Peetambari Neelam

  • Home
  • Blog
  • Peetambari Neelam

Peetambari Neelam

पीताम्बरी नीलम: Peetambari Neelam एक अनमोल रत्न, अद्वितीय शक्तियों का संगम

पीताम्बरी नीलम, रत्नों की दुनिया में एक अनमोल रत्न, जो अपनी अद्वितीय विशेषताओं और शक्तियों के लिए जाना जाता है। शास्त्रों में इसे अत्यंत महत्वपूर्ण माना जाता है, क्योंकि इसमें दो शक्तिशाली रत्नों – नीलम (नीला पुखराज) और पीले पुखराज (पीला पुखराज) – की संयुक्त ऊर्जा समाहित होती है।

रंगों का अद्भुत संगम ( Peetambari Neelam)

पीताम्बरी नीलम का नाम ही इसकी खासियत बयां करता है। नीले और पीले रंग का अद्भुत मिश्रण इसे अन्य रत्नों से अलग बनाता है। ज्योतिष शास्त्र में, इन दोनों रंगों के संयोजन को “सद्भाव स्टोन” या “गंगा-जमुना स्टोन” के नाम से भी जाना जाता है।

उत्पत्ति: Origin of Pitambari Neelam

यह दुर्लभ रत्न मुख्य रूप से श्रीलंका, मेडागास्कर और तंजानिया में पाया जाता है। पीताम्बरी नीलम को अंगूठी या पेंडेंट के रूप में धारण किया जाता है।

ज्योतिषीय प्रभाव: Astrological Effects of Peetambari Neelam

ज्योतिष विद्या के अनुसार, पीताम्बरी नीलम कुंडली में शनि और बृहस्पति ग्रहों की ऊर्जा को संतुलित करने में सहायक होता है। इन ग्रहों से जुड़े विभिन्न पहलुओं, जैसे व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन में सफलता, वित्तीय स्थिति में सुधार, और समग्र कल्याण में इसका विशेष महत्व माना जाता है।

पीताम्बरी नीलम के लाभ: Benefits of Peetambari Neelam

जीवन में स्थिरता और सफलता:

यह रत्न जीवन में स्थिरता और सफलता प्राप्त करने में मदद करता है।

वित्तीय समृद्धि:

पीताम्बरी नीलम धारण करने से वित्तीय स्थिति में सुधार होता है और धन प्राप्ति के अवसरों में वृद्धि होती है।

सुख-शांति और समृद्धि:

यह रत्न जीवन में सुख, शांति और समृद्धि लाने वाला माना जाता है।

स्वास्थ्य लाभ:

पीताम्बरी नीलम शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में सहायक होता है।

आध्यात्मिक उन्नति:

यह रत्न आध्यात्मिक उन्नति का मार्ग प्रशस्त करता है और ध्यान और एकाग्रता में वृद्धि करता है।

ग्रहों का संतुलन:

पीताम्बरी नीलम शनि और बृहस्पति ग्रहों के नकारात्मक प्रभावों को कम करने में मदद करता है।

विवाह में सुख:

यह रत्न वैवाहिक जीवन में सुख और समृद्धि लाने वाला माना जाता है।

व्यवसाय में सफलता:

पीताम्बरी नीलम व्यावसायिक सफलता प्राप्त करने और करियर में उन्नति करने में सहायक होता है।

ध्यान देने योग्य बातें:

पीताम्बरी नीलम रत्न हमेशा किसी योग्य ज्योतिषी या रत्न विशेषज्ञ की सलाह के बाद ही धारण करना चाहिए।

रत्न की शुद्धता और गुणवत्ता का ध्यान रखना आवश्यक है।

रत्न को धारण करने से पहले उचित मंत्रों से अभिमंत्रित किया जाना चाहिए।

निष्कर्ष: Cosnclusion

पीताम्बरी नीलम, अपनी अद्वितीय शक्तियों और लाभों के साथ, जीवन के विभिन्न पहलुओं में सकारात्मक बदलाव लाने वाला एक रत्न है। यदि आप भी अपने जीवन में सुख, समृद्धि और शांति प्राप्त करना चाहते हैं, तो पीताम्बरी नीलम आपके लिए एक उपयुक्त रत्न हो सकता है।

पीताम्बरी नीलम के बारे में कई रोचक बातें हैं, जिन पर हम चर्चा कर सकते हैं:

पीताम्बरी नीलम किसे धारण करना चाहिए? (Who Should Wear Pitambari Neelam?)

