Dhanteras 2023

  • Home
  • Blog
  • Dhanteras 2023

Dhanteras 2023

Dhanteras 2023- धनतेरस 2023-धनत्रयोदशी

हमारे हिंदू धर्म में हर साल पांच दिवसीय दीप पर्व का उत्सव मनाया जाता है। यह धनतेरस का त्‍योहार हिन्दू धर्म के लोगों के लिए सबसे बड़ा त्‍योहार माना जाता है।इस उत्सव को हिंदू पंचांग में काफी शुभ दिन माना जाता है, क्योंकि इस दिन माता लक्ष्मी, भगवान गणेश और भगवान कुबेर की पूजा की जाती है। इस दिन dhanteras puja करने से घर में धन और समृद्धि प्राप्त होती है। इस दिन लोग परिवार के साथ मां लक्ष्मी की पूजा करते हैं, दीये घर के बाहर जलाते हैं, और साथ ही Dhanteras 2023 पर सौभाग्य के प्रतीक माने जाने वाले सोने या चांदी की वस्तुएं खरीदते हैं।

धनतेरस दीवाली महोत्सव के पांच दिनों के महोत्सव का पहला दिन है और इसे आयुर्वेद और चिकित्सा के देवता भगवान धन्वंतरि की पूजा के लिए समर्पित किया जाता है। “धनतेरस” शब्द दो संस्कृत शब्दों से निकला है: “धन,” जिसका मतलब होता है धन, और “तेरस,” जिसका मतलब होता है 13वें दिन का। इस दिन, लोग अपने घरों को साफ सफाई करते हैं, उन्हें दीपकों और रंगोलियों से सजाते हैं, और संपदा और समृद्धि के आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए प्रार्थना करते हैं।

यह एक सामान्य परंपरा भी है कि सोने या चांदी के आइटम खरीदने और देने का समय है, क्योंकि माना जाता है कि धनतेरस पर प्रिय मेटल्स की प्राप्ति शुभ फल लाती है। बहुत से लोग शाम को तेल के दीपक जलाते हैं और अपने घरों में संपदा और समृद्धि को आमंत्रित करने के लिए विशेष पूजा करते हैं।

धनतेरस व्यापारी और व्यापारियों के लिए शुभ दिन होता है, क्योंकि यह हिन्दू वित्त वर्ष की शुरुआत की गणना की जाती है। इसे नए उद्यमों की शुरुआत करने या महत्वपूर्ण वित्तीय निर्णय लेने का अवसर माना जाता है।

The significance of Dhanteras- धनतेरस(धनत्रयोदशी) का महत्व

हमारे हिंदू धर्म में प्रति वर्ष पांच दिवसीय दीप पर्व का उत्सव मनाया जाता है, और इसमें से एक दिन है धनतेरस, जो हिन्दू धर्म के अनुयायियों के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है। इस उत्सव को हिंदू पंचांग में काफी शुभ दिन माना जाता है, क्योंकि इस दिन माता लक्ष्मी, भगवान गणेश और भगवान कुबेर की पूजा की जाती है। इस दिन धनतेरस का पूजन करने से घर में धन और समृद्धि की प्राप्ति होती है। इस दिन लोग परिवार के साथ मां लक्ष्मी की पूजा करते हैं, दीपक घर के बाहर जलाते हैं, और साथ ही धनतेरस 2023 के मौके पर सोने और चांदी की वस्तुएं खरीदते हैं।

The date of Dhanteras festiva- धनतेरस (धनत्रयोदशी) पर्व की तिथि

धनतेरस या धन तेरस को कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को मनाया जाता है। इस साल, 2023 में यह पावन त्योहार 10 नवंबर 2023 को शुक्रवार को मनाया जाएगा।

The auspicious timing of Dhanteras festival- धनतेरस(धनत्रयोदशी) पर्व का शुभ मुहूर्त

हिंदू पंचांग के अनुसार, इस साल धनतेरस का पर्व 10 नवंबर 2023 को शुक्रवार को मनाया जाएगा। धनतेरस पर्व के दिन पूजा के लिए शुभ मुहूर्त शाम 5 बजकर 25 मिनट से लेकर शाम 6 बजे तक होता है। इस दिन प्रदोष काल शाम के समय 5 बजकर 39 मिनट से लेकर शाम 8 बजकर 14 मिनट तक रहता है, जबकि वृषभ काल शाम 6 बजकर 51 मिनट से लेकर शाम 8 बजकर 47 मिनट तक रहता है।

धनतेरस (धनत्रयोदशी) पर्व की पूजा विधि- Worship Procedure of Dhanteras

पूजा के दौरान, देवी-देवताओं को फूल, अक्षत, धूप, दीप, भोग अर्पित किया जाता है। इसके बाद भगवान धनवंतरी और मां लक्ष्मी की आरती की जाती है और प्रसाद सभी को बांटा जाता है। इसके अलावा, शाम के समय प्रदोष काल में घर के मुख्य द्वार पर दीपक जलाया जाता है, और धनवंतरी देव, मां लक्ष्मी, और भगवान गणेश से सुख-समृद्धि की कामना की जाती है।

धनतेरस 2023 कुबेर पूजा के त्योहार का महत्व (The Significance of Dhanteras 2023 Kuber Puja)

