron ke pyaare.”

छठ पूजा के खास प्रसाद

छठ पूजा के दौरान विशेष प्रसाद तैयार किया जाता है, जो छठी माई की कृपा को प्राप्त करने में मदद करता है। कुछ लोकप्रिय प्रसादों में शामिल हैं:

ठेकुआ: यह एक प्रकार का मिठाई होता है जिसे आटे, गुड़ और घी के साथ बनाया जाता है।

Thekua: Thekua is a sweet and crispy biscuit made from wheat flour, jaggery, and ghee. It is a traditional Prasad item and is considered auspicious during Chhath Puja.

सूजी का हलवा: यह मिठाई खास तौर पर छठ पूजा के दौरान बनाई जाती है और उसमें सूजी, चीनी, घी और खाजू होते हैं।

Rasiao-kheer: Rasiao-kheer is a delicious sweet rice pudding made with rice, milk, sugar, and flavored with cardamom and saffron. It is offered as Prasad and distributed among the devotees.

दूधपत्ती: यह मिठाई छठ पूजा के दौरान प्रसाद के रूप में तैयार की जाती है और इसमें दूध, चीनी, घी और नारियल का गुड़ होता है।

Dudhpatti: Dudhpatti is a sweet dish prepared as Prasad during Chhath Puja, and it consists of milk, sugar, ghee, and grated coconut.

छठ पूजा नहाय-खाय कब है? (Chhath Puja 2023 Nahay-khay) :   नहाय खाय  17 नवम्बर 2023 – शुक्रवार

छठ पूजा, भारतीय सामाजिक सांस्कृतिक आयोजनों में से एक है जो प्रायः उत्तर प्रदेश, बिहार, और झारखंड में विशेष रूप से मनाई जाती है। इस पूजा का आयोजन नवमी और दशमी तिथियों में होता है। इस धार्मिक आयोजन के दौरान नहाय खाय एक महत्वपूर्ण पदार्थ है जो पूजा की शुरुआत के साथ जुड़ा होता है। इस लेख में हम नहाय खाय के महत्व पर विस्तार से चर्चा करेंगे और यह जानेंगे कि इसे कैसे मनाया जाता है।

Chhath Puja is one of the prominent Indian socio-cultural events, particularly celebrated in Uttar Pradesh, Bihar, and Jharkhand. This festival is observed on the ninth and tenth lunar days of the month. During this religious event, Nahay Khay holds significant importance, as it is closely associated with the commencement of the puja. In this article, we will discuss in detail the significance of Nahay Khay and how it is observed

नहाय खाय: धार्मिक महत्व

नहाय खाय शब्द “नहाना” और “खाना” शब्दों से मिलकर बना है। इसमें “नहाना” का अर्थ होता है स्नान करना और “खाना” का अर्थ होता है भोजन करना। छठ पूजा के दिन यह दो गतिविधियाँ मान्यता से की जाती हैं। पूजा की शुरुआत में, छठी माई के भक्त स्नान और ध्यान करते हैं जिसके बाद उन्हें सूर्य देवता को जल अर्पित करना चाहिए। सूर्य देवता की पूजा करके, व्रती उनके आशीर्वाद को प्राप्त करते हैं और उनके परिवार की सुख-शांति की कामना करते हैं।

Nahay Khay: Religious Significance

The term “Nahay Khay” is derived from the combination of the words “Nahana” (meaning bathing) and “Khana” (meaning eating). On the day of Chhath Puja, these two activities are considered auspicious and hold religious significance. At the beginning of the puja, devotees of Chhathi Maiya take a holy bath and meditate, followed by offering water to the Sun God. By worshipping the Sun God, the devotees seek blessings and pray for the well-being and prosperity of their families.

