Astrology Concepts

  • Home
  • Blog
  • Astrology Concepts

Astrology Concepts

ज्योतिषशास्त्र, एक प्राचीन विज्ञान है जो मानवीय जीवन के विभिन्न पहलुओं को समझने और प्रभावित करने का प्रयास करता है। इसकी उत्पत्ति प्राचीन समयों में हुई और विभिन्न संस्कृति और सभ्यताओं में विकसित हुई। यह भारतीय, यूरोपीय, चीनी, मिस्रियन, बाबिलोनी और अन्य सभ्यताओं में अपनी खास महत्ता रखता है।

ज्योतिषशास्त्र के मूल सिद्धांत ब्रह्माण्ड और मानवीय जीवन के बीच संबंधों के आधार पर प्रतिष्ठित हैं। इसे यह माना जाता है कि आकाश में स्थित नक्षत्रों, ग्रहों, सूर्य और चंद्रमा के आदिमत मूलभूत शक्तियां मानवीय जीवन पर सीधे और प्रत्यक्ष प्रभाव डालती हैं।

ज्योतिषशास्त्र के निम्नलिखित महत्त्वपूर्ण सिद्धांत हैं:

ग्रहों की गति:

ज्योतिष में ग्रहों की गति और चाल को महत्वपूर्ण माना जाता है। विभिन्न ग्रहों की चाल और स्थान पर आधारित फलादेश बनाए जाते हैं।

राशि और भाव:

ज्योतिष में 12 राशियाँ और 12 भावों का महत्त्वपूर्ण स्थान है। व्यक्ति की जन्म कुंडली में राशि और भावों का परिचय दिया जाता है और इसके आधार पर फलादेश तैयार किया जाता है।

योग और दशाएं:

ज्योतिषशास्त्र में विभिन्न योगों और दशाओं का महत्त्व है। योग विशेष ग्रही युतियों को संकेतित करते हैं जो व्यक्ति के जीवन पर प्रभाव डालते हैं। दशा व्यक्ति के जीवन में विभिन्न आयामों के लिए विशेष समयावधि को दर्शाती है।

कर्म और प्रारब्ध:

ज्योतिषशास्त्र में कर्म और प्रारब्ध के सिद्धांत भी महत्त्वपूर्ण हैं। इसे माना जाता है कि व्यक्ति के कर्मों का फल और प्रारब्ध उसकी जन्म कुंडली में व्यक्त होता है।

अष्टकवर्ग और महादशा:

ज्योतिषशास्त्र में अष्टकवर्ग और महादशा का भी महत्त्व है। अष्टकवर्ग में ग्रहों की स्थिति और सम्बन्ध पर आधारित फलादेश बनाए जाते हैं। महादशा व्यक्ति के जीवन में विशेष ग्रही ऊर्जाओं की कालधारा को दर्शाती है।

इन सिद्धांतों के आधार पर ज्योतिषशास्त्र व्यक्ति के जीवन के विभिन्न पहलुओं को समझने और उन पर प्रभाव डालने का प्रयास करता है। यह ज्ञान और अनुभव का संग्रह है जो विशेषज्ञता और अध्ययन के माध्यम से प्राप्त होता है।

1. ज्योतिष क्या है?

ज्योतिष एक विश्वास प्रणाली और अभ्यास है जो स्वर्गीय गतिविधियों और पृथ्वी पर घटित घटनाओं के बीच संबंध का अध्ययन करता है। इसका मानना है कि आकाशीय शरीरों, जैसे ग्रह और नक्षत्रों की स्थिति का मानव जीवन पर प्रभाव होता है।

2. ज्योतिष कैसे काम करता है?

ज्योतिष कार्यक्रम उस मूल धारणा पर काम करता है कि आकाशीय शरीरों की स्थिति विशिष्ट समयों पर मानव जीवन पर प्रभाव डालती है। यह जांचता है कि विशिष्ट समय पर आकाशीय शरीरों की स्थिति और संबंध उनके पोटेशियल प्रभावों को कैसे व्याख्या करते हैं।

3. ज्योतिष के मूल सिद्धांत क्या हैं?

ज्योतिष के मूल सिद्धांत में शामिल हैं कि आकाशीय शरीरों का मानव जीवन पर प्रभाव होता है, 12 राशियां विभिन्न गुणों को प्रतिष्ठित करती हैं और जन्म कुंडली या होरोस्कोप व्यक्ति की व्यक्तित्व और जीवन की घटनाओं के बारे में दर्शाती हैं।

4. होरोस्कोप क्या होता है?

होरोस्कोप व्यक्ति के जन्म के निश्चित समय, आमतौर पर जन्म के समय की साथ मानचित्र होता है। इसमें आकाशीय शरीरों, राशियों और घरों की स्थितियां दर्शाई जाती हैं, जो व्यक्ति की व्यक्तित्व गुणों और जीवन के अनुभवों के बारे में दर्शाने में मदद करती हैं।

5. होरोस्कोप या जन्म कुंडली कैसे बनाई जाती है?

होरोस्कोप या जन्म कुंडली बनाने के लिए, ज्योतिषशास्त्री को व्यक्ति के जन्म की तारीख, समय और स्थान की आवश्यकता होती है। इस जानकारी का उपयोग करके, ज्योतिषशास्त्री उस समय के आकाशीय शरीरों की स्थिति को चित्रित करता है, जिससे व्यक्ति की व्यक्तित्व और जीवन के पैटर्न का विवरण निकलता है।

6. जन्म कुंडली के विभिन्न घटक क्या होते हैं?

जन्म कुंडली में विभिन्न घटक होते हैं, जिनमें राशियां, ग्रह, घर, योग (आकाशीय शरीरों के बीच के कोणीय संबंध), और अन्य बिंदु या तत्व होते हैं, जिन्हें ज्योतिषशास्त्री अपने व्याख्यानों में ध्यान में रखते हैं।

Categories