Sri Krishna Janmashtami 2023

  • Home
  • Blog
  • Sri Krishna Janmashtami 2023

Sri Krishna Janmashtami 2023

Sri Krishna Janmashtami वह त्योहार है जो मथुरा में भगवान कृष्ण की जन्म जयंती को मनाता है। इसका आयोजन हिंदू पंचांग के अनुसार भाद्रपद मास के अष्टमी तिथि के अंधकार अवधि में किया जाता है। पंचांग के अनुसार, यह त्योहार जुलाई या अगस्त महीने में आता है। इस वर्ष, यह 7 सितंबर को मनाया जाएगा।

Sri Krishna Janmashtami 2023 Date & Muhurat ( दिनांक और मुहूर्त)

जन्माष्टमी – गुरुवार, 7 सितंबर 2023

निशित  पूजा का समय – रात 12:02 बजे से रात 12:48 बजे तक, 7 सितंबर 2023

अवधि: 00 घंटे 46 मिनट

मध्यरात्रि का समय – रात 12:25 बजे, 7 सितंबर

चंद्रोदय – रात 11:15 बजे

रोहिणी नक्षत्र की शुरुआत – सितंबर 06, 2023, सुबह 09:20 बजे

रोहिणी नक्षत्र की समाप्ति – सितंबर 07, 2023, सुबह 10:25 बजे

अष्टमी तिथि की शुरुआत – सितंबर 06, 2023, दोपहर 03:37 बजे

अष्टमी तिथि की समाप्ति – सितंबर 07, 2023, दोपहर 04:14 बजे

जन्माष्टमी के त्योहार के बारे में सबकुछ (All about the Festival of Janmashtami)

देश की विविधता ऐसी है जहां अलग-अलग त्योहारों का आत्मीयता और आनंद के साथ मनाया जा सकता है। Sri Krishna Janmashtami 2023 इनमें से एक त्योहार है जो भगवान विष्णु के अवतार, भगवान कृष्ण की जन्म जयंती को मनाता है। यह लोकप्रियता से ज्ञात भी है जिसे गोकुलाष्टमी के नाम से भी जाना जाता है और यह भाद्रपद मास के अष्टमी तिथि को पड़ता है। हिंदू धर्म के पुराणों के अनुसार, भगवान विष्णु ने कृष्ण भगवान के रूप में पृथ्वी पर अवतार लिया था ताकि वह देवकी के भाई कंस का वध कर सके।

कृष्ण जन्म की कथा।Shri Krishna Janam ki Katha।

द्वापर युग में भोजवंशी राजा उग्रसेन मथुरा में शासन करते थे। उनके शौकीन पुत्र कंस ने उन्हें पद से हटा दिया और खुद मथुरा का राजा बन गया। कंस की एक बहन देवकी थी, जिसकी विवाह यदुवंशी सरदार वसुदेव से हुआ था।

एक दिन कंस अपनी बहन देवकी को उसके ससुराल ले जाने का सोच रहा था।

रास्ते में एक आवाज सुनाई दी – ‘हे कंस, जिस देवकी को तू प्रेम से ले जा रहा है, उसी में तेरा काल निवास करता है। उसके गर्भ से उत्पन्न होने वाला आठवां बालक तेरे वध करेगा।’ इस सुनकर कंस वसुदेव को मारने की योजना बनाई।

तब देवकी ने विनयपूर्वक कहा – ‘मेरे गर्भ से जो संतान होगी, मैं उसे तुम्हारे सामने लाऊंगी। बहनोई को मारने से क्या लाभ होगा?’

कंस ने देवकी की बात स्वीकार की और मथुरा लौट आया। उसने वसुदेव और देवकी को कारागृह में बंद कर दिया।

वसुदेव-देवकी के सात बच्चे हुए, परंतु कंस ने सभी को मार दिया। अब आठवां बच्चा जन्म लेने वाला था। कारागृह में उन पर कठोर पहरे लगाए गए। उसी समय नंद की पत्नी यशोदा भी गर्भवती थी।

उन्होंने वसुदेव-देवकी के दुखी जीवन को देखते हुए आठवें बच्चे की रक्षा के लिए उपाय ढूंढ़ा। जिस समय वसुदेव-देवकी को पुत्र जन्म हुआ, उसी समय संयोग से यशोदा के गर्भ से एक कन्या का जन्म हुआ, जो केवल ‘माया’ थी।

