Hanuman Jayanti- हनुमान जयंती 2024

  • Home
  • Blog
  • Hanuman Jayanti- हनुमान जयंती 2024

Hanuman Jayanti- हनुमान जयंती 2024

हनुमान जयंती 2024:

हिन्दू धर्म में कई सारे त्योहार मनाए जाते हैं जो अलग-अलग देवी-देवता को समर्पित होते हैं. इन्ही में से एक है हनुमान जयंती. हनुमान जी को भगवान शिव का 11वां रुद्रावतार माना जाता है. पवनपुत्र, संकटमोचन, बजरंगबली समेत हनुमान जी के कई नाम है. शास्त्रों में हनुमान जी की कई कथाएं हैं.

हनुमान जयंती पर करें ये उपाय:

पितृ दोष के लिए: पौष अमावस्या के दिन हनुमान जयंती मनाई जाती है. इस दिन पितृ दोष से छुटकारा पाने के लिए आप घर में या मंदिर में रामायण का पाठ कर सकते हैं. इससे पितृ खुश होंगे और पितृ दोष से मुक्ति मिल जाएगी. इसके अलावा हनुमान जी की कृपा भी आप पर बनी रहेगी.

सवामणी: हनुमान जयंती पर हनुमान जी को सवामणी प्रसाद अर्पित करें. ऐसा करने से आपकी हर मनोकामना पूरी होगी और जीवन में सुख-शांति की प्राप्ति होगी.

भंडारा: हनुमान जयंती के दिन भंडारा कराने से आर्थिक स्थिति अच्छी रहती है. इस दिन पहले हनुमान जी को भोग लगाएं फिर गरीबों और जरूरतमंदों को खाना खिलाएं. इससे घर में कभी भी धन की कमी नहीं होगी.

रोगों से मुक्ति: अगर आप या परिवार का कोई सदस्य लंबे समय से बीमार चल रहा हो तो हनुमान जयंती के दिन हनुमान चालीसा का 108 बार पाठ करें. ऐसा करने से बीमार व्यक्ति जल्दी स्वस्थ हो जाएगा.

हनुमान जयंती 2024 तिथि और शुभ मुहूर्त: Hanuman Jayanti Tithi- Shubh Muhurat

हनुमान जयंती 2024 की चैत्र पूर्णिमा तिथि 22 अप्रैल को सुबह 03:25 बजे शुरू होगी और 23 अप्रैल को सुबह 05:18 बजे समाप्त होगी. हनुमान जयंती मनाने की योजना बना रहे भक्तों को निम्नलिखित शुभ मुहूर्त समय का ध्यान रखना चाहिए:

हनुमान जयंती पूजा का समय (सुबह): सुबह 09:03 बजे से दोपहर 01:58 बजे तक

हनुमान जयंती पूजा का समय (रात): रात्रि 08:14 बजे से रात्रि 09:35 बजे तक

हनुमान जयंती का इतिहास और महत्व: Significance & History of Hanuman Jayanti

हनुमान जयंती भगवान हनुमान के जन्मदिन के रूप में मनाई जाती है, जो भगवान राम के महान भक्त और हिंदू महाकाव्य रामायण में एक केंद्रीय व्यक्ति थे। उनका जन्म चैत्र पूर्णिमा के दिन मंगलवार को सूर्योदय के ठीक बाद हुआ था। उनका जन्म चित्रा नक्षत्र और मेष लग्न में हुआ था। भगवान हनुमान को महादेव का अवतार माना जाता है और वे अपनी अष्ट सिद्धि और नव निधि के लिए जाने जाते हैं। वह शाश्वत ऊर्जा, निष्ठा और भक्ति का प्रतीक है। माना जाता है कि भगवान हनुमान की प्रार्थना करने से व्यक्ति के जीवन में सद्भाव, शक्ति और सफलता आती है।

हनुमान जयंती समारोह: Festival of Hanuman Jayanti

हनुमान जयंती भगवान हनुमान के भक्तों द्वारा बड़े उत्साह के साथ मनाई जाती है। इस शुभ दिन को मनाने के कुछ सामान्य तरीके यहां दिए गए हैं:

देशभर में भक्त हनुमान जयंती पर एक दिन का उपवास रखते हैं। कुछ लोग कुछ खाद्य पदार्थों से परहेज करके आंशिक उपवास भी रख सकते हैं।

भक्त हनुमान मंदिरों में पूजा-अर्चना करने और भगवान हनुमान से आशीर्वाद लेने जाते हैं।

भक्त भक्ति के प्रतीक के रूप में और उनकी सुरक्षा की कामना के लिए भगवान हनुमान की मूर्ति पर सिन्दूर (लाल सिन्दूर) लगाते हैं।

सुंदरकांड, रामायण का एक अध्याय जो हनुमान के वीरतापूर्ण कार्यों पर केंद्रित है, अक्सर हनुमान जयंती पर पढ़ा या सुनाया जाता है।

भक्त उनका आशीर्वाद पाने के लिए, भगवान हनुमान को समर्पित एक भजन, हनुमान चालीसा का जाप भी कर सकते हैं।

कुछ भक्त भगवान हनुमान का सम्मान करने के तरीके के रूप में दान के कार्यों में संलग्न होते हैं, जैसे गरीबों को खाना खिलाना या धर्मार्थ संगठनों को दान देना।

भक्त सत्संग (आध्यात्मिक सभा) में भाग ले सकते हैं जहाँ भगवान हनुमान की शिक्षाओं और गुणों पर चर्चा की जाती है।

हनुमान जयंती 2024 मंत्र: Hanuman Jayanti Mantra-2024

जो शत-बार पाठ कर कोई छूटे बंदि महा सुख होई..!!

नासे रोग हरे सब पीरा जपत निरंतर हनुमत बीरा..!!

अष्ट सिद्धि नव निधि के दाता अस वर दीन जानकी माता।

ॐ श्री हनुमते नमः।

इसके अतिरिक्त, हनुमान चालीसा, सुंदरकांड और बजरंग बाण भगवान हनुमान की स्तुति और आशीर्वाद पाने के लिए सबसे लोकप्रिय भजन हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Categories

Open chat
💬 Need help?
Namaste🙏
How i can help you?