धनतेरस एक प्रमुख हिन्दू त्योहार है जो भारतीय समुदाय में खास महत्व रखता है। इसे दीपावली के पंच दिनों के उत्सव का पहला दिन माना जाता है, और यह त्योहार धन, समृद्धि, और खुशियों की शुरुआत के रूप में मनाया जाता है। धनतेरस के दिन भगवान कुबेर की पूजा का विशेष महत्व होता है।

कुबेर – धन के देवता (Kubera – The Deity of Wealth)

भगवान कुबेर – धन के देवता (Lord Kubera – The Deity of Wealth)

भगवान कुबेर को धन का देवता माना जाता है। उनके पास विशेष रूप से धन की खजाना है, और वे धन के प्रमुख संचयक के रूप में जाने जाते हैं। कुबेर का धन हमें आर्थिक सुख और संपत्ति की प्राप्ति में मदद करता है।

कुबेर पूजा से माता लक्ष्मी का आशीर्वाद (Blessings of Goddess Lakshmi through Kubera Puja)

धनतेरस (धनत्रयोदशी) 2023 कुबेर पूजा से प्राप्त लाभ (Benefits of Dhanteras 2023 Kuber Puja)

धनतेरस के दिन भगवान कुबेर की पूजा करने से माता लक्ष्मी बड़े प्रसन्न होती हैं, और वह अपने भक्तों पर अपने आशीर्वाद के साथ वर्षा करती हैं। यह पूजा धन, ऐश्वर्य, और सुख-समृद्धि की प्राप्ति के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है।

भगवान कुबेर की पूजा विधि (Dhanteras 2023 Kuber Puja Vidhi)

धनतेरस 2023 कुबेर पूजा विधि (Dhanteras 2023 Kuber Puja Procedure)

धनतेरस के दिन भगवान कुबेर की पूजा करने के लिए निम्नलिखित विधि का पालन करें:

कुबेर यंत्र का स्थापना: सबसे पहले, कुबेर यंत्र को दक्षिण दिशा में स्थापित करें। यंत्र को ध्यान से रखें और उसका समर्पण करें।

गंगाजल के साथ विनियोग मंत्र का जाप: अगला कदम है कुबेर मंत्र का जाप करना। यंत्र के सामने बैठकर गंगाजल के साथ मंत्र का उच्चारण करें।

जल का अर्पण: जब मंत्र का जाप हो जाए, तो उस जल को भूमि पर अर्पित करें। इससे धन की प्राप्ति होती है।

कुबेर मंत्र का उच्चारण: फिर, कुबेर मंत्र का शुद्ध उच्चारण करें और भगवान कुबेर की आराधना करें।

आरती: पूजा को पूरा करने के बाद, आरती करना न भूलें। आरती के बिना पूजा पूरी नहीं होती है।

आस्था – विश्वास की शक्ति (Faith – The Power of Belief)

आस्था की शक्ति अत्यंत महत्वपूर्ण है। हमारा विश्वास हमारे कार्यों को सफल बना सकता है। धनतेरस के दिन हम भगवान कुबेर की पूजा करके यह दिखाते हैं कि हम विश्वास और आस्था से अपने लक्ष्यों की प्राप्ति कर सकते हैं।

धनतेरस (धनत्रयोदशी) 2023 पर क्या खरीदें?

कई लोग इस अवसर को कीमती धातु खरीदने के लिए भी उपयोगी मानते हैं। इसलिए, आप इस दिन कुछ खास उपहार विचार भी कर सकते हैं, जैसे सोने और चांदी के सिक्के, गहने, और बर्तन, ताकि आपके प्रियजनों के घर में समृद्धि और सौभाग्य की प्राप्ति हो।

धनतेरस, जो आने वाला है, धन, ऐश्वर्य और सुख-समृद्धि की प्राप्ति के लिए एक अद्वितीय और महत्वपूर्ण अवसर है, जो हम सभी को समृद्धि और खुशी लेकर आता है।

Dhanteras 2022

धनतेरस एक हिन्दू त्योहार है जो भारत और अन्य धार्मिक विश्वास वाले लोगों द्वारा मनाया जाता है। यह आमतौर पर हिन्दू पंचांग के आश्विन मास के कृष्ण पक्ष के 13वें दिन को मनाया जाता है, जो सामान्य रूप से अक्टूबर या नवम्बर में होता है। 2022 में, धनतेरस को 24 अक्टूबर को मनाया गया था।

संक्षेप में, 2022 में धनतेरस 24 अक्टूबर को मनाया गया था, और यह समृद्धि और कल्याण की खोज के लिए समर्पित मनाने का एक दिन था।

समापन (Conclusion)

धनतेरस के दिन भगवान कुबेर की पूजा करना हमारे धन, समृद्धि, और सुख-समृद्धि की प्राप्ति में मदद करता है। यह एक धार्मिक परंपरागत त्योहार है जो हमें आस्था, भक्ति, और धन के महत्व को समझाता है। इस त्योहार के माध्यम से हम ध्यान और आस्था के साथ अपने लक्ष्यों की प्राप्ति करने के महत्व को अनुसरण करते हैं, और भगवान कुबेर की कृपा से हमारा जीवन समृद्धि से भरा होता है।

Leave a Reply

Categories