जहां देवकी-वसुदेव की कारागृह में बंदगी हो रही थी, वहां अचानक प्रकाश दिखाई दिया और उनके सामने शंख, चक्र, गदा, पद्म धारण किए चतुर्भुज भगवान प्रकट हुए। दोनों भगवान के पादों में गिर पड़े। तब भगवान ने कहा – ‘अब मैं नवजात शिशु के रूप में धारण कर लेता हूं।

तुम मुझे इसी समय अपने मित्र नंदजी के घर वृंदावन भेज आओ और वहां जो कन्या जन्मी है, उसे कंस के पास ले जाओ। वातावरण अनुकूल नहीं होगा, फिर भी चिंता न करो।

कारागृह के फाटक अपने आप खुल जाएंगे और उफनती अथाह यमुना तुमको पार जाने का मार्ग दे देगी।’

उसी समय वसुदेव नवजात शिशु-रूप श्रीकृष्ण को सूप में रखकर कारागृह से निकल पड़े और अथाह यमुना को पार कर नंदजी के घर पहुंचे। वहां उन्होंने नवजात शिशु को यशोदा के साथ सुला दिया और कन्या को लेकर मथुरा आ गए। कारागृह के फाटक पूर्ववत बंद हो गए।अब कंस को सूचना मिली कि वसुदेव-देवकी को बच्चा पैदा हुआ है।

उसने बंदीगृह में जाकर देवकी के हाथ से नवजात कन्या को छीनकर पृथ्वी पर पटक देना चाहा, परंतु वह कन्या आकाश में उड़ गई और वहां से कहा- ‘अरे मूर्ख, मुझे मारने से क्या होगा? तुझे मारनेवाला तो वृंदावन में जा पहुंचा है। वह जल्द ही तुझे तेरे पापों का दंड देगा।’ यह है कृष्ण जन्म की कथा।

Sri Krishna Janmashtami Puja Vidhi (पूजा विधि)

इस त्योहार की पूजा विधि बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि इसके माध्यम से लड्डू गोपाल की जन्म जयंती का जश्न मनाया जाता है। यहां हमने इस अवसर के लिए एक विस्तृत पूजा विधि को नीचे सूचीबद्ध किया है जो आपको इस पूजा के सबसे अधिक लाभ दिलाने में मदद करेगी:

सुबह स्नान करें और साफ कपड़े पहनें।

शाम को पूजा की तैयारियाँ शुरू करेंशाम को, सौंदर्य से सजी श्री कृष्ण की पैना (क्रेडल) सजाएं और पूजा स्थल को गंगाजल से साफ करें।

रात में, पूजा की शुरुआत करें ध्यान से। अपनी आत्मा को प्रभु से जोड़ें।

ध्यान से श्री कृष्ण की मूर्ति को पालना पर स्थापित करें। जिनके पास ऐसी पालना नहीं हैं, वे एक लकड़ी की चौकी का उपयोग भी कर सकते हैं।

पूजा का आरंभ पाद्या करके करें, देवता के पैरों को पानी चढ़ाने के रूप में जाना जाता है।

देवता को अर्घ्य दें।

देवता को अर्घ्य के बाद पानी पिएं। इसे आचमन कहा जाता है।

अब देवता की स्नान विधि का पालन करें। पंचामृत (घी, शहद, दूध, दही और गंगाजल का मिश्रण) को मूर्ति पर डालें। पंचामृत के पांच घटकों को संग्रहीत करें और बाद में प्रसाद के रूप में सेवा करें।

मूर्ति को नई कपड़े और आभूषणों से सजाएं। इसे देवता की श्रृंगार कहा जाता है।

देवता को पवित्र जनेऊ दें।

देवता पर चंदन का पेस्ट लगाएं।

देवता को आभूषण, मुकुट, मोर पंख और बांसुरी से सजाएं।

तुलसी की पत्तियों और फूलों का भोग दें।

एक तेल की दीपक जलाएं।

देवता को भोग का अर्पण करें। इस अवसर पर श्री कृष्ण की पसंदीदा मक्खन और मिश्री न भूलें।

देवता के लिए तांबूलम (नारियल, पान, सुपारी, कुंकुम और हल्दी) का अर्पण करें।

दान (दक्षिणा) दें।

कुंज बिहारी की आरती गाएं ताकि भगवान प्रसन्न हों।

आरती के बाद परिक्रमा करें।

हाथ जोड़कर भगवान से प्रार्थना करें कि वह आपको और आपके परिवार को सभी बुराईयों से सुरक्षित रखें।

