Vinayak Ganesh Chaturthi 2023

  • Home
  • Blog
  • Vinayak Ganesh Chaturthi 2023

Vinayak Ganesh Chaturthi 2023

Vinayak Ganesh Chatuthi 2023गणेश चतुर्थी(गणेश चौथ) 2023

Vinayak Ganesh Chaturthi 2023,

इस साल भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि की शुरुआत 18 सितंबर 2023 को दोपहर 02 बजकर 9 मिनट पर हो रही है। इसका समापन 19 सितंबर 2023 को दोपहर 3 बजकर 13 मिनट पर होगा। उदया तिथि के आधार पर गणेश चतुर्थी 19 सितंबर को मनाई जाएगी।

2023 में, गणेश चतुर्थी 19 सितंबर को है। अनंत चतुर्दशी 28 सितंबर को है।

2024 में, गणेश चतुर्थी 7 सितंबर को है। अनंत चतुर्दशी 16 सितंबर को है।

2025 में, गणेश चतुर्थी 27 अगस्त को है। अनंत चतुर्दशी 6 सितंबर को है।

शुक्ल पक्ष विनायक चतुर्थी-शनिवार, 29 अक्टूबर 2022

गणेश चतुर्थी (गणेश चौथ) 2023 की तिथि कब है? When is Ganesh Chaturthi in 2023?

2023 में, गणेश चतुर्थी 19 सितंबर को है। अनंत चतुर्दशी 28 सितंबर को है।

हिन्दू पंचांग के अनुसार, भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि 18 सितंबर, सोमवार की दोपहर 12:39 से 19 सितंबर, मंगलवार की दोपहर 01:43 तक रहेगी। चूंकि चतुर्थी तिथि 2 दिन रहेगी, इसलिए गणेश चतुर्थी पर्व को लेकर असमंजस की स्थिति बन रही है। कुछ विद्वानों का मानना है कि चतुर्थी तिथि को चंद्रोदय 18 सितंबर को होगा, इसलिए इस दिन गणेश उत्सव की शुरूआत होगी, वहीं कुछ का मानना है कि गणेश उत्सव की शुरूआत 19 सितंबर से होगी।

गणेश चतुर्थी (गणेश चौथ) 2023 शुभ योग-Ganesh Chaturthi 2023 Auspicious Yogas

पंचांग के अनुसार, 19 सितंबर, मंगलवार को स्वाति नक्षत्र दोपहर 01:48 तक रहेगा, इसके बाद विशाखा नक्षत्र रात अंत तक रहेगा। मंगलवार को पहले स्वाति नक्षत्र होने से ध्वजा और इसके बाद विशाखा नक्षत्र होने से श्रीवत्स नाम के 2 शुभ योग बनेंगे। इसके अलावा इस दिन वैधृति योग भी रहेगा, जो स्थिर कामों के लिए बहुत ही शुभ माना जाता है। इस दिन ग्रहों की स्थिति भी शुभ फल देने वाली रहेगी।

गणेश चतुर्थी(गणेश चौथ) क्या है? What is Ganesh Chaturthi?

गणेश चतुर्थी भगवान गणेश के जन्मदिन को याद करता है। हिन्दू धर्म में इसे उनके द्वारका द्वारका गणराज की पूजा के लिए सबसे शक्तिशाली दिन माना जाता है, जिन्होंने बाधाओं को हटाने की उनकी क्षमता के लिए पूजा किया जाता है। इस दिन, भगवान की खूबसुरत हस्तकृत मूर्तियां घरों में और सार्वजनिक स्थलों में स्थापित की जाती हैं। प्राण प्रतिष्ठा की जाती है ताकि उपासक देवता की शक्ति को मूर्ति में आमंत्रित कर सकें, इसके बाद “षोडशोपचार पूजा” के रूप में जाने जाने वाले 16 कदमों का अनुसरण किया जाता है। इस अनुष्ठान के दौरान, मूर्ति को मिठाई, नारियल, और फूलों के साथ विभिन्न आहार दिए जाते हैं। इस अनुष्ठान को भगवान गणेश का जन्म हुआ था माना जाता है, जो कि वैदिक ज्योतिष के अनुसार, भारत के विभिन्न स्थानों पर निर्भर करता है, लगभग सुबह 11 बजे से लेकर 1.30 बजे तक।

गणेश चतुर्थी (गणेश चौथ) के कुछ समयों पर चांद को न देखें? Not looking at the moon during certain times on Ganesh Chaturthi?