पूजा की विधि और विधान (Rituals and Procedure of the Puja)

नहाय खाय के बाद, छठी माई की पूजा विधि और विधान के अनुसार आगे बढ़ती है। इस पूजा में व्रती छठी माई के भक्त खाद्य सामग्री को एकत्र करते हैं और पूजा के लिए तैयार करते हैं। पूजा में उपयोग होने वाले सामग्री में दूध, फल, पत्ते, गोलगप्पे, चावल, मिठाई, और पानी शामिल होते हैं। इन सभी सामग्रियों को सजाकर और उन्हें सूर्य देवता के लिए अर्पित करके व्रती अपनी पूजा को पूरा करते हैं।

After Nahay Khay, the worship of Chhathi Maiya progresses according to the rituals and procedures. In this puja, the devotees gather the food items and prepare them for the worship. The items used in the puja include milk, fruits, leaves, golgappas (pani puri), rice, sweets, and water. These items are arranged and decorated, and then offered to the Sun God as an offering. The devotees complete their worship by presenting these offerings to the deity.

सात्विक भोजन का महत्व (The Significance of Sattvic Food)

पूजा की समाप्ति के बाद, व्रती एक सात्विक भोजन ग्रहण करते हैं। यह भोजन उन्हें पूजा के दिन खाना चाहिए जो शरीर को पोषण प्रदान करे और स्वास्थ्य के लिए लाभदायक हो। छठ पूजा के दिन व्रती को लौकी की सब्जी खाना अनिवार्य होता है।

After the completion of the puja, the devotees partake in a sattvic meal. This meal is meant to be consumed on the day of the puja, providing nourishment to the body and promoting overall health. On the day of Chhath Puja, it is essential for the devotees to eat bottle gourd curry as a mandatory part of their meal.

छठ पूजा (छठ पर्व) की शुरुआत नहाय-खाय से ही होती है. पवित्र गंगा नदी तथा अन्य नदी घाटों पर इस दिन श्रद्धालुओं की भीड़ जमा होती है. सम्पूर्ण पवित्रता से स्नान किया जाता है. व्रत के लिए गेहूं, चावल को साफ़ और धोया जाता है.नहाय-खाय को कद्दू भात भी कहा जाता है. इस दिन लौकी की सब्जी और भात खाने की भी परंपरा है.

Chhath Puja (Chhath Parva) begins with the ritual of Nahay-Khay. On this day, a gathering of devotees is seen at the sacred banks of the holy Ganges River and other rivers. They take a complete and sacred bath. The grains like wheat and rice are thoroughly washed and cleaned for the fast.

Nahay-Khay is also known as Kaddu Bhaat (pumpkin rice). It is a tradition to eat bottle gourd curry and rice on this day.

छठ पूजा खरना कब है? (Chhath Puja 2023 Kharna)

साल 2023 में छठ पूजा खरना 18 नवम्बर 2023, शनिवार को है. इस दिन कार्तिक माह की शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि है.

In the year 2023, Chhath Puja Kharna will be observed on 18th November 2023, which falls on a Saturday. This day corresponds to the Panchami (fifth day) of the Shukla Paksha (waxing phase of the moon) in the month of Kartik.)

छठ पूजा (Chhath Puja) : खरना का महत्व और परंपरा (Significance and Tradition of Kharna)

छठ पूजा के दूसरे दिन खरना मनाया जाता है। यह दिन व्रती ब्रह्ममुहूर्त में जागती हैं और सूर्य देवता को प्रणाम कर दिन की शुरुआत करती हैं। अपने नियमित कार्यों से निवृत्त होने के बाद, व्रती गंगाजल से युक्त पानी से स्नान करती हैं। सुविधाजनक स्थान पर, वे नदी या सरोवर में अपनी आस्था की डुबकी लगाती हैं। इसके बाद, विधि विधान से पूजा करती हैं और व्रत धारण करती हैं। इस दिन व्रती पूरे दिन निर्जला उपवास रखती हैं। रात्रि में, वे कुल देवी-देवता के सामने छठ मैया की पूजा करती हैं और उनका भोजन ग्रहण करती हैं। पूजा के दौरान, खीर पूड़ी का प्रसाद बनाया जाता है। व्रती खीर का प्रसाद खाने के बाद अगले 36 घंटों तक निर्जला उपवास करती हैं। खरना की रात्रि में छठ पूजा का प्रसाद तैयार किया जाता है।

On this day, the devotees observe a nirjala upvas (fast without water) throughout the day. In the evening, they perform the puja of Chhathi Maiya in front of the deities and partake in their meal. During the puja, a prasad of kheer and puri (sweet dish made of rice and flour) is prepared. After consuming the prasad of kheer, the devotees observe a nirjala upvas (fast without water) for the next 36 hours. During the night of Kharna, the prasad for the Chhath Puja is prepared and offered to the deities.