श्री कृष्ण जन्माष्टमी के ज्योतिषीय महत्व (Astrological Significance of Sri Krishna Janmashtami)

श्री कृष्ण जन्म की कथा के पीछे की बातें निश्चित रूप से बहुत रोचक और मोहक हैं। उनका जन्म हुआ था अष्टमी तिथि के रोहिणी नक्षत्र में, जिसे कृष्ण पक्ष के विपरीत अवधि के दौरान भद्रपद मास के रूप में जाना जाता है। इसलिए, श्री कृष्ण जन्माष्टमी कीतारीखें और समय को इन ज्योतिषीय गणनाओं के आधार पर निर्धारित किया जाता है।

उनका जन्म सबसे अधिक धर्म की अवस्था को स्थापित करने के लिए निश्चित था, जब दुनिया में अधर्म की उच्चता प्राप्त होती थी। वे संरक्षक हैं जो अधर्म और उसके अनुयायों द्वारा प्राप्त की जाने वाली विनाश से दुनिया को बचाते हैं। कृष्ण ने अपने दुश्मन कंस को समाप्त कर दिया क्योंकि उसकी बुरी कर्मों की ऊँचाई पर पहुंच गई थी। इसलिए, जब दुनिया अव्यवस्था और आतंक से घिरी होती है, तो भगवान विष्णु अलग-अलग रूपों में पृथ्वी पर अवतरण करके धर्म की पुनर्स्थापना करते हैं।

जन्माष्टमी के त्योहार का महत्व (Significance of Krishna Janmashtami Festival)

हिंदू धर्म के प्रमाणिकता के अनुसार, श्री कृष्ण मथुरा नगर में भाद्रपद मास की कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को जन्मे थे। वे देवकी और वसुदेवा के पुत्र थे। देवकी मथुरा के राक्षस राजा कंस की बहन थीं। एक पूर्वज्ञान के अनुसार, कंस के पापों का प्रायश्चित्त होने वाला था और वह देवकी के आठवें बेटे द्वारा मारा जाएगा। इसलिए, कंस ने अपनी बहन और उसके पति को कैद कर लिया। वह उनके बच्चों को जन्म देते ही मारने का प्रयास करता था ताकि पूर्वानुमान सच न हो सके।

जब देवकी के आठवें बेटे को जन्म दिया गया, तो पूरा महल मायावी रूप से अच्छी तरह से सो गया और वसुदेवा ने रात के बीच में उसे कंस के क्रोध से बचाने के लिए मथुरा के यशोदा और नंदा के घर में स्थानांतरित कर दिया। यह बच्चा भगवान विष्णु का अवतार था और उसे श्री कृष्ण के नाम से जाना जाता है, जिन्होंने अंत में कंस को मार डाला और उसके आतंक का अंत किया।

जन्माष्टमी के साथ जुड़े रस्में (Rituals Associated with Sri Krishna Janmashtami Festival)

यह त्योहार युवा और बुजुर्ग दोनों द्वारा चिंतन किया जाता है और इसके साथ अनेक रस्मों का संबंध होता है। आइए, इस दिन के कुछ महत्वपूर्ण रस्मों पर एक नज़र डालें:

देवों की पूजा के लिए उपवास रखें। पूरा दिनउपवास में बिताएं, और उसका तोड़ा रात को करें, जो भगवान कृष्ण के जन्म का समय माना जाता है।

पूजा के दौरान, पूरे दिन भगवान के नाम का जाप करें, भक्ति और समर्पण की भावना के साथ आस्था करें।

विशेष रूप से कृष्ण मंदिरों में भजनों का पाठ करें। भगवान की प्रशंसा में गाए जाने वाले भजन चरम आनंद का सृजन करते हैं।

कृष्ण के जीवन की घटनाओं की प्रतिभा करते हुए स्किट आयोजित करें। बच्चे कृष्ण और उनकी गोपियों के रूप में वेशभूषा कर गाते हुए रासलीला भी आयोजित की जाती है।

माखन भगवान के लिए बहुत प्यारा होता है, इसलिए यह दिन का महत्वपूर्ण व्यंजन है। खीर में ड्राई फ्रूट्स, दूध, खोया और चीनी का उपयोग करके मिठाई तैयार की जाती है, जो छोटे गोपाल को प्रसन्न करने के लिए उपयोग होती है।

जीवन के अर्थ और कृष्ण की शिक्षाओं की याद के लिए भगवद्गीता के पाठ होते हैं। यह हमें सच्ची जीवन की शिक्षा देते हैं।