परंपरा के अनुसार महत्वपूर्ण है कि गणेश चतुर्थी के कुछ समयों पर चांद को न देखें। यदि कोई व्यक्ति चांद को देखता है, तो हिन्दू पौराणिक कथा के अनुसार उन्हें चोरी का आरोप लग जाता है और समाज से अपमानित किया जाता है, किसी विशेष मंत्र का जाप न करें। प्रत्यक्ष रूप से यह हुआ कि भगवान कृष्णा को एक मूल्यवान मणि की चोरी का आरोप लग गया था। संगी नारद ने कहा कि कृष्णा ने भाद्रपद शुक्ल चतुर्थी को चांद देखा होगा (जिस दिन गणेश चतुर्थी मनाई जाती है) और इसके कारण उस पर शाप आया था। इसके बाद से, जो भी लोग चांद देखते हैं, उन्हें इसी तरह का शाप लगता है।

भगवान गणेश की मूर्तियां रोज़ पूजी जाती हैं, शाम को “आरती” के साथ। सबसे बड़ी गणेश मूर्तियां, जो जनता के लिए प्रदर्शित की जाती हैं, उन्हें अनंत चतुर्दशी को पानी में ले जाते हैं, जिसमें पारंपरिक ढोलक बजाने और पटाखों की धार प्रक्रिया के साथ बड़े रोड प्रदर्शनों का हिस्सा होता है। वैसे तो बहुत से लोग जो अपने घरों में मूर्ति रखते हैं, वे इससे कहीं पहले ही विसर्जन कर लेते हैं। हालांकि, ऐसे विसर्जन केवल कुछ दिनों के बाद होते हैं – गणेश चतुर्थी के बाद आधा, तीन, पाँच और सात दिन।

अनंत चतुर्दशी क्या है? What is Anant Chaturdashi?

आपको शायद यह सोचने पर आया होगा कि गणेशी मूर्तियों का विसर्जन इस दिन क्यों समाप्त होता है। इसमें क्या विशेष है?

संस्कृत में, ‘अनंत’ शब्द शाश्वत या अनंत ऊर्जा, या अमरत्व का सूचक होता है। यह दिन वास्तव में भगवान अनंत, भगवान विष्णु के एक अवतार (जीवन को संरक्षक और संभालक माने जाने वाले, जिसे सर्वोच्च अस्तित्व भी कहा जाता है) की पूजा के लिए होता है। ‘चतुर्दशी’ का अर्थ होता है “चौदहवां”। इस मामले में, यह अवसर हिन्दू पंचांग के भाद्रपद मास के चंद्रमा के प्रकाशमान हाफ-Shukla Paksha के 14वें दिन को आता है।

गणेश चतुर्थी 2023 : पूजा विधि कैसे करें गणेश पूजा (Ganesh Chaturthi 2023 Puja vidhi)

पूजा की चौकी पर पीला कपड़ा बिछाएं. इस पर श्रीगणेश की मूर्ति स्थापित करें. गणेश जी को गंगाजल, सिंदूर, चावल, चंदन, गुलाब, मौली, दूर्वा, जनेऊ, मोदक, फल, माला और फूल चढ़ाएं. गणेश चालीसा का पाठ करें और आरती करें|

Ganesh Chatuthi Wishes :