छठ पूजा संध्या अर्घ्य कब है? (Chhath Puja 2023 Sandhya Arghya)

तीसरे दिन संध्या अर्घ्य मनाया जाता है. इस दिन व्रती और परिवारजन द्वारा सूप, डाला आदि में छठ पूजन से संबंद्धित प्रसाद, फल-फूल आदि को रखा जाता है.

संध्याकाल से पहले डाला, सूप आदि लेकर नदी, सरोवर, पोखर के घाट पर छठ व्रती और परिवारजन पहुंचतें हैं.

यहाँ व्रती पानी में उतर कर अस्त होते सूर्य का ध्यान करती है. फिर अस्ताचल गामी सूर्य देव को अर्घ्य अर्पित किया जाता है.

साल 2023 में छठ पूजा संध्या कालीन अर्घ्य 19 नवम्बर 2023, रविवार को है. इस दिन कार्तिक माह की शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि है.

On the third day, Sandhya Arghya (evening offerings) is observed. On this day, the devotees and family members keep the Prasad related to Chhath Puja, such as soup, dal, fruits, flowers, etc.Before sunset, the Chhath Vratis and their family members gather at the banks of rivers, lakes, or ponds with the Prasad items such as dal, soup, etc.

Here, the Vratis wade into the water and meditate on the setting sun. Then, they offer the Arghya (water offering) to the descending sun deity.

In the year 2023, the Sandhya Arghya (evening offerings) for Chhath Puja will be observed on 19th November 2023, which falls on a Sunday. This day corresponds to the Shashthi (sixth day) of the Shukla Paksha (waxing phase of the moon) in the month of Kartik.

छठ पूजा 2023 प्रातः अर्घ्य कब है? (Chhath Puja 2023 Usha Arghya)

चौथे दिन उगते हुए सूर्य को छठ व्रती और श्रद्धालुओं द्वारा अर्घ्य दिया जाता है. इसे उषा अर्घ्य भी कहा जाता है. प्रातः काल में उदयीमान सूर्य को अर्घ्य देने के सूर्य देव की आरती की जाती है. हवन आदि किया जाता है.

साल 2023 में छठ पूजा प्रातः अर्घ्य 20 नवम्बर 2023, सोमवार को है. इस दिन कार्तिक माह की शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि है.

On the fourth day, the rising sun is worshipped, and offerings are made by the Chhath Vratis and devotees. This ritual is known as Usha Arghya or Morning Offerings. In the early morning, the devotees perform the Aarti (ritual of waving lamps) to the rising sun. Havan (sacred fire ritual) and other rituals are also conducted.

In the year 2023, Usha Arghya (Morning Offerings) for Chhath Puja will be observed on 20th November 2023, which falls on a Monday. This day corresponds to the Ashtami (eighth day) of the Shukla Paksha (waxing phase of the moon) in the month of Kartik

छठ पूजा 2023 पारण कब है? (Chhath Puja 2023 ParanaTime) :

साल 2023 में छठ पूजा 2023 का पारण 20 नवम्बर 2023, सोमवार को है

भगवान सूर्यदेव को प्रातः कालीन अर्घ्य देने के पश्चात छठ व्रती द्वारा 36 घंटे का निर्जला व्रत समाप्त किया जाता है. इसे पारण कहतें हैं.

In the year 2023, the Parana for Chhath Puja 2023 will take place on 20th November 2023, which falls on a Monday. After offering the morning Arghya (offerings) to Lord Surya, the Chhath Vratis conclude their 36-hour long Nirjala Vrat (fast without water). This conclusion of the fast is known as Parana.

Leave a Reply

Categories