जन्माष्टमी से जुड़े पुराण (Puran Related to  Shri Krishna Janamastmi)

कृष्ण के जन्म से जुड़े पुराण के अनुसार, मथुरा नगर भगवान कृष्ण के जन्म के समय दिव्य हस्तक्षेप के कारण सो गया था। यह वसुदेव को स्थिति का लाभ उठाने का मौका दिया, जिन्होंने बारिश के बीच अपने नवजात बेटे को मथुरा से यशोदा और नंद के घर में छोड़ दिया। वसुदेव ने यमुना नदी के तेजी से बहते हुए जल में बच्चे को लेकर पार किया। यहां पहुंचकर वसुदेव एक गोधन को ले आए, जो एक बाल ब्रह्मचारी था। कंस ने सोचा कि यह नवजात बच्चा वसुदेव का तीसरा बेटा है, लेकिन वसुदेव ने अपनी बाल ब्रह्मचारी को देखकर समझा कि यह कृष्ण है, भगवान विष्णु का अवतार।

वसुदेव ने बाल ब्रह्मचारी को मथुरा के महल में छोड़ दिया, जहां उसे नंद और यशोदा ने अपना गोधन माना और उसे पालना प्रारंभ किया। उनकी मधुर बांसुरी की ध्वनि और रासलीला में उनकी प्रेमी गोपियाँ भगवान के प्यार और आत्मीयता की प्रतीक हैं।

जन्माष्टमी का महत्व ( Importance of Janamastmi)

श्री कृष्ण जन्माष्टमी एक महत्वपूर्ण हिंदू त्योहार है जो भगवान कृष्ण के जन्मदिन को मनाता है। यह त्योहार भक्ति, आस्था और भक्ति की भावना को प्रकट करने का अवसर प्रदान करता है। इस दिन भक्त अपनी आत्मा को भगवान के साथ जोड़कर उनके अद्भुत लीलाओं और उपदेशों को याद करते हैं। जन्माष्टमी पर भगवान की पूजा-अर्चना, भजन, कथा पाठ, व्रत और संगीत कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है।

इस त्योहार का महत्व भारतीय सांस्कृतिक और धार्मिक परंपराओं में गहरा है और यह आदिकाल से मनाया जाता रहा है। जन्माष्टमी उत्सव भगवान कृष्ण के जीवन और उपदेशों का आदान-प्रदान करता है और लोगों को धार्मिक और आध्यात्मिक मार्गदर्शन प्रदान करता है। यह एक प्रसन्न और मनोहारी त्योहार है जो भक्तों को शांति, सुख और प्रेम की अनुभूति का अवसर देता है।

जन्माष्टमी का धार्मिक और आध्यात्मिक महत्व अपार है। इस त्योहार में भक्तों को भगवान कृष्ण के उपदेशों की याद दिलाई जाती है। श्रीमद् भगवद्गीता के माध्यम से भगवान कृष्ण ने मानवता को जीवन के सार और मार्गदर्शन का उपहार दिया है। उनके उपदेश जैसे कर्मयोग, भक्तियोग और ज्ञानयोग हमें एक सच्चे और प्रमुख मार्ग पर ले जाते हैं। इसलिए, जन्माष्टमी का उत्सव भक्तों के लिए एक महत्वपूर्ण अवसर है जब वे भगवान कृष्ण की आराधना करके उनके उपदेशों को अपनाते हैं।

इस दिन के साथ-साथ जन्माष्टमी के कुछ प्रमुख रस्में जुड़ी होती हैं। यह त्योहार उत्साह और हर्ष के साथ मनाया जाता है। भक्त इस दिन उपवास रखते हैं और रात को भगवान कृष्ण के जन्म का समय आने पर उपवास को तोड़ते हैं। भक्तों की अपार भक्ति और समर्पण के साथ भगवान का नाम जाप किया जाता है। भजनों का पाठ किया जाता है और भगवान की महिमा में गाने गाए जाते हैं।

जन्माष्टमी के दौरान कृष्ण भगवान के जीवन के घटनाओं की प्रस्तुति की जाती है। रासलीला आयोजित की जाती है जिसमें बच्चे कृष्ण और उनकी गोपियों के रूप में विभूषित होकर नृत्य करते हैं। इस दिन भगवान कृष्ण के प्रिय आहार में माखन शामिल होता है। सूखे मेवे, दूध, खोया और चीनी का उपयोग करके मिठाई बनाई जाती है जो छोटे गोपाल को प्रसन्न करने के लिए प्रसाद के रूप में उपयोग होती है।