1. वक्र तुंड महाकाय, सूर्य कोटि समप्रभ:।

निर्विघ्नं कुरु मे देव शुभ कार्येषु सर्वदा ॥

2. द्वविमौ ग्रसते भूमिः सर्पो बिलशयानिवं।

राजानं चाविरोद्धारं ब्राह्मणं चाप्रवासिनम्॥

3. नमामि देवं सकलार्थदं तं सुवर्णवर्णं भुजगोपवीतम्ं।

गजाननं भास्करमेकदन्तं लम्बोदरं वारिभावसनं च॥

4. गजाननं भूतगणादिसेवितं कपित्थजम्बूफलचारु भक्षणम्ं।

उमासुतं शोकविनाशकारकं नमामि विघ्नेश्वरपादपङ्कजम्॥

5. एकदन्तं महाकायं लम्बोदरगजाननम्ं।

विध्ननाशकरं देवं हेरम्बं प्रणमाम्यहम्॥

6. रक्ष रक्ष गणाध्यक्ष रक्ष त्रैलोक्यरक्षकं।

भक्तानामभयं कर्ता त्राता भव भवार्णवात्॥

7. विघ्नेश्वराय वरदाय सुरप्रियाय लम्बोदराय सकलाय जगद्धितायं।

नागाननाय श्रुतियज्ञविभूषिताय गौरीसुताय गणनाथ नमो नमस्ते॥

8. केयूरिणं हारकिरीटजुष्टं चतुर्भुजं पाशवराभयानिं।

सृणिं वहन्तं गणपं त्रिनेत्रं सचामरस्त्रीयुगलेन युक्तम्॥

9. गजाननाय महसे प्रत्यूहतिमिरच्छिदे ।

अपारकरुणापूरतरङ्गितदृशे नमः ॥

10. आवाहये तं गणराजदेवं रक्तोत्पलाभासमशेषवन्द्दम् ।

विध्नान्तकं विध्नहरं गणेशं भजामि रौद्रं सहितं च सिद्धया ॥

मोदक बनाने की रेसिपी (Modak Recipe)

1 कप नारियल, कद्दूकस किया हुआ

1 कप गुड़

एक चुटकी जायफल

एक चुटकी केसर

एक कप चावल का आटा

टी स्पून घी

मोदक बनाने का तरीका– The recipe for making Modak

1. गैस पर कड़ाही या पैन चढ़ाएं.

2. उसमें नारियल डालकर भूनें अब गुड़ भी मिला लें और चलाते रहें.

3. अब इसमें जायफल और केसर भी डालें.

4. अब एक बर्तन में पानी के साथ घी डालकर उबालें, फिर उसमें आटा मिला लें.

5. इसे ढक कर पकाएं.

6. अब इस आटे को गूंथ लें.

7. इससे लोई निकाल कर स्टफिंग भरें और किनारों को दबा कर मोदक का आकार दें.

गणेश चतुर्थी व्रत कथा ( Ganesh Chaturthi Vrat Katha)-1 

एक समय की बात है, भगवान शंकर और माता पार्वती नर्मदा नदी के किनारे बैठे थे। वहां पार्वती ने शिवजी से समय बिताने के लिए चौपड़ खेलने की बात की। शिवजी चौपड़ खेलने के लिए तैयार हो गए। परंतु खेल में हार-जीत का फैसला कौन करेगा?

इस प्रश्न पर विचार करते हुए, भोलेनाथ ने कुछ तिनके इकट्ठा करके उसका पुतला बनाया और उस पुतले में प्राण प्रतिष्ठा की। फिर उन्होंने पुतले से कहा कि हम चौपड़ खेलना चाहते हैं, परंतु हमारी हार-जीत का फैसला करने वाला कोई नहीं है। इसलिए तुम बताओ कि हम में से कौन हारा और कौन जीता।

इसके बाद चौपड़ का खेल शुरू हो गया। तीन बार खेला गया, और संयोग से तीनों बार पार्वती जी जीत गईं। खेल के समाप्त होने पर पुतले से हार-जीत का फैसला करने के लिए कहा गया, तो पुतले ने महादेव को विजयी बताया। यह सुनकर पार्वती जी क्रोधित हो गईं और उन्होंने क्रोध में आकर पुतले को लंगड़ा और कीचड़ में पड़े रहने का श्राप दिया। पुतले ने माता से माफी मांगी और कहा कि मुझसे अज्ञानता के कारण ऐसा हुआ, मैंने किसी द्वेष में ऐसा नहीं किया। पुतले की क्षमा मांगने पर माता ने कहा कि यहां गणेश पूजन के लिए नाग कन्याएं आएंगी, उनके कहने पर तुम गणेश व्रत करो, ऐसा करने से तुम मुझे प्राप्त करोगे। यह कहकर माता पार्वती, भगवान शिव के साथ कैलाश पर्वत पर चली गईं।