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, वृषभ, मिथुन, कन्या, तुला, धनु और मीन राशि के जातकों के लिए पीताम्बरी नीलम विशेष रूप से लाभदायक माना जाता है। हालांकि, किसी भी रत्न को धारण करने से पहले किसी ज्योतिषी से सलाह लेना हमेशा उचित होता है।

पीताम्बरी नीलम की देखभाल (Care for Pitambari Neelam)

अन्य रत्नों की तरह, पीताम्बरी नीलम की भी उचित देखभाल आवश्यक है। इसे कठोर रसायनों और अत्यधिक गर्मी से बचाना चाहिए। नियमित रूप से इसे हल्के गुनगुने पानी और हल्के साबुन से साफ करना चाहिए।

पीताम्बरी नीलम की कीमत (Cost of Pitambari Neelam)

पीताम्बरी नीलम की कीमत उसके आकार, रंग, कट और गुणवत्ता के आधार पर काफी हद तक भिन्न हो सकती है। एक ज्योतिषी या रत्न विशेषज्ञ से परामर्श करके आपको वर्तमान बाजार मूल्य का पता चल सकता है।

अंतिम विचार (Antim विचार – Final Thoughts)

पीताम्बरी नीलम रत्न ज्योतिष और आध्यात्मिक जगत में एक महत्वपूर्ण स्थान रखता है। यह माना जाता है कि यह रत्न सकारात्मक ऊर्जा प्रदान करता है और जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में सफलता प्राप्त करने में सहायक होता है। हालांकि, यह ध्यान रखना जरूरी है कि रत्न धारण करना ही सफलता का एकमात्र तरीका नहीं है। ज्योतिषीय सलाह के साथ-साथ कड़ी मेहनत और सकारात्मक दृष्टिकोण भी उतना ही महत्वपूर्ण है।


पीताम्बरी नीलम कौन पहन सकता है?

पीतांबरी नीलम कुंभ, मकर, धनु और मीन राशि के लोग पहन सकते हैं। लेकिन यहां हम ये देखना जरूरी होगा कि कुंडली में शनि या गुरु बृहस्पति नीच या शत्रु राशि में स्थित न हो। साथ ही कुंडली में गुरु बृहस्पति और शनि देव उच्च के स्थित हों तो पीतांबरी नीलम धारण कर सकते हैं।


पीतांबरी नीलम क्यों पहनते हैं?

पीतांबरी का सूर्य और बृहस्पति से सीधा संबंध है, इसलिए इस रत्न को धारण करने से व्यक्ति को जीवन के किसी भी क्षेत्र में अनुशासन और सटीक निर्णय लेने की रणनीति प्राप्त करने में मदद मिलेगी । ज्योतिषियों का दृढ़ विश्वास है कि यह बृहस्पति से ज्ञान प्रदान करता है और निर्णय और कौशल को बढ़ाता है।

आपको कैसे पता चलेगा कि नीलम काम कर रहा है या नहीं?

श्वास टेस्ट करें (Perform the breath test): नीलम को हाथ में लेकर इस पर अपने मुँह से भाप छोड़ें। अब गिनती गिने की इस भाप को कम होने में और पूरी तरह उड़ने में कितना समय लगता है। असली नग पर से भाप मात्र 1 या दो सेकंड में पूरी तरह उड़ जाती है जबकि आर्टिफिशियल नीलम पर से भाप को उड़ने में 5 सेकंड तक का समय लग सकता है।

नीलम पहनने ke बाद क्या नहीं खाना चाहिए?

रत्न धारण करने से पहले किसी ज्योतिषी से अपनी जन्मकुंडली अवश्य दिखवा लें. रत्न धारण करने के बाद इसे बार-बार उतारना नहीं चाहिए. अगर आपने नीलम रत्न धारण किया है तो शनिवार के दिन तामसिक भोजन और नशीले पदार्थों का सेवन न करें|


सबसे अच्छी नीलम कौन सी है?

ब्लू नीलम एक मेडागास्कर, तंजानिया, श्रीलंका, मयांमार, ऑस्ट्रेलिया और कश्मीर भारत से आता है। लेकिन अब तक का सबसे अच्छा नीला नीलम रत्न या बेहतरीन नीलम रतन कश्मीर, भारत और श्रीलंका नीले रंग के स्वर और अद्वितीय मखमली बनावट, कश्मीर और श्रीलंका नीलम से आता है।


नीलम कब नहीं पहनना चाहिए?

मेष, कर्क, सिंह, वृश्चिक, धनु और मीन राशि के लोगों को नीलम नहीं पहनना चाहिए। क्योंकि इस राशियों के स्वामी शनि देव से शत्रुता का भाव रखते हैं। इसलिए अगर आप नीलम धारण करेंगे तो करियर और कार्यक्षेत्र में कई परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। वहीं आकस्मिक धन की हानि हो सकती है।


नीलम कौन से धातु में पहने?

नीलम रत्न को पंचधातु में पहनना चाहिए. नीलम को बायें हाथ में सबसे छोटी अंगुली में पहनना चाहिए. नीलम को शनिवार मध्य रात्रि में धारण करना सबसे शुभ माना जाता है. नीलम रत्न को धारण करने से पहले अंगूठी को गंगाजल और गाय के कच्चे दूध से शुद्ध जरूर कर लें.

नीलम रत्न को जागृत कैसे करें?

रत्न का शम्मी के लकड़ी से 108 बार ” ॐ शन्नोदेवीरभिष्ट्यः आपोभवन्तुपीतये शंय्योरभिस्रवन्तुनः “मंत्र के उचारण के अभिषेक कीजिए। इससे रत्न जागृत होगा और सकारत्मक ऊर्जा प्रदान करेगा। नीलम धारण करने के पश्चात किसी को कोई झूठा आश्वासन न दीजिए नहीं तो दुष्परिणाम गंभीर होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Categories

Open chat
💬 Need help?
Namaste🙏
How i can help you?