जन्माष्टमी का त्योहार भारतीय सांस्कृतिक एवं धार्मिक विरासत में एक महत्वपूर्ण स्थान रखता है। यह भक्तों के द्वारा विशेष आत्मानुभूति और पूजा का समय होता है। यह एक आनंददायक और उत्साहदायक त्योहार है जो भक्तों को आशीर्वाद, खुशी और प्रेम की अनुभूति प्रदान करता है। भगवान कृष्ण की आराधना करने से हमें शांति, समृद्धि और सद्गति की प्राप्ति होती है। इसलिए, जन्माष्टमी को धार्मिक एवं आध्यात्मिक दिनों का प्रतीक माना जाता है, जो हमारी आत्मा को शुद्ध और पवित्र बनाता है।

जन्माष्टमी का त्योहार हर साल उत्साह और जोश के साथ मनाया जाता है। भक्त अपनी श्रद्धा और भक्ति के साथ इस अद्भुत उत्सव को मनाते हैं और भगवान कृष्ण की कृपा को प्राप्त करते हैं। जन्माष्टमी हमें एक उज्ज्वल भविष्य की आशा देता है और हमें धार्मिकता, प्रेम, और न्याय के मार्ग पर चलने का संकेत देता है।

इस जन्माष्टमी पर, हम सभी अपनी आत्मा को भगवान के साथ जोड़कर उनके उपदेशों का पालन करें और उनके द्वारा दिखाए गए मार्ग पर चलें। यह त्योहार हमें ध्यान करने, विचार करने, और अच्छाई का प्रचार करने का अवसर देता है। इस जन्माष्टमी पर हम सभी को यह संदेश मिलता है कि हमें सदैव भगवान के दिशानिर्देशों पर चलना चाहिए और उनके द्वारा दिए गए उज्ज्वल उदाहरण की प्रेरणा लेनी चाहिए। जन्माष्टमी के इस अवसर पर हमें यह याद रखना चाहिए कि जीवन में सत्य, प्रेम, और न्याय के मार्ग पर चलना हमारा महान संकल्प होना चाहिए और हमेशा सच्चाई और न्याय के लिए लड़ना चाहिए।

इस जन्माष्टमी को भगवान कृष्ण के जन्म की अनन्य महिमा और उनके प्रेम और आत्मीयता का प्रतीक मानना चाहिए। हमें यह याद रखना चाहिए कि जन्माष्टमी का त्योहार धार्मिक एवं आध्यात्मिक उत्साह का प्रतीक है और हमें उत्साहित करता है कि हमें सदैव भगवान के आदर्शों और उपदेशों का पालन करना चाहिए। इस जन्माष्टमी पर हमें धर्म, प्रेम, समर्पण, और सेवा के महत्व को समझना चाहिए और इनका अपने जीवन में अंकित करना चाहिए।

आओ हम सभी इस जन्माष्टमी को एक अद्भुत और आनंददायक उत्सव के रूप में मनाएं और भगवान कृष्ण के उपदेशों का समर्थन करें। यह हमें सच्ची खुशी और समृद्धि का आनंद देता है और हमें शांति, प्रेम और आनंद के मार्ग पर चलने का प्रेरणा प्रदान करता है। जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं!

कृष्ण जन्माष्टमी, जिसे गोकुलाष्टमी भी कहा जाता है, भगवान कृष्ण के जन्म की खुशीयों भरी हिंदू त्योहार है। सन् 2022 में, कृष्ण जन्माष्टमी 18 और 19 अगस्त को मनाई । भक्तजन इस शुभ अवसर का उत्सुकता से प्रतीक्षा करते हैं और दिव्य जन्म की याद में विभिन्न धार्मिक आयोजनों में भाग लेते हैं। इन उत्सव में उपवास, भक्तिमय गान, नृत्य और पवित्र पुस्तकों का पाठ होता है। मंदिर और घरों को सुंदर सजावट से सजाया जाता है, और लोग भगवान कृष्ण की आराधना करने के लिए संगठित होते हैं और उनसे आशीर्वाद मांगते हैं। भक्तों के मन में भक्ति और सम्मान से भरी वातावरण होती है, जबकि वे भगवान कृष्ण के दिव्य प्रेम और उनके उपदेशों में लीन होते हैं।

2022

Leave a Reply

Categories