एक वर्ष के बाद उसी स्थान पर नाग कन्याएं आईं। नाग कन्याओं से श्री गणेश के व्रत की विधि जानने पर पुतले ने 21 दिन लगातार गणेश जी का व्रत किया। उसकी श्रद्धा देखकर गणेश जी प्रसन्न हो गए और श्री गणेश ने पुतले से मनचाहे फल मांगने के लिए कहा। पुतले ने कहा कि हे विनायक, मुझमें इतनी शक्ति दीजिए कि मैं अपने पैरों से चलकर अपने माता-पिता के साथ कैलाश पर्वत पर पहुंच सकूं और वे यह देखकर प्रसन्न हों।

पुतले को यह वरदान दिया गया और श्री गणेश अद्यापि अनुपस्थित हैं। पुतले के बाद कैलाश पर्वत पर पहुंचने की कथा उसने भगवान महादेव को सुनाई। उस दिन से पार्वती जी शिवजी से विमुख हो गईं। देवी की रुष्ठि होने पर भगवान शंकर ने भी पुतले द्वारा बताए गए रूप में श्री गणेश का व्रत 21 दिनों तक किया। इसके प्रभाव से माता की मनोकामना पूरी हुई और उनकी नाराजगी समाप्त हुई।

यह व्रत विधि भगवान शंकर ने माता पार्वती को बताई। इसको सुनकर पार्वती जी को भी अपने पुत्र कार्तिकेय से मिलने की इच्छा जाग्रत हुई। माता ने भी 21 दिन तक श्री गणेश व्रत किया और दूर्वा, पुष्प, और लड्डूओं से श्री गणेश जी का पूजन किया। व्रत के 21वें दिन कार्तिकेय स्वयं पार्वती जी से मिलने आएंगे। इस दिन से श्री गणेश चतुर्थी का व्रत मनोकामनाएं पूरी करने वाला व्रत माना जाता है।

गणेश चतुर्थी कथा (Ganesh Chaurthi Katha ) -2 

शिवपुराण के अनुसार एक बार माता पार्वती ने स्नान करने से पहले अपनी मैल से एक बालक को जन्म दिया और उसे अपने द्वारपाल के रूप में स्थापित किया। जब शिवजी वहां प्रवेश करना चाहे, तो उस बालक ने उन्हें रोक दिया। इस पर शिवगण ने बालक के साथ भयंकर युद्ध किया, लेकिन उसे कोई पराजित नहीं कर सका। तत्पश्चात्, भगवान शंकर ने क्रोधित होकर अपने त्रिशूल से उस बालक का सिर काट दिया। इससे माता पार्वती रुष्ट हो उठीं और उन्होंने प्रलय करने का निश्चय लिया। भयभीत देवताओं ने देवर्षि नारद की सलाह पर जगदम्बा की स्तुति करके उन्हें शांत किया। शिवजी के निर्देश पर विष्णुजी ने उत्तर दिशा में सबसे पहले मिले जीव (हाथी) का सिर काटकर लाए। मृत्युंजय रुद्र ने उस गज के सिर को बालक के धड़ पर रखकर उसे पुनर्जीवित कर दिया। माता पार्वती ने आनंद से उस गजमुखबालक को अपने हृदय से लगा लिया और देवताओं में अग्रणी होने का आशीर्वाद दिया। ब्रह्मा, विष्णु, महेश ने उस बालक को सर्वाधिकारी घोषित करके उसे पूज्य बनाया। भगवान शंकर ने बालक से कहा, “गिरिजानंदन! विघ्नों का नाश करने में तेरा नाम सर्वोपरि होगा। तू सभी का पूज्य बनकर मेरे सभी गणों का अध्यक्ष बन जा। गणेश्वर! तू भाद्रपद मास के कृष्णपक्ष की चतुर्थी को चंद्रमा के उदय के समय उत्पन्न हुआ है। इस तिथि में व्रत करने वाले के सभी विघ्न नाश हो जाएंगे और उसे सभी सिद्धियाँ प्राप्त होंगी। कृष्णपक्ष की चतुर्थी की रात्रि में चंद्रोदय के समय गणेश तुम्हारी पूजा करने के बाद व्रती चंद्रमा को अर्घ्य दें और ब्राह्मण को मिष्ठान खिलाएं। उसके बाद स्वयं भी मीठा भोजन करें। वर्षभर तक श्री गणेश चतुर्थी का व्रत करने वाले की मनोकामना अवश्य पूर्ण होती है।

गणेश चतुर्थी व्रत कथा ( Ganesh Chaurthi Vrat Katha ) -3

कथा के अनुसार एक बार भगवान शंकर और माता पार्वती नर्मदा नदी के निकट बैठे थे। वहां देवी पार्वती ने भगवान भोलेनाथ से समय व्यतीत करने के लिए चौपड़ खेलने को कहा। भगवान शंकर चौपड़ खेलने के लिए तैयार हो गए, परंतु इस खेल में हार-जीत का फैसला कौन करेगा?

इसका प्रश्न उठा, इसके जवाब में भगवान भोलेनाथ ने कुछ तिनके एकत्रित कर उसका पुतला बनाया, उस पुतले की प्राणप्रतिष्ठा कर दी और पुतले से कहा कि बेटा, हम चौपड़ खेलना चाहते हैं, परंतु हमारी हार-जीत का फैसला करने वाला कोई नहीं है। इसलिए तुम बताओ कि हम में से कौन हारा और कौन जीता।

यह कहने के बाद चौपड़ का खेल शुरू हो गया। खेल तीन बार खेला गया, और संयोग से तीनों बार पार्वती जी जीत गईं। खेल के समाप्त होने पर बालक से हार-जीत का फैसला करने के लिए कहा गया, तो बालक ने महादेव को विजयी बताया। यह सुनकर माता पार्वती क्रोधित हो गईं और उन्होंने क्रोध में आकर बालक को लंगड़ा होने और कीचड़ में पड़े रहने का श्राप दे दिया। बालक ने माता से माफी मांगी और कहा कि मुझसे अज्ञानता वश ऐसा हुआ, मैंने किसी द्वेष में ऐसा नहीं किया। बालक के क्षमा मांगने पर माता ने कहा कि यहां गणेश पूजन के लिए नाग कन्याएं आएंगी, उनके कहने अनुसार तुम गणेश व्रत करो, ऐसा करने से तुम मुझे प्राप्त करोगे। यह कहकर माता भगवान शिव के साथ कैलाश पर्वत पर चली गईं।

ठीक एक वर्ष बाद उस स्थान पर नाग कन्याएं आईं। नाग कन्याओं से श्री गणेश के व्रत की विधि मालूम करने पर उस बालक ने 21 दिन लगातार गणेश जी का व्रत किया। उसकी श्रद्धा देखकर गणेश जी प्रसन्न हो गए और श्री गणेश ने बालक से मनोकामना पूरी करने के लिए कहा। बालक ने कहा कि हाँ विनायक, मुझमें इतनी शक्ति दीजिए, कि मैं अपने पैरों से चलकर अपने माता-पिता के साथ कैलाश पर्वत पर पहुंच सकूं और वे यह देखकर प्रसन्न हों।

बालक को यह वरदान दिया गया और श्री गणेश अंतर्धान हो गए। बालक इसके बाद कैलाश पर्वत पर पहुंच गया और अपनी कथा भगवान महादेव को सुनाई। उस दिन से पार्वती जी शिवजी से विमुख हो गईं। देवी की रुष्ठि होने पर भगवान शंकर ने भी बालक के बताए अनुसार श्री गणेश का व्रत 21 दिन तक किया। इसके प्रभाव से माता की मन से भगवान भोलेनाथ के लिए जो नाराजगी थी, वह समाप्त हुई।

यह व्रत विधि भगवान शंकर ने माता पार्वती को बताई। इसे सुनकर माता पार्वती के मन में भी अपने पुत्र कार्तिकेय से मिलने की इच्छा जाग्रत हुई। माता ने भी 21 दिन तक श्री गणेश व्रत किया और दूर्वा, पुष्प और लड्डूओं से श्री गणेश जी की पूजा की। व्रत के 21वें दिन कार्तिकेय स्वयं पार्वती जी से मिलने आएं। उस दिन से श्री गणेश चतुर्थी का व्रत मनोकामना पूरी करने वाला व्रत माना जाता है।

कौन-कौन से राज्य गणेश चतुर्थी मनाते हैं? Which states celebrate Ganesh Chaturthi?

गणेश चतुर्थी/चविथी को महाराष्ट्र, गुजरात, गोवा और कर्नाटक में बड़े धूमधाम से मनाया जाता है। इस त्योहार का जश्न मनाने वाले राज्यों में अंध्र प्रदेश, तेलंगाना, तमिलनाडु, उड़ीसा, दिल्ली और पंजाब भी शामिल हैं।

विनायका चतुर्थी के लिए कौन-कौन से रितुअल्स मनाए जाते हैं? What rituals are observed for Vinayaka Chaturthi?

यह त्योहार भारत भर में एक जैसा है, लेकिन हर क्षेत्र में रितुअल्स और परंपराओं में थोड़ी सी भिन्नता होती है। यह जश्न विभिन्न स्थानों पर 7 से 10 दिनों तक मनाया जाता है। कुछ सामान्य दृष्टिकोण निम्नलिखित हैं:

गणपति मूर्ति का स्थापना: गणेश चतुर्थी के पहले दिन, भगवान गणेश की मूर्ति को घर या किसी सार्वजनिक स्थान पर पूजा के साथ स्थापित किया जाता है।

चांद की पूजा नहीं करना: त्योहार के पहले दिन, लोग चांद की ओर नहीं देखते हैं क्योंकि इसे अशुभ माना जाता है।

पूजा: मूर्ति को धोना: मंत्रों के जप के साथ पूजा करना और फूल और मिठाई की ओफरिंग करना; और आरती करना, अर्थात् मूर्ति को एक प्लेट में जले हुए मिट्टी/लोहे की दीपक, कुमकुम और फूलों के साथ घुमाना। गणेश मंदिरों और सार्वजनिक स्थापनाओं में प्रार्थना सभी दिन शाम को और कुछ स्थानों पर सुबह को भी की जाती है।

विशेष प्रदर्शन: कुछ सार्वजनिक स्थापनाओं में भगवान गणेश के साथ नृत्य, संगीत और स्किट्स के साथ प्रदर्शन भी हो सकता है।

मोदक बनाना और खाना: मोदक को भगवान गणेश की पसंद कहा जाता है। इसलिए, इन मिठासें बनाई और त्योहार के दौरान प्रसाद के रूप में बाँटी जाती हैं। इस समय अन्य खाद्य आइटम जैसे कि लड्डू, बर्फी, पेढ़ा और सुंदल भी बाँटे जाते हैं।

विसर्जन-Visarjan : यह मूर्ति को जल सरोवर में डूबाने का कार्यक्रम होता है और त्योहार के आखिरी दिन – सातवें से ग्यारहवें दिन के बीच – किया जाता है। इसके साथ ही भगवान के साथ एक प्रक्रिया के साथ लोग भजन और मंत्रों का पाठ करते हैं और मांगते हैं कि वह अब तक की गलतियों के लिए क्षमा करें और उन्हें सही मार्ग पर रहने में मदद करें। गणेश को घर/स्थान की सैर के लिए धन्यवाद दिया जाता है, लोगों के मार्ग से रुकावट हटाने के लिए, और वह शुभता प्रदान करने के लिए।

विदाई प्रक्रिया

विदाई प्रक्रिया, या गणेश विसर्जन, त्योहार का ग्रैंड समापन होता है। इसमें भगवान की स्थापित मूर्तियाँ पानी में डूबाई जाती हैं। डूबाने का काम सबसे निकट सरोवर, झील, नदी, या समुंदर में किया जा सकता है। जिन लोगों के पास बड़े पानी का स्रोत नहीं होता है, वे अपने घर में मूर्ति को एक छोटे बर्तन या पानी की बैरल में डूबाने का प्रतीक मूर्ति में कर सकते हैं।

मूर्ति स्थापना स्थल से लेकर – घर या सार्वजनिक पंडाल – मूर्ति को बड़े जुलूस के साथ पानी के बड़े स्रोत में ले जाया जाता है, जिसमें भक्त भजन या गीत गाते हैं। मूर्ति के आकार के आधार पर, इसे परिवार के मुखिया या क्षेत्र के प्रतीकात्मक मुखिया की कंधों पर लिया जा सकता है, या एक लकड़ी के कैरियर पर, या एक वाहन में।

इन सभी प्रक्रियाओं के साथ, गणेश बापा मोरिया, भजनों, नृत्य और प्रसाद और फूलों के बाँटने के ध्वनियों के साथ साथ होते हैं।

त्योहार के आखिरी दिन पर मूर्तियों को पानी में डूबाने का क्रियाकलाप क्यों किया जाता है?

गणेश विसर्जन का संकेत त्योहार के समापन को और यह भी दिखाता है कि पृथ्वी पर सब कुछ आखिरकार प्राकृतिक तत्वों में एक से या एक से अधिक के साथ मिल जाता है। इसका यह भी संकेत है कि भगवान विनायक का जन्म चक्र – वह मिट्टी से पैदा हुआ था और उसी रूप में प्राकृतिक तत्वों में लौट जाता है। शाब्दिक शब्दों में, वह अपने भव्य आवास की ओर जा रहे हैं, उनके भक्तों के साथ 7 से 10 दिनों के लिए रहकर।

2023 में गणेश चतुर्थी छुट्टियों का बिताने के लिए स्थान

निम्नलिखित हैं 2023 में गणेश चतुर्थी के छुट्टियों के दौरान देश के पांच प्रमुख गंगा किनारे स्थल:

मुंबई: मुंबई, महाराष्ट्र की राजधानी, भगवान विनायक चतुर्थी का जश्न बड़े उत्साह और उत्साह के साथ मनाता है। हर साल 6000 से अधिक मूर्तियाँ आयोजित की जाती हैं। यह त्योहार राष्ट्रीय रूप से मनाया जाता है, लेकिन सबसे अधिक भव्यता मुंबई शहर में देखी जाती है। पॉपुलर गणेश पंडाल्स में लालबौगचा राजा और खेतवड़ी गणराज शामिल हैं।

पुणे: पुणे, महाराष्ट्र की सांस्कृतिक राजधानी, देश में विनायक चतुर्थी मनाने का सबसे बड़ा जश्न होता है। यह त्योहार पुणे के सामाजिक, धार्मिक और सामाजिक जीवन में सबसे आनंदमय और रंगीन घटना होती है। पुणे के पांच प्रमुख मूर्तियाँ कस्बा गणपति, तुलसी बाग, केसरीवाड़ा गणपति, गुरुजी तालिम और जोगेश्वरी गणपति से बनती हैं।

हैदराबाद: पुणे और मुंबई की तरह, आंध्र प्रदेश की राजधानी हैदराबाद गणेश चतुर्थी के शाही जश्न को देखने के लिए पॉपुलर स्थलों में से एक है। खरीताबाद में राष्ट्र में सबसे बड़ी गणेश मूर्ति होती है। खरीताबाद के गणेश उत्सव समिति ने सबसे बड़ी गणेश मूर्ति स्थापित करेगी।

गोवा: गणेश के त्योहार का गोवा राज्य के लोगों के दिलों में एक विशेष स्थान है, भारत के सबसे छोटे राज्य में। यह मस्ती और मजाक का आयोजन है। इसके अलावा, यह परिवारों और दोस्तों के बीच पुनर्मिलन का भी अवसर प्रदान करता है। विभिन्न व्यापार संघ गणपति की मूर्तियाँ राज्य भर में स्थापित करते हैं।

गणपतिपुले: गणपतिपुले, एक छोटा शहर, समुंदर की कुछ आकर्षक दृश्यों की पेशकश करने वाले कुछ दृष्टिकोण और समुंदर के पर्याप्त दृष्टिकोणों के साथ आता है। गणपतिपुले का स्वयंभू गणपति मंदिर अपनी विशेष गणपति की मूर्ति के लिए प्रसिद्ध है। इस मंदिर ने त्योहार का केंद्र हमेशा बनाया है।

गणेश चतुर्थी का महत्व और महत्वपूर्ण स्थलों पर उसका उत्सव आपके पास हो सकता है, लेकिन यहाँ दिए गए प्रमुख स्थल हैं जो इसे विशेष रूप से मनाते हैं।

2023 में गणेश चतुर्थी कब है?

2023 में गणेश चतुर्थी 19 सितंबर को शुरू होगी और 10 दिन तक चलेगी।

उत्तर भारत में गणेश विसर्जन नही करना चाहिए ?

उत्तर भारत में गणेश विसर्जन नही करना चाहिए क्योंकि गणेश जी केवल एक सप्ताह के लिए उत्तर से दक्षिण भारत, अपने भाई कार्तिकेय जी से मिलने गए थे।
इसीलिए दक्षिण भारत में ये पर्व मनाया जाता है तथा उन्हें फिर अगले साल आने का निमंत्रण दिया जाता है।
उत्तर भारत में गणेश जी सदा विराजमान रहते है।
जरा सोचिए, अगर आप गणेश जी विसर्जित करके कहेंगे की अगले बरस तू जल्दी आ, तो फिर दीपावली पर किसका पूजन करेंगे। कुछ त्योहारों का भौगोलिक महत्व होता है अतः अंधविश्वास की भेड़ चाल न अपनाएं

क्या गणेश चतुर्थी एक राष्ट्रीय अवकाश है?

नहीं, गणेश चतुर्थी एक राष्ट्रीय या सार्वजनिक अवकाश नहीं है। यह एक क्षेत्रीय अवकाश है क्योंकि यह त्योहार देश के कुछ हिस्सों में मनाया जाता है, जैसे महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, और गुजरात।

क्या गणेश चतुर्थी बैंक अवकाश है?

हां, गणेश चतुर्थी भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के अनुसार सात राज्यों में एक बैंक अवकाश है, और वो राज्य हैं: कर्नाटक, महाराष्ट्र, गुजरात, गोवा, तेलंगाना, उड़ीसा, और तमिलनाडु।

क्या गणेश चतुर्थी 10 दिनों या 11 दिनों तक मनाया जाता है?

गणेश चतुर्थी या गणेश उत्सव, गणेश विसर्जन सहित, 10 दिनों के लिए मनाया जाता है।

2023 में गणेश विसर्जन कब है?

2023 में गणेश विसर्जन 28 सितंबर (बृहस्पतिवार) को है।

गणेश चतुर्थी किसने शुरू की थी?

छत्रपति शिवाजी महाराज ने संस्कृति और राष्ट्रवाद को बढ़ावा देने के लिए गणेश चतुर्थी का आयोजन किया था, जैसे कि ऐतिहासिक सबूत है।

गणेश चतुर्थी का वास्तविक कारण क्या है?

भगवान गणेश की पूजा या गणेश चतुर्थी का जश्न जन्म, जीवन और मृत्यु के चक्र का प्रतीक होता है। मूर्ति को पानी में डुबोकर, घर की सभी बाधाएँ नष्ट हो जाती हैं, ऐसा माना जाता है।

गणेश चतुर्थी के उद्देश्य क्या हैं?

गणेश चतुर्थी को मनाने के पीछे का मुख्य उद्देश्य है हमारी प्रार्थनाओं के लिए भगवान गणेश की कृतज्ञता व्यक्त करना और हमारे जीवन के लिए उनका आशीर्वाद मांगना है, ताकि हम समृद्धि के साथ आगे बढ़ सकें।

गणेश के पसंदीदा फूल क्या हैं?

भगवान गणेश के पसंदीदा फूल हैं एक, लाल फूलों वाला हिबिस्कस (Hibiscus Rosa-Sinensis) और इसे गणेश चतुर्थी के सभी दिनों के लिए इस फूल का उपयोग करने की सिफारिश की जाती है।

भगवान गणेश के पसंदीदा खाना क्या है?

भगवान गणेश का पसंदीदा खाना है मोदक, जिसमें चावल या गेहूं का आटा होता है और इसमें नारियल और गुड़ का मिश्रण भरकर बनाई जाती है।

Leave a Reply

Categories